यूपी इन्वेस्टर्स समिट केे बाद सीएम योगी का देश भर में बढ़ा कद 

इन्वेस्टर्स समिट की अपार सफलता से गदगद हैं योगी आदित्यनाथ 
यूपी में उद्योगपतियों के निवेश की दिलचस्पी देखकर सभी हैं हैरान
सीएम की छवि की वजह से भारी संख्या में निवेश को इच्छुक हुए इन्वेस्टर्स 

प्रीति सिंह
लखनऊ। पिछले दिनों आयोजित इन्वेस्टर्स समिट में जिस तरह उद्योगपतियों ने सीएम योगी की खुले दिल से सराहना की और एमओयू साइन किए उससे पूरे देश में योगी का कद बढ़ गया है। उद्योगपति योगी पर इस कदर भरोसा करेंगे इसकी उम्मीद किसी को नहीं थी। दरअसल सीएम योगी अपने 11 महीने के कार्यकाल में साबित कर चुके हैं कि वह हर हाल में उत्तम प्रदेश को  उत्तम प्रदेश बनाकर रहेंगे। वह किसी भी हालात से समझौता करने को तैयार नहीं है। इसी का नतीजा है कि प्रदेश अपराध मुक्त तो हो ही रहा है, साथ ही लाल फीताशाही का भी रवैया सकारात्मक हो रहा है। 
पिछले दिनों यूपी की राजधानी लखनऊ में उद्योगपतियों के महाकुंभ में जिस तरह से लाखों करोड़ रुपए के एमओयू साइन हुए उससे तो यही लगता है कि सीएम योगी आदित्यनाथ अपनी मंशा में सौ फीसदी कामयाब हुए है। जिस तरह से लाल फीताशाही सरकार की योजनाओं पर सकारात्मक रूख बनाये हुए है उससे योगी के सपनों को निश्चित रूप से पंख लेगेंगे। सिंगल विंडो सिस्टम के कारण भी निवेशकों को प्रदेश में निवेश करने के दौरान किसी प्रकार की पेचीदगी का सामना नहीं करना पड़ेगा। खुद योगी निवेशकों की समस्याओं की मॉनिटरिंग करेंगे, इससे भी निवेशकों का योगी में विश्वास बढ़ गया है। मॉनिटरिंग के लिए मुख्यमंत्री ने कमेटी बनाने का भी ऐलान किया है। जाहिर है यह कमेटी निवेशकों का कदम-कदम पर साथ देगी और उनकी राह में आने वाले हर कांटे को हटायेगी। सडक़ यातायात और विद्युत आपूर्ति को भी अबाध रखने की योगी सरकार की कोशिश से भी निवेशक उत्साहित है। पूर्वांचल एक्सप्रेस-वे बनाने का ऐलान सरकार कर ही चुकी है, इसके अलावा केंद्रीय सडक़ व परिवहन मंत्री नितिन गडकरी ने भी प्रदेश में हाइवे का जाल बिछाने का आश्वासन दिया है। जाहिर है ये तमाम सुविधाएं निवेशकों को लुभायेंगी। 
 
समिट की सफलता से भाजपा व संघ गदगद
इन्वेस्टर्स समिट की सफलता से सिर्फ योगी ही नहीं बल्कि भाजपा शीर्ष नेतृत्व व संघ भी गदगद है। इतना बड़ा आयोजन बिना किसी व्यवधान के सौ फीसदी सफल रहा। इस समिट पर पूरे देश की मीडिया की निगाहें लगी थी। बीमारू राज्य में शुमार उत्तर प्रदेश में निवेशक रूचि लेंगे या नहीं इस पर सभी को संशय था लेकिन निवेशकों ने योगी पर विश्वास दिखाया और खुले दिल से निवेश की घोषणा की। जाहिर है यह सब योगी की वजह से ही हुआ। भाजपा शीर्ष नेतृत्व इसलिए खुश है क्योंकि 2019 में लोकसभा चुनाव में यूपी में गिनाने के लिए बहुत कुछ मिल गया है। 2019 लोकसभा चुनाव में बीजेपी को अपनी सीटें बचाने की बहुत बड़ी चुनौती है। इन सीटों को बचाने में योगी का कामकाज बहुत हद तक जिम्मेदार होगा। शायद इसीलिए इन्वेस्टर्स समिट में केन्द्र सरकार के अधिकांश मंत्री और खुद पीएम मोदी मौजूद रहे। पीएम ने भी समिट में उत्तर प्रदेश को बड़ा तोहफा डिफेंस कॉरिडोर का दिया। बीस हजार करोड़ की डिफेेंस कॉरिडोर की परियोजना बुंदेलखंड में शुरु होगी जिसका कामकाज अगले महीने शुरु भी हो जायेगा। जाहिर है यह सब उपलब्धियां लोकसभा चुनाव में गिनाने में मददगार साबित होंगी। 
 

ओडिशा: रिसेप्शन में गिफ्ट पैक में आया बम, दूल्हा समेत तीन की मौत

 अज्ञात शख्स ने गिफ्ट पैक में भेजा बम, दुल्हन गंभीर रूप से घायल 

4पीएम न्यूज़ नेटवर्क
नई दिल्ली। ओडिशा के बोलनगीर जिले में शादी की खुशी अचानक मातम में तब्दील हो गई। रिसेप्शन समारोह में किसी ने उपहार में बम पैक कर भेज दिया। पैक खोलते ही भीषण धमाका हुआ, जिसमें दूल्हा, उसकी दादी और एक अन्य शख्स की मौत हो गयी। पुलिस ने बताया कि इस धमाके में दुल्हन गंभीर रूप से घायल हो गई। 
पुलिस के मुताबिक दंपति का 5 दिन पहले ही विवाह हुआ था और उसके बाद आयोजित रिसेप्शन में किसी अज्ञात शख्स ने गिफ्ट पैक में उपहार स्वरूप बम दे दिया। पुलिस ने बताया कि इस धमाके में बुजुर्ग महिला की मौके पर ही मौत हो गयी और नविवाहित युवक की मौत राउरकेला के एक अस्पताल में हुई है। धमाके में घायल नवविवाहिता का इलाज बुरला के अस्ताल में चल रहा है। बीती 18 फरवरी को ही मृतक सौम्य शेखर की शादी रीमा साहू से हुई थी। दंपति अपने रिश्तेदारों के साथ रिसेप्शन के बाद समारोह में आए गिफ्ट्स खोलकर शुक्रवार को देख रहे थे, तभी अचानक धमाका हो गया। आनन फानन में घायलों को अस्पताल ले जाया गया, जहां नवविवाहित युवक और उसकी दादी को डॉक्टरों ने मृत घोषित कर दिया। हादसे में घायल एक अन्य व्यक्ति की भी मौत हो गयी है। 
 

ओरिएंटल बैंक ऑफ कॉमर्स में भी बड़े घोटाले का खुलासा, ष्टक्चढ्ढ ने कसा शिकंजा

कंपनी पर 389.85 करोड़ रुपये की ऋण धोखाधड़ी करने का आरोप 

4पीएम न्यूज़ नेटवर्क
लखनऊ। नीरव मोदी और मेहुल चोकसी के बाद सीबीआई ने दिल्ली की एक हीरा निर्यातक कंपनी के खिलाफ मामला दर्ज किया है। इस कंपनी पर ओरिएंटल बैंक ऑफ कामर्स से 389.85 करोड़ रुपये की ऋण धोखाधड़ी करने का आरोप है। हरियाणा स्थित गुरुग्राम के सेक्टर-32 स्थित ओबीसी बैंक के ब्रांच से यह फर्जीवाडा हुआ है। लिहाजा बैंक के एजीएम स्तर के अधिकारी ने इस मामले की जानकारी सीबीआई को लिखित तौर पर दी और सीबीआई ने मामला दर्ज करके तफ्तीश शुरू कर दी है। बैंक द्वारा इस मामले की जानकारी पिछले साल 16 अगस्त को दी गई थी। 
सीबीआई ने द्वारका दास सेठ इंटरनेशनल प्राइवेट लिमिटेड के खिलाफ इस कथित धोखाधड़ी का मामला दर्ज किया है। छह महीने पहले बैंक ने सीबीआई से शिकायत की थी। उसी पर कार्रवाई करते हुए जांच एजेंसी ने कंपनी और उसके सभी निदेशकों सभ्य सेठ, रीटा सेठ, कृष्ण कुमार सिंह, रवि सिंह तथा एक अन्य कंपनी द्वारका दास सेठ सेज इनकारपोरेशन के खिलाफ मामला दर्ज किया है। मामले में बैंकों से साल 2007 से  लगातार फर्जीवाड़ा करके लोन लेने का आरोप है।
Pin It