छह दिन बाद भी नहीं मिले पुलिस को तारिक के हत्यारे

खुलासे के इंतजार में लूसी सिंह हत्याकांड भी

4पीएम न्यूज़ नेटवर्क
लखनऊ। राजधानी में बदमाशों के हौसले लगातार बढ़ते ही जा रहे हैं। वह खाकी को खुली चुनौती देते हुये एक न एक वारदात को अंजाम दे रहे हंै और खुद को हाईटेक कहने वाली पुलिस इन अपराधियों को पकडऩे में पूरी तरह नाकाम साबित हो रही है। शहर में वीवीआईपी इलाके में हुयी मुन्ना बजरंगी के करीबी की हत्या का मामला हो या सरोजनीनगर में महिला की हत्या का मामला, पुलिस अभी तक बदमाशों को पकडऩा तो दूर घटना को अंजाम किसने दिया यह भी पता नहीं लगा सकी है।
एक दिसम्बर को गोमतीनगर थाना क्षेत्र में स्थित ग्वारी पुल पर मुन्ना बजरंगी के करीबी तारिक को उस समय ताबड़तोड़ गोलियां बरसाकर मौत की नींद सुला दिया गया था जब वह अपनी लग्जरी कार से कहीं जा रहे थे। पुलिस ने इस पूरे मामले को एसटीएफ के पाले में फेंक दिया। पुलिस का कहना है कि चंूकि एसटीएफ इस तरीके की वारदातों को सुलझाने की विशेषज्ञ है इसलिये तारिक हत्याकांड के खुलासे के लिये भी एसटीएफ को इस काम में तेजी लाने के लिये कहा गया है जबकि उसकी मदद के लिये पुलिस भी उसके साथ रहेगी।
इस घटना को घटित हुये छह दिन हो गये है। आज तक यह स्पष्ट नहीं हो सका है कि आखिर तारिक को मौत की नींद किसने सुलाया। एसटीएफ की कई टीमें इस हत्याकांड के खुलासे के लिये दिन रात एक किये हुये है। ऐसी ही एक वारदात सरोजनीनगर थाना क्षेत्र में हुयी थी। जहां बदमाशों ने त्रिमूर्तिनगर की रहने वाली महिला लूसी सिंह की चाकुओं से गोदकर हत्या कर दी थी। पच्चीस नवंबर को हुयी इस घटना के खुलासे के लिये पुलिस ने कई लोगों से पूछताछ के लिये उठाया। कई टीमें गठित की मगर रिजल्ट अभी तक सिफर ही है।

Pin It