अब विश्व में मिलेगी खादी को पहचान

खादी एवं ग्रामोद्योग बोर्ड व अमेजन इंडिया के बीच हुआ करार
नवनीत सहगल ने दुनिया भर में डंका बजवा दिया खादी का

4पीएम न्यूज़ नेटवर्क
लखनऊ। अब खादी को विश्व में पहचान मिल सकेगी। खादी की खरीद और बिक्री के तौर-तरीके बदलने के मद्देनजर खादी एवं ग्रामोद्योग बोर्ड ने मंगलवार को अमेजन इंडिया के साथ एक समझौता ज्ञापन (एमओयू) हस्ताक्षर किया। इस मौके पर खादी एवं ग्रामोद्योग मंत्री सत्यदेव पचौरी ने कहा कि खादी भारत की पहचान है, जिसे विगत कुछ वर्षों में ग्राहकों से नई स्वीकार्यता मिली है। ऐसे कई बुनकर और कारीगर हैं, जो अपनी कुशलता से खादी को जीवंत करते हैं। खादी की पहुंच बढ़ाने के लिये ई-कॉमर्स सर्वश्रेष्ठ तरीका है। इससे कारीगर देश और विदेश के ग्राहकों तक अपनी पहुंच आसानी से बना सकेंगे। अमेजन के साथ भागीदारी से उनकी पहुंच बढ़ेगी और रोजगार का सृजन होगा।
उन्होंने कहा कि यह यूपी खादी के इतिहास का स्वर्णिम दिन है। इससे खादी को लेकर महात्मा गांधी ने जो सपना देखा था और प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने मन की बात के जरिये जो सोचा था वह साकार होगा। रही गुणवत्ता की बात तो सोलर से चलने वाले चरखों के जरिये यह काम विभाग करेगा। खादी एवं ग्रामोद्योग के प्रमुख सचिव नवनीत सहगल ने कहा कि इस भागीदारी से हमारे उत्पादों को बड़ा ग्राहक आधार मिलेगा और बिक्री बढ़ेगी, जिससे हमारे ग्रामीण कारीगर प्रोत्साहित होंगे। अपने समृद्ध अनुभव और ग्राहकों की गहन समझ से अमेजन इंडिया इन प्रतिभावान कारीगरों और बुनकरों के जीवन में परिवर्तन ला सकता है, ताकि वह बढ़ती डिजिटल अर्थव्यवस्था से लाभान्वित हो सकें। वहीं अमेजन इंडिया में बिक्री सेवाओं के निदेशक एवं महाप्रबंधक गोपाल पिल्लई ने कहा कि भारत में खरीदी और बिक्री के तरीकों के बदलने के हमारे दृष्टिकोण के अनुसार अमेजन इंडिया ने अधिक से अधिक विके्रताओं, बुनकरों और कलाकारों को ऑनलाइन बिक्री अपनाने और लाभ कमाने के लिये प्रेरित किया है। विगत कुछ वर्षों में बढ़ी खादी की मांग की पूर्ति करने के लिये हम उत्तर प्रदेश खादी एवं ग्रामोद्योग बोर्ड के साथ भागीदारी कर प्रसन्न हैं और इन उत्पादों को अमेजन के लाखों ग्राहकों तक ले जाएंगे। खादी और ग्राम उद्योगों के विभिन्न उत्पादों के प्रशिक्षण, विपणन, बिक्री और आपूर्ति के जरिये हम इस राज्य के ग्रामीण कारीगरों के जीवन में सकारात्मक परिवर्तन लाएंगे। हम इस नई डिजिटल यात्रा में उन्हें व्यापक बिक्री सेवाओं और आवश्यक साधनों से सुसज्जित करने के लिए तत्पर हैं।

आयोजित की गई थीं कार्यशालाएं
अमेजन इंडिया ने खादी ग्रामोद्योग बोर्ड के साथ मिलकर अक्टूबर 2017 से कार्यशालाओं का आयोजन शुरू किया था ताकि खादी सोसायटी और ग्राम उद्योगों को शिक्षित किया जा सके। यह कार्यशालाएं कानपुर, वाराणसी, गाजियाबाद और लखनऊ में आयोजित हुईं, जिनमें ई-मार्केटिंग और ऑनलाइन बिक्री का प्रशिक्षण दिया गया। अमेजन इंडिया ने लगभग 150 सोसायटी के लिये कार्यशालाओं का आयोजन किया और कारीगरों को बाजार में प्रवेश दिया।

Pin It