बाबा साहेब की जयंती पर दलितों को रिझाते दिखे सियासी दल, माया-अखिलेश ने भाजपा पर साधा निशाना

  • एससी-एसटी एक्ट पर अध्यादेश लाए सरकार, भाजपा का दलित प्रेम नाटकबाजी
  • सपा के राष्ट्रीय अध्यक्ष ने कहा, भाजपा राज में दलितों पर हो रहे हैं अत्याचार
  • कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी और भाजपा नेता लालकृष्ण आडवाणी ने भी बाबा साहेब को दी श्रद्धांजलि

4पीएम न्यूज़ नेटवर्क
लखनऊ। बाबा साहेब भीमराव अंबेडकर की 127वीं जयंती के मौके पर सियासी दल दलितों को रिझाते दिखे। बसपा प्रमुख मायावती ने भाजपा के दलित प्रेम को नाटकबाजी करार दिया वहीं सीएम योगी आदित्यनाथ को अंबेडकर महासभा ने दलित मित्र की उपाधि से नवाजा। संसद भवन में कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी और भाजपा के दिग्गज नेता लाल कृष्ण आडवाणी ने भीमराव अंबेडकर को श्रद्धांजलि दी।ं गृह मंत्रालय ने बवाल की आशंका को देखते हुए अलर्ट जारी किया है।
अंबेडकर जयंती पर देशभर में भाजपा, कांग्रेस, सपा और बसपा समेत कई राजनीतिक दलों ने विशेष आयोजन किए। आगामी लोकसभा चुनाव को देखते हुए सियासी दलों ने दलितों को रिझाने की कोशिश में दिखे। बसपा प्रमुख मायावती ने भाजपा और पीएम मोदी पर निशाना साधते हुए कहा कि भाजपा ने एससी/एसटी एक्ट को कमजोर किया है। बाबा साहेब से जुड़ी जगहों को स्मारक बनाने और उनके नाम पर योजनाएं शुरू करने से दलितों का उत्थान नहीं होगा। एससी-एसटी एक्ट को कमजोर करने वाली मोदी सरकार को इस एक्ट पर अध्यादेश लाना चाहिए। मायावती ने उन्नाव और कठुआ गैंगरेप मामले में भाजपा पर दोषियों को बचाने का आरोप लगाया और दोषियों के खिलाफ कड़ी कार्रवाई की मांग की। वहीं समाजवादी पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष अखिलेश यादव ने बाबा साहेब की प्रतिमा पर माल्यार्पण कर श्रद्धांजलि अर्पित की। उन्होंने कहा कि डॉ. भीमराव अंबेडकर ने संविधान में इस देश के सभी नागरिकों को सम्मान देने का काम किया है। हम लोग समाजवादी रास्ते पर हमेशा चलते रहेंगे। सत्ता के लोगों ने संविधान पढ़ा नहीं या पढऩा नही चाहता। प्रदेश में लगातार एनकाउंटर हो रहे हैं इसके बाद भी कानून व्यवस्था दुरुस्त नहीं हुई। उन्नाव के मामले में पुलिस अधिकारी न्याय नहीं होने दे रहे हैं। भाजपा सरकार आने के बाद यह अपराध बढ़ है। जनता को धोखा दिया जा रहा था। जिस राज्य में भारतीय जनता पार्टी की सरकार है वहां दलितों पर अत्याचार हो रहा है।

पीएम मोदी ने दी शुभकामनाएं

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने आज सुबह देशवासियों को अंबेडकर जयंती की शुभकामनाएं देते हुए कहा कि बाबा साहेब ने समाज के गरीब और कमजोर तबके को आगे बढऩे की उम्मीद दी। हमारा संविधान बनाने वाले बाबा साहेब के प्रति हम हमेशा आभारी रहेंगे। सभी देशवासियों को अम्बेडकर जयंती की शुभकामनाएं। जय भीम!

दलित मामलों के निस्तारण के लिए गठित होंगे कोर्ट: सीएम योगी

4पीएम न्यूज़ नेटवर्क
लखनऊ। बाबा साहेब भीमराव अंबेडकर की जयंती के मौके पर राज्यपाल रामनाईक व सीएम योगी आदित्यनाथ ने उनकी प्रतिमा पर माल्यार्पण कर श्रद्धांजलि अर्पित की। वहीं अंबेडकर महासभा ने सीएम को दलित मित्र की उपाधि से नवाजा।
मुख्यमंत्री ने कहा कि भीमराव अंबेडकर ने अपने बल पर उच्चतम शिक्षा हासिल की और अपना जीवन गरीबों को समर्पित किया। पीएम मोदी ने बाबा साहेब से जुड़े पांच स्थानों को पंच तीर्थ के रूप में विकसित किया है। बाबा साहेब को आजादी के बाद सही मायने में सम्मान का काम मोदी जी ने किया है। सरकार ने 35 करोड़ गरीब दलित और वंचितों के बैंक अकाउंट खुलवाए । 8 लाख से ज्यादा गरीब वंचित दलितों को यूपी सरकार ने आवास दिया। भारत बंद आंदोलन को लेकर उन्होंने कहा कि निर्दोष को परेशान नहीं किया जाएगा। दलित, पिछड़े गरीबों को सरकारी सुविधाओं का लाभ कैसे दी जाए इसके लिए कमीशन बैठाया जाएगा। दलित मामलों के त्वरित निस्तारण के लिए 25 नए कोर्ट गठित करने जा रहे हैं। राज्यपाल रामनाईक ने कहा कि बाबा साहब का देश के प्रति बहुत लगाव था। जिस रास्ते पर सरकार इससे प्रदेश का विकास होगा।

आबकारी आयुक्त के नाकारापन से सूबे में शराब आपूर्ति ठप

  • लाइसेंस व्यवस्था में सुधार का इंतजार कर रहे दुकानदार, दुकानों पर लटक रहे ताले
  • 20250 करोड़ का राजस्व तय, अभी तक नहीं हुआ 8000 दुकानों का आवंटन

सीमाब नकवी
लखनऊ। उत्तर प्रदेश में आबकारी आयुक्त धीरज साहू के नाकारापन के चलते सूबे में अंगे्रजी शराब और बीयर की आपूर्ति ठप हो गयी है जिसके कारण सरकार को करोड़ों के राजस्व का नुकसान हो रहा है। आपूर्ति न होने से एक ओर ग्राहकों को निराश लौटना पड़ रहा है वहीं दुकानों के लाइसेंस धारक व्यवस्था में सुधार के इंतजार में दुकानों में ताला लगाये हुए हैं। बताया जा रहा है कि शराब और बीयर की बोतलों में बारकोडिंग न होने के कारण दिक्कतें आ रही है। सरकार ने जब शराब की नई नीति तैयार की थी तो अधिकारियों को उसी समय इससे निपटने के लिए तैयार हो जाना चाहिये था, लेकिन लापरवाही के चलते प्रदेश में शराब की बिक्री इस स्थिति में पहुंच गयी है।
प्रदेश सरकार का एक साल में शराब की बिक्री से 20250 करोड़ के राजस्व का टारगेट है। लखनऊ में 150 करोड़ की बिक्री प्रतिदिन होती है। फिलहाल प्रतिदिन 30 प्रतिशत ही सप्लाई हो रही है। प्रदेश में 27000 दुकानों का आवंटन होना है, जिसमें 8000 दुकानों का आवंटन होना अभी बाकी है। कोटा सिर्फ देशी शराब का होता है। पूरी दुकानों का आवंटन न होने के कारण कोटा अभी तय नहीं हुआ है। लिहाजा प्रदेश में 80 प्रतिशत शराब की दुकानें ऐसी हैं जो सिर्फ दो घंटे के लिए ही खुल रही हैं। शराब और बीयर की शार्टेज के चलते दो घंटे में ही माल खत्म हो जाता हैै और दुकानदार दुकानों को बंद करने के लिए मजबूर हैं। इस बात को लेकर शराब एसोसिएशन ने प्रमुख सचिव से मिलकर ज्ञापन भी सौंपा है हालांकि अधिकारियों का मानना है कि इस व्यस्था में सुधार के लिए अभी एक सप्ताह का समय लग जायेगा। अधूरी तैयारियों के बीच लागू की गयी नयी आबकारी नीति के चलते सरकार को होने वाले अरबों रुपये के राजस्व के नुकसान की भरपाई कैसे होगी इसका अंदाजा आबकारी आयुक्त को नहीं है। आयुक्त की लापरवाही से शराब की दुकानों के आवंटन में दिक्कतें आयीं थी हालांकि उन्होंने इससे पड़ला झाड़ते हुए पूरा ठीकरा एनआईसी पर फोड़ दिया था।

प्रदेश में देशी शराब की सप्लाई सामान्य है मगर अंग्रेजी शराब और बीयर की सप्लाई में दिक्कत आ रही है। सरकार की कंपनी एनआईसी के सर्वर में दिक्कत के कारण पहले शराब की दुकानों के आवंटन में दिक्कत आयी थी। बाटल्स में बारकोडिंग का काम पूरा न होने पर इस तरह की समस्या आ रही है। एनआईसी के ओवर कान्फिडेंस और अधूरी तैयारियों के कारण इस प्रकार की दिक्कतें आईं है। दो तीन दिन में व्यवस्था सामान्य हो जाएंगी।
जय प्रताप सिंह, आबकारी मंत्री

पूरे प्रदेश में अंग्रेजी और बीयर की भयानक किल्लत हैं। काम इसी तरह चलता रहा तो दुकानदारों को लाइसेंस की फीस तक निकालना मुश्किल हो जायेगा। आगरा, बरेली, मुरादाबाद सहित अन्य शहरों में शराब की दुकानों पर ताले पड़े हुए हैं। अधिकारियों के साथ इस नौबत के लिए फैक्ट्रियां भी जिम्मेदार हैं। हम लोगों ने प्रमुख सचिव से मुलाकात की उन्होंने एक सप्ताह के भीतर हालात सामान्य करने की बात कही है।
कन्हैया मौर्या, सचिव, शराब एसोसिएशन

Pin It