आज आईपीएस एसोसिएशन की बैठक, पुलिस कमिश्नरी पर होगी चर्चा, अफसर आर-पार के मूड में

डीएम करेंगे जिले की क्राइम मीटिंग के आदेश से खफा है आईपीएस अफसर

संजय शर्मा 
लखनऊ। आईएएस और आईपीएस विवादों की चर्चा के बाद आज आईपीएस एसोसिएशन की बैठक पर सभी की निगाहें टिकी है। चीफ सेके्रटरी के एक खत के बाद पूरे सूबे में इन दो शीर्ष पदों के अफसरों के बीच विवाद की खबरों ने पूरी सरकार में हडक़ंप मचा दिया था। सीएम योगी ने भी इस विवाद पर नाखुशी जतायी थी, जिसके बाद प्रमुख सचिव गृह ने इस मामले को खत्म करने की कोशिश की थी, मगर आईपीएस अफसर अब इस बार आर-पार की लड़ाई चाहते हैं। उनका मानना है कि यह सही मौका है जब सूबे के महानगरों में पुलिस कमिश्नरी की मांग को पूरा किया जाए। यह लोग सरकार को समझाना चाहते हैं कि यूपीकोका तभी प्रभावी हो पायेगा जब यूपी में पुलिस कमिश्नरी लागू होगी।
लखनऊ के शीर्ष पदों पर बैठे पुलिस अफसर भले ही मुखर न हो रहे हों, मगर नौजवान आईपीएस अफसर बहुत भडक़े हुए हैं। उनका मानना है कि अगर जिले की क्राइम मीटिंग डीएम लेने लगेंगे तो जिले में उनका इकबाल खत्म हो जायेगा। इन नौजवान अफसरों का कहना है कि वह भी उसी अखिल भारतीय सेवा से चयनित होकर आते हैं, जिससे आईएएस  आते हैं। जब विकास का जिमा आईएएस  संभालते हैं तो कानून व्यवस्था का काम आईपीएस का होना चाहिए। यह अफसर तो इतने जोश में हैं कि वह  आज की मीटिंग में यह बात उठाने वाले हैं कि प्रमुख सचिव गृह का पद भी आईपीएस को ही दिया जाना चाहिए। जैसे ही चीफ सेके्रटरी का खत सामने आया तभी पुलिस अफसरों के बगावती तेवर सामने आने लगे थे, हालांकि बाद में उन्हें यह कहकर शांत किया गया था कि अभी डीजीपी के सुझाव  का पत्र शासन में लंबित है और इस पर अभी कार्यवाही होनी है इसलिए कोई भी फैसला अंतिम नहीं है।

मगर सूत्रों का कहना है कि आज शाम आईपीएस एसोसिएशन की बैठक में पदाधिकारियों पर दबाव डाला जा सकता है  कि वह सरकार से दो टूक बात करें। पिछले दिनों यूपी में हुए ताबड़तोड़ एनकाउंटर की जिस तरह सीएम योगी ने सराहना की और कहा कि पुलिस का हौसला बढ़ा है इससे भी यह अफसर खुश हैं और उन्हें लगता है कि इस बार यूपी में उनकी सालों पुरानी मांग पूरी हो सकती है।

आईएएस और आईपीएस जैसा कोई विवाद नही है। दोनों सरकार के अंग है और मिलकर काम करते है। आज की बैठक इसलिए बुलायी गयी है क्योंकि कुछ जिले में अफसर बहुत अच्छा काम कर रहे है, तो उनके सुझाव को रिकार्ड के रूप में रखा जायेगा और पुलिसिंग कैसे बढिय़ा हो इस पर चर्चा होगी। हां, पुलिस कमिश्नरी भी इस चर्चा का एक बिंदु है। 
-प्रवीन सिंह, अध्यक्ष आईपीएस एसोसिएशन

Pin It