4पीएम की खबर से नगर निगम में मचा हडक़ंप, अपनी गर्दन बचाने के लिए अफसर दे रहे सफाई कहा डैमो के लिए डाली गई थीं बीयर की बोतलें

  • हजरतगंज में कल नगर विकास मंत्री सुरेश खन्ना ने किया था गार्बेज एटीएम का उद्घाटन
  • जिस गार्बेज एटीएम का होना था उद्घाटन उसी के नीचे पड़ी थीं बीयर की खाली बोतलें
  • खबर प्रकाशित होने के बाद नगर निगम के अफसर हुए पसीने-पसीने, नहीं सूझ रहा कोई जवाब, लीपापोती में जुटे अधिकारी

4पीएम न्यूज़ नेटवर्क
लखनऊ। संसदीय कार्य एवं नगर विकास मंत्री सुरेश खन्ना द्वारा कल हजरतगंज में गार्बेज एटीएम के उद्घाटन किया गया था। इस दौरान जिस गार्बेज एटीएम का उद्घाटन किया जा रहा था उसी एटीएम के ठीक नीचे बीयर की खाली बोतलें पड़ी हुई थीं। 4पीएम ने अफ सरों की कार्यप्रणाली पर सवाल उठाते हुए इस पर कल खबर प्रकाशित किया था। खबर छपने के बाद नगर निगम में हडक़ंप मच गया। निगम के आला अफसरों को बीयर की बोतल पर जवाब देते नहीं बन रहा है। अपनी गर्दन बचाने के लिए अधिकारियों ने सफाई दी है कि उन्होंने लोगों ने डैमो के लिए खुद ही बीयर की बोतल डाली थी। सवाल उठता है कि डैमो के लिए अधिकारियों को बीयर की ही बोतल मिली। आखिर बीयर की बोतल दिखाकर वह क्या संदेश देना चाहते हैं?
4पीएम ने कल अपने अंक में ‘यह है नाकारा तंत्र…. जिस कूड़ेदान का मंत्री उद्घाटन करने जा रहे हैं उसके नीचे पड़़ी हैं बीयर की बोतलें’ शीर्षक से खबर प्रकाशित की थी। 4पीएम ने अधिकारियों की कार्यप्रणाली पर सवाल उठाया था। खबर प्रकाशित होने के बाद नगर निगम से लेकर शासन में बैठे जिम्मेदार अफसरों के होश उड़ गए। अपनी जिम्मेदारियों का सही ढंग से पालन न करने वाले अफसर अपनी गर्दन बचाने के लिए सफाई देने लगे। इस मामले को लेकर नगर निगम के पर्यावरण अभियंता ने बीयर की खाली बोतले डैमो के लिए खरीद कर लाने की बात कही हैं। खैर जो भी हो नगर निगम की इस कार्यप्रणाली से यह बात तो साफ है कि वे बेखौफ हैं। उन्हें किसी का डर नहीं है। डर होता तो डैमो के नाम पर बीयर की बोतल नहीं डालते और डालते भी तो एटीएम के भीतर। यूं सडक़ पर नहीं।

राजनीतिक दृष्टि से दर्ज मुकदमों को लिया जाएगा वापस: ब्रजेश पाठक

  • विधि एवं न्याय मंत्री ब्रजेश पाठक ने लोक अदालत के बारे में दी जानकारी
  • यूपी देश का पहला राज्य जहां सभी जनपदों में है लोक अदालत
  • लोक अदालत के फैसलों को नहीं दी जा सकती चुनौती

4पीएम न्यूज़ नेटवर्क
लखनऊ। विधि एवं न्याय मंत्री ब्रजेश पाठक ने आज एनेक्सी मीडिया सेंटर में मीडिया से बातचीत में लोक अदालत के गठन को लेकर बातचीत की। उन्होंने कहा कि यूपी देश का पहला राज्य है जहां सभी जनपदों में लोक अदालत हैं। जनपदों से लेकर तहसील तक लोक अदालतें लगाने का फैसला लिया गया है ताकि लोगों की समस्याओं का निस्तारण जल्द से जल्द हो जाए। मुजफ्फरनगर में दर्ज मुकदमों को वापस लेने के सवाल पर ब्रजेश पाठक ने कहा कि राजनीतिक दृष्टिï से दर्ज मुकदमों को वापस लिया जायेगा।
विधि एवं न्याय मंत्री ब्रजेश पाठक ने कहा कि लोक अदालत सबसे पहले 1982 में गुजरात के जूनागढ़ में लगाई गई थी। यूपी में इसे पहली बार 1985 मे आयोजित किया गया। अब योगी जी के नेतृत्व में प्रदेश के सभी जनपदों में लोक अदालतों का गठन किया जा रहा है। लोक अदालत में सभी सुलह योग्य वाद निपटाए जाएंगे। उन्होंने कहा कि लोक अदालत में समझौते से कोर्ट फीस भी वापस हो जाती है। मंत्री ने कहा कि प्रदेश के 71 जनपद की सभी तहसीलों में लोक अदालतों का आयोजन किया जा रहा है। लोक अदालत की खूबियों के बारे में बताते हुए उन्होंने कहा कि लोक अदालत के फैसलों को चुनौती नहीं दी जा सकती। लोक अदालत समझौते के आधार पर निर्णय देती है। उन्होंने कहा कि शामली, हापुड़, अमेठी संभल जैसे नए जिलों में जनपद न्यायालय का काम पूरा होते ही लोक अदालत का स्थायी गठन कर दिया जाएगा। फिलहाल अभी तक 71 जिलों में लोक अदालत का गठन हो चुका है। मंत्री ने कहा कि 10 फरवरी को राष्ट्रीय लोक अदालत आयोजित की जायेगी। प्रेस कांफ्रेंस में प्रमुख सचिव न्याय उमेश कुमार, विशेष सचिव न्याय राजेश कुमार भी मौजूद रहे।

कश्मीर पर बोले मोदी, नेहरू  की जगह पटेल पीएम होते तो न होती यह समस्या

  • जोरदार हंगामे के बीच पीएम ने शुरु किया अपना भाषण

 4पीएम न्यूज़ नेटवर्क

नई दिल्ली। लोकसभा में राष्टपति के अभिभाषण पर धन्यवाद प्रस्ताव के दौरान प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कांग्रेस पर जमकर निशाना साधा। उन्होंने कहा कि यदि जवाहर लाल नेहरू की जगह पटेल देश के प्रधानमंत्री बने होते तो कश्मीर की समस्या न होती। आज कश्मीर में जो हालात है उसके लिए कांग्रेस जिम्मेदार है।
प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी के संबोधन से पहले विपक्ष ने जोरदार हंगामा किया। पीएम ने विपक्ष के जोरदार हंगामे के बीच ही अपने भाषण की शुरुआत की। पीएम मोदी ने कहा कि सदन में सार्थक चर्चा हुई है, लेकिन सिर्फ विरोध के खातिर ही विरोध करना कितना उचित है ये देखना होगा। उन्होंने कहा कि जब आपने (कांग्रेस) भारत का विभाजन किया, देश के टुकड़े किए और जो जहर बोया उसके कारण यह हंगामा हो रहा है। आपके जहर की कीमत देश चुका रहा है। उन्होंने कहा कि कल मैं खडग़े जी का भाषण सुन रहा था, उसमें समझ नहीं आ रहा था कि वे किसे संबोधित कर रहे हैं। उन्होंने बशीर बद्र की शायरी से शुरुआत की, जो शायरी सुनाई है वो कर्नाटक के सीएम ने जरूर सुनी होगी। शायरी में कहा कि दुश्मनी जमकर करो, लेकिन ये गुंजाइश रहे जब हम दोस्त बन जाए तो शर्मिंदा ना हो। उम्मीद है कि कांग्रेस सीएम ने ये बात सुनी होगी। मोदी ने कहा कि अच्छा होता कि शायरी की शुरुआती लाइन गौर से पढ़ लेते। पीएम ने बशीर बद्र की आगे की शायरी सुनाते हुए कहा कि ‘जी चाहता है सच बोलें, जी बहुत चाहता है सच बोलें, क्या करें हौसला नहीं होता।’

Pin It