अब उत्तम नहीं समर्थ प्रदेश बनेगा यूपी योगी सरकार ने शुरू की कवायद

पर्यटन विभाग तैयार कर रहा लोगो, अतुल्य भारत की तर्ज पर होगा प्रचार
संचालक समिति का किया गया गठन, तैयार किया जाएगा पूरा खाका

4पीएम न्यूज़ नेटवर्क
लखनऊ। योगी सरकार ने देश और विदेश में उत्तर प्रदेश के समर्थ होने का संदेश देने की कवायद शुरू कर दी है। इसका प्रचार प्रसार अतुल्य भारत की तर्ज पर किया जाएगा। योजना को अमलीजामा पहनाने के लिए सरकार ने संचालक समिति का गठन कर दिया है। साथ ही पूरी योजना का खाका तैयार करने के निर्देश दिए जा चुके हैं। पर्यटन विभाग इसका लोगो तैयार कर रहा है। इसे प्रदेश में निवेशकों को लुभाने की सरकार की कोशिश के रूप में भी देखा जा रहा है।
उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्य नाथ ने अतुल्य भारत की तर्ज पर समर्थ प्रदेश का नारा दिया है। पर्यटन विभाग इसका लोगो तैयार करा रहा है। नए स्लोगन और लोगो की फिल्म भी बनवाई जा रही है। प्रमुख सचिव पर्यटन अवनीश अवस्थी के दिशा-निर्देश में यह काम तेजी से किया जा रहा है। इसका उद्देश्य प्रदेश सरकार की छवि को बेहतर संदेश के साथ पूरे देश में प्रचारित करना है। दरअसल, योगी सरकार प्रदेश में विकास को तेज करने के लिए धार्मिक पर्यटन स्थलों का विकास और निवेश को प्रोत्साहित करने की नीति पर फोकस कर रही है। सरकार का मानना है कि इससे प्रदेश में रोजगार के साधन विकसित होंगे। साथ ही पूरे देश में सरकार की एक सकारात्मक छवि भी बनेगी। पर्यटन स्थलों के विकास से विदेशी मुद्रा में वृद्धि होने की संभावना बढ़ जाएगी। यही वजह है कि प्रदेश सरकार यहां के पयर्टन स्थलों और संसाधनों का प्रचार प्रसार करने पर जोर दे रही है। अतुल्य भारत की तर्ज पर यूपी ने समर्थ उत्तर प्रदेश का खाका तैयार किया है और इसे अंतिम रूप दिया जा रहा है। जल्द ही इस काम को पूरा कर प्रचार शुरू कर दिया जायेगा। गौरतलब है कि केन्द्र सरकार ने वाणिज्य एवं उद्योग, मानव संसाधन, विज्ञान एवं प्रौद्योगिकी, पर्यटन संस्कृति एवं न्याय, इलेक्ट्रानिक सूचना एवं प्रसारण, खेलकूद, नदी एवं गंगा शुद्धिकरण, परिवहन राजमार्ग व जलपोत और रेल आदि दस मंत्रालयों के सहयोग से पूर्ण होने वाली ईज ऑफ डुईंग बिजनेस योजना द्वारा इनकेडिबल इंडिया यानि अतुल्य भारत का नारा दिया था। अब उसकी तर्ज पर रेडिएंट यूपी (समर्थ उत्तर प्रदेश) का स्लोगन जल्द देखने को मिलेगा। इसके लिए प्रदेश सरकार विश्वस्तर पर इसके क्रियान्वयन की तैयारी कर रही है। योजना को जमीन पर उतारने के लिए संचालन समिति का गठन कर दिया गया है। इस समिति में प्रदेश सरकार के आला अफसरों को अहम जिम्मेदारियां दी गई हैं। यूपी की छवि सुधारने के लिए बनाई गई समिति में सहारनपुर के योगगुरू स्वामी भारत भूषण को भी शामिल किया गया है।
इस समिति में एसआरआईडी के डॉयरेक्टर अजय कुमार सिंह, राष्ट्रीय राजमार्ग संस्थान के अमित भारद्वाज, रंजना कौल विधि विशेषज्ञ व लोनावाला के सुबोध तिवारी आदि को स्थान दिया गया है। कुल मिलाकर अभी तक यूपी को उत्तम प्रदेश का स्लोगन देने वाले अधिकारी अब उसे समर्थ प्रदेश के रूप में दिखाने में जुट गए हैं। खुद मुख्यमंत्री योगी इस पूरी योजना पर अपनी नजरें जमाए हुए हैं और जरूरी दिशा-निर्देश जारी कर चुके हैं। यूपी को प्रचारित प्रसारित करने के लिए गठित समिति के मुखिया योग गुरू भारत भूषण का कहना है कि हर बात के लिए सरकार का मुंह नहीं देखना चाहिए बल्कि विशेष रूप से स्वच्छता और सुरक्षा के मामले में। हमें स्मार्ट सिटी बनाने के लिए यूपी के हर नागरिक के अंदर यह भावना भरनी होगी कि वे महसूस करें कि वे समर्थ यूपी के नागरिक हैं। नागरिक जब अंदर से महसूस करेंगे तो हम एक दिन समर्थ यूपी बनाकर दिखा भी देंगे।

अपराध मुक्त से उत्तम प्रदेश तक

उत्तर प्रदेश में सरकारें बदलीं तो प्रदेश के संदेश भी बदले गए। सरकारों ने प्रदेश की छवि लोगों तक पहुंचाने के लिए कई संदेशों का सहारा लिया। इसमें अपराध मुक्त उत्तर प्रदेश से उत्तम प्रदेश तक का संदेश शामिल है। मायावती सरकार में अपराध मुक्त प्रदेश का संदेश दिया गया। इसके बाद आई सपा सरकार ने उत्तम प्रदेश का संदेश लोगों को दिया।

Pin It