स्थापना दिवस पर होमगार्ड के जवानों में दिखा जबरदस्त उत्साह, रैतिक परेड देखने उमड़ी भीड़

डीजी होमगार्ड सूर्य कुमार शुक्ला ने ध्वजारोहण कर ली परेड की सलामी
राज्यमंत्री स्वतंत्र प्रभार अनिल राजभर भी रहे मौजूद, प्रदर्शनी का भी आयोजन

4पीएम न्यूज़ नेटवर्क
लखनऊ। जेल रोड स्थित होमगार्ड मुख्यालय के परेड ग्राउंड में आज 55वें होमगार्ड स्थापना दिवस समारोह का आयोजन किया गया। डीजी होमगार्ड सूर्य कुमार शुक्ला ने ध्वजारोहण कर परेड की सलामी ली। इस दौरान अनिल राजभर राज्यमंत्री (स्वतंत्र प्रभार) सैनिक कल्याण, खाद्य प्रसंस्करण, होमगार्ड, प्रांतीय रक्षक दल एवं नागरिक सुरक्षा उत्तर प्रदेश मौजूद रहे। होमगार्ड रैतिक परेड में मान-प्रणाम स्वीकार किया गया। इसके साथ ही होमगार्ड कल्याण प्रदर्शनी का भी उद्घाटन किया गया। इस परेड को देखने काफी संख्या में लोग भी पहुंचे।
समारोह के दौरान होमगार्ड के जवानों की कदमताल और उनका जोश देखते ही बन रहा था। डीजी होमगार्ड ने राज्यमंत्री के साथ परेड का जायजा लिया। इस दौरान होमगार्डों ने रूटमार्च किया और एनडीआरएफ के साथ प्रदर्शनी भी लगाई। वहीं डीजी होमगार्ड ने अपने संबोधन में कहा कि रोजाना 50 हजार से ज्यादा होमगाड्र्स शहरी व ग्रामीण इलाकों में सुरक्षा व्यवस्था और ट्रैफिक संभालते हैं। पुलिस के साथ कंधे से कंधा मिलाकर कानून व्यवस्था में सहयोग देने वाले होमगार्ड अब बॉर्डर पर भी मोर्चा संभालेंगे। उन्हें नेपाल समेत यूपी से जुड़ी अन्य सीमाओं पर तैनात करने की योजना बनाई जा रही है। शुरुआती दौर में 1400 होमगार्ड (14 कंपनी) जवानों की ड्यूटी लगाई जाएगी। एक कंपनी में 95 होमगार्डो के साथ एक कंपनी कमांडेंट, एक सहायक कंपनी कंमाडेंट व तीन प्लाटून कमांडर रहेंगे। ये सभी बॉर्डर पर एलआईयू की तर्ज पर काम करेंगे। सभी होमगार्ड क्षेत्रीय होंगे, जिससे उन्हें सीमा पर हो रही प्रत्येक गतिविधि की पल-पल की जानकारी आसानी से मिलती रहे और वह साथियों और एसएसबी के जवानों को इससे वाकिफ कराते रहें।
यूपी पहला ऐसा राज्य है जहां सॉफ्टवेयर के जरिए होमगार्डों की ड्यूटी लगाई जा रही है। आपदा में मदद के लिए होमगार्ड के 500 अधिकारियों और 600 से अधिक होमगार्ड को एनडीआरएफ व अन्य विशेषज्ञ इकाइयों से प्रशिक्षित किया जा चुका। उन्होंने दुख जताते हुए कहा, अब तक लगभग 1250 होमगाड्र्स ड्यूटी के दौरान जान गंवा चुके हैं।

कोयला घोटाले में मधु कोड़ा समेत चार लोग दोषी करार

कोर्ट दोषियों को कल सुनाएगी सजा

4पीएम न्यूज़ नेटवर्क
नई दिल्ली। झारखंड के पूर्व मुख्यमंत्री मधु कोड़ा को दिल्ली की विशेष अदालत ने कोयला घोटाले के एक मामले में दोषी करार दिया है। अदालत ने इस मामले में पूर्व कोयला सचिव एचसी गुप्ता, झारखण्ड के पूर्व चीफ सेक्रेटरी अशोक कुमार बसु व एक अन्य को साजिश और आपराधिक षडय़ंत्र रचने का दोषी पाया है। अदालत चारों दोषियों की सजा पर फैसला कल करेगी।
सीबीआई की विशेष अदालत के न्यायाधीश भरत पराशर ने बुधवार को सभी आरोपियों को फैसला सुनाते वक्त अदालत में मौजूद रहने का आदेश दिया था। यह मामला झारखंड में राजहरा नॉर्थ कोयला ब्लॉक को कोलकाता की विनी आयरन एंड स्टील उद्योग लिमिटेड (वीआईएसयूएल) को आवंटित करने में कथित अनियमितताओं से संबंधित है। इस मामलेे में सीबीआई के आरोप-पत्र में मधु कोड़ा, एचसी गुप्ता और कंपनी के अलावा, घोटाले में अन्य आरोपी झारखंड के पूर्व मुख्य सचिव एके बसु, दो लोक सेवक -बसंत कुमार भट्टाचार्य, बिपिन बिहारी सिंह, वीआईएसयूएल के निदेशक वैभव तुलस्यान, कोड़ा के कथित करीबी सहयोगी विजय जोशी और चार्टर्ड अकाउंटेंट नवीन कुमार तुलस्यान का नाम शामिल था। सीबीआई ने आरोप लगाया कि झारखंड सरकार और इस्पात मंत्रालय ने वीआईएसयूएल को कोयला खंड आवंटन करने की अनुशंसा नहीं थी बल्कि 36वीं अनुवीक्षण समिति (स्क्रींनिग कमेटी) ने आरोपित कंपनी को खंड आवंटित करने की सिफारिश की थी। फिलहाल अब सबकी निगाहें कल कोर्ट में आने वाले फैसले पर टिकी हैं, जब दोषियों को सजा सुनाई जाएगी।

सरकार के सामने अपनी मांग रखेंगे ठेकेदार

4पीएम न्यूज़ नेटवर्क
लखनऊ। उत्तर प्रदेश ठेकेदार कल्याण समिति के अध्यक्ष गंगा प्रसाद गुप्ता ने मांग की है कि ठेकेदार कल्याण समिति के लिए लोक निर्माण विभाग परिसर में कार्यालय भवन का निर्माण होना चाहिए। इसके अलावा हैसियत एवं पंजीकरण तथा नवीनीकरण को पूर्व की भांति माना जाए। साथ ही नए संशोधन से ठेकेदारों को मुक्त किया जाए।
उन्होंने कहा कि वित्तीय स्वीकृति के बगैर निविदाएं आमंत्रित न की जाएं और पूर्व में अनुबंधित कार्य पर जीएसटी की अतिरिक्त धन राशि का भार ठेकेदार पर न डाला जाए। होलसेल प्राइस इंडेक्स लेबर प्राइस इंडेक्स के अनुसार किया जाए। 14 दिसंबर से शुरू होने वाले द्वितीय महा अधिवेशन में लोक निर्माण मंत्री केशव प्रसाद मौर्य, सांसद कौशल किशोर, मंत्री भूपेंद्र सिंह चौधरी और विधायक सुरेश श्रीवास्तव को आमंत्रित किया गया है। उनके सामने सामने मांगों को रखा जाएगा।

नम आंखों से मनाई गई संसद पर हमले की 16वीं बरसी

राजनीतिक लड़ाई भूल शहादत के सम्मान में जुटे नेता

4पीएम न्यूज़ नेटवर्क
नई दिल्ली। संसद पर हमले की 16वीं बरसी पर आज सभी दलों के नेता एकजुट नजर आये। सबने नम आंखों से जवानों की शहादत को सलाम किया और लोकतंत्र की मजबूती के लिए सदैव तत्पर रहने का वादा किया। वहीं संसद की सुरक्षा व्यवस्था पूरी तरह से चाक चौबंद नजर आई।
गुजरात विधानसभा के चुनाव प्रचार में एक दूसरे पर जुबानी तीर छोड़ रहे पीएम नरेंद्र मोदी और कांग्रेस के नव निर्वाचित अध्यक्ष राहुल गांधी संसद पर हमले की बरसी के दौरान एक साथ नजर आये। इन दोनों नेताओं के अलावा सरकार और विपक्ष के कई अन्य नेता भी मौजूद रहे। दुनिया के सबसे बड़े लोकतंत्र के सबसे बड़े प्रतीक संसद पर आतंकी हमले की 16वीं बरसी पर लोकतंत्र और भी मजबूत नजर आया।

Pin It