खाई है कसम, नहीं सुधरेंगे हम…

एक ओर डीजीपी ओपी सिंह चारबाग रेलवे स्टेशन पर झाड़ू लगाकर लोगों को स्वच्छता का संदेश दे रहे हैं वहीं दूसरी ओर राजधानी पुलिस के जवान हम नहीं सुधरेंगे की तर्ज पर सरेराह गंदगी फैलाते फिर रहे हैं। पुलिस के जवान किस कदर पीएम मोदी के स्वच्छता अभियान की धज्जियां उड़ा रहे हैं इसकी तस्दीक तस्वीरें कर रही हंै। यह स्थिति तब है जब प्रदेश सरकार लखनऊ को स्मार्ट सिटी बनाने की लगातार कोशिश कर रही है। जब पुलिस और सरकार के कर्मचारी ही स्वच्छता अभियान को पलीता लगा रहे हों तो आम आदमी पर स्वच्छता संदेश का कितना असर पड़ेगा, इसका अंदाजा आसानी से लगाया जा सकता है। 
 
 

देश में प्रतिमा विध्वंस पर सियासत तेज, पीएम नरेन्द्र मोदी नाराज

गृह मंत्रालय ने राज्यों को कहा कि ऐसी घटनाओं को रोकने के लिए उठाएं जरूरी कदम 

त्रिपुरा के बेलोनिया क्षेत्र में लेनिन की प्रतिमा गिराए जाने को लेकर देशभर में सियासत गर्म 

 
4पीएम न्यूज़ नेटवर्क
नई दिल्ली। त्रिपुरा के बेलोनिया क्षेत्र में लेनिन की प्रतिमा गिराए जाने को लेकर देशभर में सियासत गर्म है। त्रिपुरा के अलावा पश्चिम बंगाल, तमिलनाडु जैसे राज्यों में प्रतिमा तोड़े जाने की घटनाएं सामने आने के बाद से बवाल मच गया है। प्रतिमा तोडऩे की घटनाओं पर पीएम नरेंद्र मोदी ने कड़ी नाराजगी जताई है। इस संबंध में गृह मंत्रालय ने जानकारी देते हुए कहा कि पीएम मोदी ने गृह मंत्री राजनाथ सिंह से भी बात की है और इस तरह की तोडफ़ोड़ की घटनाओं पर कड़ी प्रतिक्रिया व्यक्त की है।  वहीं गृह मंत्रालय ने राज्यों से कहा है कि ऐसी घटनाओं को रोकने के लिए वे सभी जरूरी कदम उठाएं और इन घटनाओं में शामिल लोगों को काननू के अनुसार दंडित किया जाए। 
देश भर में एक दूसरे के आदर्शों की मूर्ति तोड़ सियासत के बीच उपराष्ट्रपति वेंकैया नायडू और बीजेपी चीफ अमित शाह समेत कई दलों के नेताओं ने इन घटनाओं की निंदा की है। त्रिपुरा से शुरु हुई प्रतिमा तोडऩे की घटना का असर अन्य राज्यों में भी दिखने लगा है। पश्चिम बंगाल से भारतीय जनसंघ के संस्थापक श्यामा प्रसाद मुखर्जी की प्रतिमा तोडऩे का मामला सामने आया है। केवड़ातल्ला इलाके में पार्क में लगी श्यामा प्रसाद मुखर्जी की प्रतिमा को कुछ अज्ञात लोगों ने तोडऩे की कोशिश की। उनकी प्रतिमा को कालिख से भी पोत दिया। अब इस मामले में छह लोगों को हिरासत में लिया गया है।
 

संसद में गूंजा प्रतिमा विध्वंस का मामला

 
नई दिल्ली। (4पीएम न्यूज़ नेटवर्क)  देश के कुछ हिस्सों में प्रतिमा विध्वंस का मामला संसद तक पहुंच गया है। त्रिपुरा, तमिलनाडु समेत कुछ अन्य जगहों पर प्रतिमाओं के साथ तोडफ़ोड़ की घटनाओं पर आज राज्यसभा में खूब हंगामा हुआ, जिसके बाद राज्यसभा की कार्यवाही को दो बजे तक के लिए स्थगित कर दिया गया है। इतना ही नहीं सभापति वैंकेया नायडू ने मूर्ति तोडऩे वाले को मैड बता डाला। उन्होंने कहा कि मूर्ति तोडऩे वाले मैड हैं और हंगामा करने वाले बैड। इसके अलावा टीडीपी ने भी आंध्र प्रदेश को विशेष राज्य का दर्जा दिए जाने की मांग और कावेरी मैनेजमेंट बोर्ड के गठन को लेकर जोरदार प्रदर्शन किया। 
संसद के बजट सत्र के दूसरे चरण में लगातार तीसरे दिन भी कई मुद्दों पर दोनों सदनों में हंगामा जारी रहने के आसार थे और यही हुआ। आज राज्यसभा की कार्यवाही शुरु होते ही विपक्ष ने त्रिपुरा व अन्य राज्यों में प्रतिमा तोड़े जाने को लेकर विरोध करने लगे। विपक्षी दलों के विरोध के चलते कार्यवाही दो बजे तक के लिए स्थगित कर दी गई।  विपक्ष ने कई मुद्दों पर खास तौर से पीएनबी घोटाले को लेकर सरकार को चौतरफा घेरने की रणनीति बनाई है। वहीं टीडीपी जैसे सहयोगी दल भी अपनी मांगों को लेकर सरकार पर दबाव बढ़ाने की कोशिश में हैं। टीडीपी सांसद आज भी संसद भवन में महात्मा गांधी की प्रतिमा के सामने विरोध-प्रदर्शन करते नजर आए। मंगलवार को भी पीएनबी घोटाला समेत अन्य मुद्दों को लेकर हंगामे के चलते दोनों सदनों की कार्यवाही बाधित रही थी।  

मूर्ति तोडऩे की घटनाएं दुखद :अमित शाह

त्रिपुरा में लेनिन और तमिलनाडु में पेरियार की मूर्ति तोडऩे का आरोप बीजेपी से जुड़े लोगों पर लग रहा हैं। लगभग सभी बड़ी पार्टियों ने मूर्ति तोडऩे की घटनाओं की निंदा की है। बीजेपी अध्यक्ष अमित  शाह ने कई ट्वीट कर मूर्ति तोडऩे की घटनाओं को गलत करार दिया है। उन्होंने कहा, ‘हम मूर्ति तोडऩे की घटनाओं का समर्थन नहीं करते हैं। ये घटनाएं दुखद हैं। अगर इन घटनाओं में बीजेपी से जुड़े लोग शामिल हुए तो उन पर कार्रवाई होगी।’ उन्होंने कहा, ‘हमारा मुख्य मकसद लोगों के जीवन में बदलाव लाना है। हमारे काम को लोगों ने सराहा है और इसके लिए हम जनता का आभार जताते हैं। 
 
 
 
 
 
Pin It