सिकंदरा विधानसभा सीट के उप चुनाव में सभी दलों ने शुरू की जोर आजमाइश

दो अलग-अलग नामांकनकर्ताओं ने खुद को सपा का अधिकृत प्रत्याशी बताया

4पीएम न्यूज़ नेटवर्क
लखनऊ। भाजपा विधायक मथुरा पाल के निधन के बाद खाली हुई सिकंदरा विधानसभा सीट पर होने वाले उप चुनाव के लिए अंतिम दिन भाजपा, सपा और कांग्रेस प्रत्याशियों ने कलेक्ट्रेट में नामांकन कर उप चुनाव के लिए जोर आजमाइश शुरू कर दी है। भाजपा ने दिवंगत विधायक मथुरा पाल के छोटे बेटे अजीत पर दांव लगाया है। नामांकन प्रक्रिया के अंतिम दिन अजीत पाल ने दोपहर लगभग दो बजे अपने बड़े भाई महिपाल पाल व भतीजे के साथ आरओ कक्ष पहुंच कर एक सेट दाखिल किया। प्रदेश अध्यक्ष डॉ महेंद्र नाथ पाण्डेय व अन्य पार्टी पदाधिकारियों के साथ कलेक्ट्रेट पहुंचे और नामांकन पत्र का दूसरा सेट भी दाखिल किया। वहीं सपा से सीमा सचान और पवन कटियार ने नामांकन पत्र दाखिल किया है। इन दोनों नामांकनकर्ताओं ने खुद को सपा का वैध प्रत्याशी बताते हुए चुनाव निशान पत्र और अखिलेश यादव का हस्ताक्षरित चुनाव निशान पत्र जमा किया है। अब स्क्रूटनी में वैध उम्मीदवार का फैसला होगा।
सपा की तरफ से सबसे पहले सीमा सचान ने अपना नामांकन पत्र प्रस्तुत किया। लेकिन कुछ ही देर बाद पार्टी द्वारा पूर्व में घोषित प्रत्याशी पवन कटियार भी कलेक्ट्रेट पहुंचे और नामांकन पत्र का दूसरा सेट दाखिल किया। इस दौरान उन्होंने पार्टी के प्रदेश अध्यक्ष नरेश उत्तम द्वारा स्वीकृत अधिकृत चुनाव निशान का पत्र दाखिल किया। वहीं सीमा सचान ने राष्ट्रीय अध्यक्ष अखिलेश यादव का हस्ताक्षरित चुनाव निशान पत्र दाखिल किया। दोनों ही दावेदार खुद को सपा का अधिकृत दावेदार बताते रहे। जबकि कांग्रेस के दावेदार प्रभाकर पाण्डेय सिने तारिका महिमा चौधरी के साथ कलेक्ट्रेट पहुंचे। इस दौरान महिमा के साथ सेल्फी लेने को युवकों में होड़ मच गई। इसके बाद प्रभाकर ने अपना दूसरा सेट दाखिल किया। उपचुनाव से दूर रहने वाली बसपा ने इस चुनाव में भी अपना कोई प्रत्याशी नहीं उतारा। कानपुर से आए चर्चित वीएन पाल अपने अंदाज में नामांकन कराने पहुंचे। फार्म अधूरा होने की वजह से वीएन पाल का नामांकन नहीं हो सका और बाद में हंगामा करने पर उन्हें हिरासत में ले लिया गया।

पुलिस ने भांजी लाठियां
सिकंदरा विधानसभा सीट के उपचुनाव में समाजवादी पार्टी से पहले सीमा सचान ने पर्चा खरीदा। बाद में सपा के राष्ट्रीय अध्यक्ष अखिलेश यादव ने पवन कटियार का टिकट अधिकृत कर दिया। इसके बाद पवन ने एक सेट नामांकन पत्र दाखिल किया। सोमवार को सपा ने पवन का टिकट निरस्त कर सीमा को फिर से पार्टी का उम्मीदवार बना दिया। इसके बाद तो सपा दो खेमों में बंटी नजर आई। सपा कार्यकर्ताओं में आपसी भिड़ंत और मारपीट होने लगी। दोपहर लगभग एक बजे सपा की सीमा सचान समर्थकों के साथ नामांकन कराने कलेक्ट्रेट पहुंची तो सपाइयों के बीच विरोध की सुगबुगाहट शुरू हो गई। पवन समर्थक गुट सपा कार्यालय में डटा रहा तो सीमा समर्थक सीधा कलेक्ट्रेट आ गए। सीमा ने आरओ कक्ष पहुंच कर नामांकन पत्र दाखिल किया। अब इन दोनों में से किसे चुनाव निशान मिलेगा यह स्क्रूटनी के बाद ही तय हो सकेगा।

Pin It