खनन परमिट में धांधली की नियमित जांच को लोकायुक्त ने किया मंजूर

4पीएम न्यूज़ नेटवर्क
लखनऊ। पूर्व खनन मंत्री गायत्री प्रसाद प्रजापति और खनन विभाग के अधिकारियों के खिलाफ दाखिल शिकायत की लोकायुक्त ने नियमित जांच मंजूर कर ली है। इसलिए खनन परमिट में धांधली के काले कारनामों को अंजाम देने वाले अधिकारियों की मुसीबतें बढ़ गई हैं। लोकायुक्त ने नियमित जांच की मंजूरी एक्टिविस्ट डॉ. नूतन ठाकुर की शिकायत पर दी है। उन्होंने यह शिकायत दिसंबर 2016 में लोकायुक्त कार्यालय में दाखिल की थी।
जानकारी के मुताबिक लोकायुक्त को भेजी गई शिकायत में कहा गया है कि उदयपुर के एक व्यवसायिक समूह की तीन कंपनियों को 2014 में सोनभद्र में चाइना क्ले का 42.30 वर्ग किमी प्रॉस्पेसिंग लाइसेंस दिया गया। इन तीनों कंपनियों के निदेशक और पते एक ही थे। इसी समूह को चित्रकूट में 595 किमी क्षेत्र में पोटाश और अन्य खनिजों के लिए रीकानसन्स परमिट देकर तीन करोड़ रुपये का शुल्क माफ किया गया।
नूतन ठाकुर ने बताया कि लोकायुक्त जस्टिस संजय मिश्रा ने पत्र के माध्यम से जानकारी दी है कि परिवाद को नियमित जांच के लिए ग्रहण कर लिया है।

 

Pin It