सोमवती अमावस्या पर श्रद्धालुओं ने गंगा नदी में किया स्नान

हर-हर गंगे के उद्घोष के साथ लगाई डुबकी
 4पीएम न्यूज़ नेटवर्क
लखनऊ। सोमवती अमावस्या के मौके पर आज देश भर में श्रद्धालुओं ने नदी में स्नान किया। आज भोर से ही गंगा नदी के विभिन्न घाटों पर पहुंचे श्रद्धालुओं ने हर-हर गंगे के उद्घोष के साथ नदी में डुबकी लगाई। इसके बाद दान-पुण्य भी किया। श्रद्धालुओं की भीड़ को देखते हुए सुरक्षा व्यवस्था के भी कड़े इंतजाम किए गए थे। वहीं यातायात व्यवस्था में परिवर्तन होने के साथ वाहनों की रफ्तार भी काफी धीमी रही।
वैशाख मास भगवान शिव और भगवान विष्णु का प्रिय माह है। सोमवती अमावस्या का इस माह में आना अत्यंत शुभ माना जाता है। इसलिए आज गंगा नदी के घाटों पर इलाहाबाद, बनारस, कानपुर, अमरोहा, हापुड़ के साथ बुलंदशहर, गाजियाबाद, मेरठ, दिल्ली और हरियाणा तक से श्रद्धालु सोमवती अमावस्या के स्नान के लिए पहुंचे। भक्तों ने नदी में डुबकी लगाई। घाटों पर खासी चहल पहल थी। इधर स्नान के कारण आस-पास के मार्गों पर जाम लग गया। इलाहाबाद, बनारस, कानपुर, दिल्ली, मुरादाबाद में ट्रैफिक रेंगता नजर आया।

अमावस्या हर महीने आती है, लेकिन ऐसा बहुत कम होता है, जब अमावस्या सोमवार के दिन हो। कहा जाता है कि पांडव पूरे जीवन तरसते रहे परंतु उनके संपूर्ण जीवन में सोमवती अमावस्या नहीं आई। इस दिन को स्नान, दान के लिए सर्वश्रेष्ठ माना जाता है। सोमवार चंद्रमा का दिन है। इस दिन सूर्य तथा चंद्र एक सीध में स्थित रहते हैं। इसलिए यह पर्व विशेष पुण्य देने वाला है। सोमवती अमावस्या के दिन सूर्य नारायण को जल अर्पित करने से दरिद्रता दूर होती है। इस दिन नदी या सरोवर में स्नान कर भगवान शिव व माता पार्वती की पूजा करते हैं। अमावस्या के दिन वृक्ष से पत्ता तोडऩा भी वर्जित है। इस अमावस्या पर विवाहित स्त्रियों द्वारा पति की लंबी उम्र के लिए व्रत रखने का भी विधान है।

राज्यपाल रामनाईक को सीएम योगी ने दी जन्मदिन की शुभकामना

उप मुख्यमंत्री केशव प्रसाद मौर्य समेत कई मंत्री और नेता राजभवन पहुंचे
 4पीएम न्यूज़ नेटवर्क
लखनऊ। उत्तर प्रदेश के राज्यपाल राम नाईक का आज 85 वां जन्मदिवस है। उन्हें बधाई देने के लिए मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ के साथ डिप्टी सीएम केशव प्रसाद मौर्या भी राजभवन पहुंचे। जहां राज्यपाल के अनेकों शुभेच्छुओं ने उन्हें जन्मदिन की ढ़ेर सारी बधाई दी।
बता दें अपनी बेबाक राय के लिए मशहूर राज्यपाल राम नाईक का जन्म 16 अप्रैल 1934 को हुआ था। उन्होंने 22 जुलाई 2014 को उत्तर प्रदेश के राज्यपाल के रूप में नियुक्त किया गया था। वह बचपन से ही राष्ट्रीय स्वयं सेवक संघ के सक्रिय सदस्य के तौर पर जुड़े रहे। वे तीन बार विधायक और पांच बार सांसद रह चुके हैं। उनके लंबे संघर्ष के बाद ही बंबई का नाम बदलकर मुंबई रखा गया।
सांसद रहते हुए पेट्रोलियम एवं प्राकृतिक गैस मंत्री भी रहे। दीनदयाल जयंती पर 25 सितंबर 2013 को उन्होंने चुनावी राजनीति से संन्यास ले लिया था। फिलहाल वह उत्तर प्रदेश के राज्यपाल हैं। प्रदेश के कानून व्यवस्था से लेकर शिक्षा व्यवस्था तक पर उनकी पैनी नजर रहती है। वह बेबाकी के साथ अपनी राय रखने के लिए जाने जाते हैं।

मक्का मस्जिद ब्लास्ट केस में असीमानंद समेत सभी आरोपी बरी

एनआईए की विशेष अदालत ने सुनाया फैसला
कोर्ट के सामने मुकर गए 64 गवाह
 4पीएम न्यूज़ नेटवर्क
नई दिल्ली। एनआईए की विशेष अदालत ने 2007 के मक्का मस्जिद विस्फोट से जुड़े मामले में आज अपना फैसला सुना दिया। कोर्ट ने असीमानंद समेत सभी आरोपियों को बरी कर दिया। एनआईए, कोर्ट में इन आरोपियों के खिलाफ कोई ठोस सबूत नहीं रख पाया। इस विस्फोट में नौ लोगों की मौत हो गई थी।
एनआईए मामलों की चतुर्थ अतिरिक्त मेट्रोपोलिटन सत्र सह विशेष अदालत ने सुनवाई पूरी कर ली थी और पिछले हफ्ते फैसले की सुनवाई 16 अप्रैल तक के लिए टाल दी गई थी। गौरतलब है कि 18 मई 2007 को जुमे की नमाज के दौरान ऐतिहासिक मक्का मस्जिद में हुए विस्फोट में 9 लोगों की मौत हो गई थी और 58 लोग घायल हुए थे। स्थानीय पुलिस की शुरुआती छानबीन के बाद मामला सीबीआई को स्थानांतरित कर दिया गया था। इस धमाके में स्वामी असीमानंद समेत कुल 10 लोगों पर आरोप लगा था, एक आरोपी की मौत हो चुकी है। आरोपियों में स्वामी असीमानंद, देवेंदर गुप्ता, लोकेश शर्मा, लक्ष्मण दास महाराज, मोहनलाल, राजेंदर चौधरी, भारत मोहनलाल रातेश्वर, रामचंद्र कलसांगरा (फरार) संदीप डांगे (फरार)सुनील जोशी (मृत)शामिल थे। इस मामले में अब तक कुल 226 चश्मदीदों के बयान दर्ज किए गए थे और कोर्ट के सामने 411 दस्तावेज पेश किए गए। लेकिन एनआईए को इस केस की जांच में काफी मुश्किलों का सामना करना पड़ा, क्योंकि 64 गवाह कोर्ट के सामने मुकर गए।

कठुवा केस: कोर्ट में पेश किए गए सभी आठ आरोपी

सुप्रीम कोर्ट पहुंचा पीडि़त परिवार, नार्को टेस्ट कराने की मांग
 4पीएम न्यूज़ नेटवर्क
नई दिल्ली। कठुवा गैंगरेप और हत्या मामले में आरोपियों के खिलाफ आज कठुवा के सीजेएम कोर्ट में सुनवाई हुई। कोर्ट में अब इस मामले पर अगली सुनवाई 28 अप्रैल को होगी। आज कोर्ट में सुनवाई के दौरान सभी आठ आरोपियों को जज के सामने पेश किया गया। वहीं पीडि़ता को निचली अदालत से न्याय मिल पाने में संदेह लग रहा है कि इसलिए उन्होंने सुप्रीम कोर्ट का भी दरवाजा खटखटाया है। इस मामले में मुख्य आरोपी ने नार्को टेस्ट करवाने की मांग की गई है।
पीडि़त परिवार का प्रतिनिधित्व कर रहीं अधिवक्ता दीपिका सिंह राजावत ने कहा कि मामले की सुनवाई कठुवा की अदालत में होने पर उनकी जान को भी खतरा है। वहीं मुख्य आरोपी सांजी राम ने नार्कों टेस्ट करवाने की मांग की है। उसने खुद को किसी गहरी साजिश में फंसाये जाने की बात कही है।

झारखंड में निकाय चुनाव के लिए मतदान जारी

 4पीएम न्यूज़ नेटवर्क
रांची। झारखंड में आज नगर निकाय चुनाव के लिए मतदान हो रहा है। आज सुबह सात बजे से मतदाता बूथ के बाहर खड़े होकर बारी-बारी से वोट डाल रहे हैं। सूबे के 34 नगर निकायों में पांच नगर निगम, 16 नगर परिषद और 13 नगर पंचायत में मतदान हो रहा है। मतदान आज शाम पांच बजे तक चलेगा। जानकारी के मुताबिक चुनाव के दौरान कुछ बूथों पर ईवीएम में गड़बड़ी के कारण मतदान में देरी हुई। इस चुनाव में कुल 22 लाख 12 हजार 137 मतदाता 4,602 उम्मीदवारों के भाग्य का फैसला करेंगे। महापौर के कुल 34 पदों के लिए 278 उम्मीदवार मैदान में हैं। झारंखड नगर निकाय चुनावों को सूबे की रघुवर सरकार के लिए सेमी फाइनल माना जा रहा है। यह चुनाव दलीय आधार पर लड़े जा रहे हैं। इसलिए चुनाव में राष्ट्रीय और क्षेत्रीय दलों ने अपने उम्मीदवारों को पार्टी सिंबल दिया है।

दस दिन बाद भी पुलिस लॉकअप से भागे बदमाश को नहीं ढूंढ पाई पुलिस
गोसाईंगंज पुलिस को हिरासत से चकमा देकर भागा युवक
4पीएम न्यूज़ नेटवर्क
लखनऊ। खुद को हाईटेक कहने वाली राजधानी पुलिस लॉकअप से भागे बदमाश को दस दिन बाद भी नहीं ढूंढ पाई है। पुलिस हिरासत से फरार दिल्ली के अपराधी को रात भर हवालात में सुरक्षित रख पाने में नाकाम गोसाईंगंज पुलिस बदमाश का कोई भी सुराग नहीं लगा पाई है। पुलिस का कहना है कि बदमाश की तलाश में टीेमें लगाई गई हैं, जल्द ही उसे पकड़ लिया जायेगा लेकिन हकीकत में पुलिस के पास उसका कोई सुराग नहीं है।
बता दें कि अमेठी कस्बा निवासी संदीप दिल्ली में रहकर प्राइवेट जॉब करता है। आरोप है कि संदीप ने दिल्ली में एक व्यक्ति की हत्या कर दी थी। घटना को अंजाम देने के बाद से वह फरार हो गया था लेकिन दिल्ली पुलिस ने उसको कड़ी मशक्कत के बाद गिरफ्तार कर लिया। दिल्ली पुलिस हत्या में संदीप का साथ देने वाले युवक की तलाश में अमेठी आ रही थी लेकिन रात होने की वजह से लखनऊ में ही रुकने का फैसला किया। दिल्ली पुलिस की टीम ने संदीप को गोसाईंगंज पुलिस से बात कर रात भर के लिए लॉकअप में रख दिया और सुबह होने का इंतजार करने लगी। इसी बीच संदीप गोसाईगंज पुलिस को चकमा देकर वहां से भाग निकला। इस मामले को गंभीरता से लेकर आलाधिकारियों ने लापरवाही बरतने के आरोप में दो सिपाहियों को निलंबित कर दिया था। इस संबंध में इंस्पेक्टर गोसाईगंज विद्यासागर पाल का कहना है कि संदीप को पकडऩे के लिए पुलिस की टीमें लगी हुई हंै मगर अभी तक उसका कोई सुराग नहीं लगा है।

Pin It