हाईटेक पुलिस भी नहीं तोड़ पा रही प्रदेश में अपराधियों के हौसले

कई हत्याकांडों का अभी तक नहीं हुआ खुलासा, अंधेरे में तीर चला रही पुलिस
आए दिन वारदातों को अंजाम दे रहे अपराधी, कई आरोपियों का नहीं मिल रहा सुराग

अनिल सैनी
लखनऊ। प्रदेश में अपराधों का सिलसिला कम होने का नाम नहीं ले रहा है। आए दिन हत्या जैसी वारदातों को अंजाम देकर अपराधी फरार हो रहे हैं। वहीं राजधानी की हाईटेक पुलिस भी प्रदेश में अपराधियों के हौसले नहीं तोड़ पा रही है। कई वारदातों का आज तक खुलासा नहीं हो सका है। कुछ मामलों में पुलिस केवल अंधरे में तीर चला रही है। यह स्थिति तब है जब प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने प्रदेश को अपराध मुक्त करने के कड़े निर्देश जारी किए हैं।
राजधानी लखनऊ, नोएडा व कानपुर समेत पूरे प्रदेश में बदमाश दिनदहाड़े हत्या जैसे अपराधों को अंजाम दे रहे हैं। पुलिस की सारी चौकसी और घेरेबंदी को धता बताकर अपराधी आराम से फरार हो जाते हैं। अपराधियों का पता लगाने के लिए लगाई गई पुलिस टीमें को भी बदमाशों का सुराग नहीं मिल पा रहा है। कई मामलों में ये टीमें अंधेरे में तीर चलाती नजर आती है। वहीं अपराधी बेखौफ होकर कोई दूसरी वारदात को अंजाम दे देता है। पिछले दिनों गोमतीनगर विस्तार के कावेरी अपार्टमेंट में रहने वाले मोहम्मद तारिक को बदमाशों ने उस समय फिल्मी स्टाइल में गोलियों से छलनी कर दिया था जब वह कार से दयाल पैराडाइज के पास स्थित ओवरब्रिज पर पहुंचे थे। पुलिस के मुताबिक मृतक माफिया डॉन मुन्ना बजरंगी का करीबी था। अपराधियों का पता लगाने के लिए पुलिस ने कई टीमें गठित की। पूर्वांचल के कई माफिया गैंग पर भी पुलिस की नजर है। पुलिस अब इस मामले में झांसी जेल में बंद माफिया डॉन मुन्ना बजरंगी और लखनऊ जोन के जेलों में बंद कई बदमाशों से पूछताछ कर सुरागकशी में जुटी है। लेकिन कई दिन बीत जाने के बाद भी पुलिस को अपराधियों का सुराग नहीं मिल पाया है। हैरत यह है कि इस चर्चित हत्याकांड में एसटीएफ को भी लगाया गया है। फिलहाल पुलिस अंधेरे में ही तीर चलाती नजर आ रही है। वहीं दूसरी ओर 30 नवंबर को बदमाशों ने कानपुर के बिल्हौर में एक पत्रकार नवीन की हत्या कर दी। इसके एक दिन पहले कानपुर में फीलखाना निवासी सतीश कश्यप 55 और ऋषभ पांडेय की बदमाशों ने चाकुओं से गोदकर हत्या कर दी थी। बदमाशों ने इस वारदात को तब अंजाम दिया था जब दोनों महेश्वरी मोहाल से लौट रहे थे। इसके दो दिन पहले 27 नवंबर को मथुरा के शनिदेव मंदिर के पुजारी बाबा रामदास की निर्मम हत्या कर दी गयी थी। कानपुर में पत्रकार की हत्या करने वाले आरोपियों को पुलिस अभी तक नहीं पकड़ सकी है। हालांकि पुलिस इन अपराधियों को जल्द पकडऩे का भरोसा दे रही है। हालांकि नोएडा के तिहरे हत्याकांड में पुलिस को सफलता मिली है। नोएडा में बदमाशों ने सरेराह भाजपा नेता शिवकुमार यादव, उनके चालक और गार्ड की हत्या कर दी थी। इस हत्या से सनसनी फैल गयी थी। इस मामले में एसटीएफ ने सुंदर भाटी गैंग के तीन शूटरों को गिरफ्तार किया है। इनसे पूछताछ चल रही है। कुल मिलाकर कुछ मामलों को छोड़ दिया जाए तो पुलिस प्रदेश में अपराधियों पर लगाम लगाने में पस्त नजर आती है। तमाम मामले अभी भी खुलासे का इंतजार कर रहे हैं तो कई ठंडे बस्ते में चले गए हैं।

पहले की अपेक्षा प्रदेश में आपराधिक घटनाओं में काफी कमी आयी है। कई वारदातों का खुलासा किया गया है, जिन घटनाओं का अभी खुलासा नहीं हुआ है उसके लिए पुलिस टीमें लगाई गईं हैं। पुलिस जल्द ही अन्य मामलों का खुलासा करेगी और अपराधी सलाखों के पीछे होंगे।
सुलखान सिंह, डीजीपी

Pin It