4पीएम में छपी खबर तो गोमती नगर विस्तार के निवासियों को मिली नारकीय जीवन से निजात, एलडीए ने किया जलभराव का समाधान

अधूरे नाले का जल्द होगा निर्माण, कार्य में लापरवाही बरते जाने की होगी जांच
एलडीए सचिव ने तलब की पत्रावली, दोषियों के खिलाफ होगी सख्त कार्रवाई

4पीएम न्यूज़ नेटवर्क
लखनऊ। जनेश्वर मिश्र पार्क स्थित ग्वारी क्रासिंग से गोमती नगर विस्तार को जोडऩे वाली मुख्य सडक़ पर पिछले छह माह से जलभराव की समस्या की खबर जब 4पीएम में छपी तब एलडीए के अफसरों का ध्यान समस्या पर गया। खबर छपते ही आनन-फानन में अफसरों ने अभिंयताओं को समस्या के तुरंत निस्तारण के निर्देश दिए। अभियंताओं ने मौके का निरीक्षण किया और जलभराव के कारणों का पता लगाया। जलभराव को रोकने के लिए फिलहाल नाले पर बांध लगा दिया गया है, जिससे सडक़ पर जलभराव की समस्या खत्म हो गई है। जलभराव की समस्या दूर होने से गोमती नगर विस्तार के हजारों लोगों की भारी राहत मिली है।
एलडीए के अफसरों और अभियंताओं का कहना है कि फिलहाल लोगों को राहत देने के लिए अस्थायी समाधान किया गया है, लेकिन जल्द ही अधूरे नाले का निर्माण कराया जाएगा। इसके अलावा निर्माण कार्य में लापरवाही करने वाले ठेकेदार और अभियंताओं के खिलाफ भी कार्रवाई की तैयारी की जा रही है। एलडीए के सचिव एमपी सिंह ने नाले के निर्माण संबंधी पत्रावली को भी तलब किया है। सचिव का कहना है कि नाला निर्माण में लापरवाही की जांच करायी जाएगी। गौरतलब है कि गोमती नगर विस्तार में एलडीए की ओर से नाला निर्माण में लापरवाही के कारण यहां जलभराव की समस्या पैदा हो गई थी। मुख्य सडक़ पर नाले का पानी भरने के कारण यहां से निकलने वाले हजारों लोगों को आवागमन में समस्या हो रही थी। गंदे पानी से उठ रही दुर्गन्ध के कारण स्थानीय लोग नरकीय जीवन जीने को मजबूर थे। जलभराव के कारण आस-पास बनी लगभग एक दर्जन से अधिक दुकानों के मालिकों की दुकानदारी चौपट हो गयी थी। समस्या को लेकर स्थानीय लोगों ने एलडीए अफसरों से कई बार लिखित शिकायत की थी लेकिन उनकी समस्या पर किसी ने ध्यान नहीं दिया, लेकिन 4पीएम ने 27 नवंबर के अंक में नारकीय जीवन जीने को मजबूर गोमती नगर विस्तार की जनता, मुख्य सडक़ पर छह माह से भरा नाले का पानी शीषर्क से खबर छापी तो अधिकारियों ने कार्रवाई की।

अधूरे नाले का जल्द होगा निर्माण, कार्य में लापरवाही बरते जाने की होगी जांच

एलडीए सचिव ने तलब की पत्रावली, दोषियों के खिलाफ होगी सख्त कार्रवाई

4पीएम न्यूज़ नेटवर्क
लखनऊ। जनेश्वर मिश्र पार्क स्थित ग्वारी क्रासिंग से गोमती नगर विस्तार को जोडऩे वाली मुख्य सडक़ पर पिछले छह माह से जलभराव की समस्या की खबर जब 4पीएम में छपी तब एलडीए के अफसरों का ध्यान समस्या पर गया। खबर छपते ही आनन-फानन में अफसरों ने अभिंयताओं को समस्या के तुरंत निस्तारण के निर्देश दिए। अभियंताओं ने मौके का निरीक्षण किया और जलभराव के कारणों का पता लगाया। जलभराव को रोकने के लिए फिलहाल नाले पर बांध लगा दिया गया है, जिससे सडक़ पर जलभराव की समस्या खत्म हो गई है। जलभराव की समस्या दूर होने से गोमती नगर विस्तार के हजारों लोगों की भारी राहत मिली है।
एलडीए के अफसरों और अभियंताओं का कहना है कि फिलहाल लोगों को राहत देने के लिए अस्थायी समाधान किया गया है, लेकिन जल्द ही अधूरे नाले का निर्माण कराया जाएगा। इसके अलावा निर्माण कार्य में लापरवाही करने वाले ठेकेदार और अभियंताओं के खिलाफ भी कार्रवाई की तैयारी की जा रही है। एलडीए के सचिव एमपी सिंह ने नाले के निर्माण संबंधी पत्रावली को भी तलब किया है। सचिव का कहना है कि नाला निर्माण में लापरवाही की जांच करायी जाएगी। गौरतलब है कि गोमती नगर विस्तार में एलडीए की ओर से नाला निर्माण में लापरवाही के कारण यहां जलभराव की समस्या पैदा हो गई थी। मुख्य सडक़ पर नाले का पानी भरने के कारण यहां से निकलने वाले हजारों लोगों को आवागमन में समस्या हो रही थी। गंदे पानी से उठ रही दुर्गन्ध के कारण स्थानीय लोग नरकीय जीवन जीने को मजबूर थे। जलभराव के कारण आस-पास बनी लगभग एक दर्जन से अधिक दुकानों के मालिकों की दुकानदारी चौपट हो गयी थी। समस्या को लेकर स्थानीय लोगों ने एलडीए अफसरों से कई बार लिखित शिकायत की थी लेकिन उनकी समस्या पर किसी ने ध्यान नहीं दिया, लेकिन 4पीएम ने 27 नवंबर के अंक में नारकीय जीवन जीने को मजबूर गोमती नगर विस्तार की जनता, मुख्य सडक़ पर छह माह से भरा नाले का पानी शीषर्क से खबर छापी तो अधिकारियों ने कार्रवाई की।

विकास के मुद्दे पर चुनाव लडऩे की वजह से मिली जीत: संजय

4पीएम न्यूज़ नेटवर्क
लखनऊ। आम आदमी पार्टी यूपी के निकाय चुनाव में मिली सफलता से काफी उत्साहित है। पार्टी के राष्ट्रीय प्रवक्ता संजय सिंह ने आज एक प्रेस कांफ्रेंस में कहा कि निकाय चुनाव में आप प्रत्याशियों को जिताने के लिए यूपी की जनता का धन्यवाद। हमने विकास के मुद्दे पर जीत हासिल की है। जिन सीटों पर आप प्रत्याशी जीते हैं, वहां मॉडल गुड गवर्नेंस के रूप में काम किया जायेगा।
संजय सिंह ने कहा कि ईवीएम पर हमारे सवाल जायज हैं। चुनाव आयोग जब तक इस पर ऐक्शन नहीं लेगा भाजपा को हराना कठिन काम है। उन्होंने कहा कि निकाय चुनाव में जनादेश बीजेपी की नोटबन्दी के खिलाफ है। यूपी में हमारे 5 जोन हैं। इसकी जल्द मीटिंग होगी। आगे की रणनीति तय करेंगे। भाजपा पर आरोप लगाते हुए आप के राष्ट्रीय प्रवक्ता ने कहा कि वर्तमान बीजेपी सरकार ने शिक्षामित्रों को भी धोखा दिया है।

यूपी में विकसित की जाएगी फार्म पद्धति: कृषि मंत्री शाही

4पीएम न्यूज़ नेटवर्क
लखनऊ। कृषि मंत्री सूर्य प्रताप शाही ने कहा है कि हर न्याय पंचायतों में किसानों की पाठशाला चलाई जाएगी। इसमें किसानों को मिट्टी की सेहत के बारे में जानकारी दी जाएगी। इसके अलावा यहां किसानों को खेती में सही तरीके से कृषि यंत्रों के उपयोग के बारे में भी बताया जाएगा। किसानों को कृषि के मत्स्य और कुक्कुट पालन के लिए भी प्रोत्साहित किया जाएगा। यूपी में फार्म पद्धति को डेवलप किया जायेगा। किसान पाठशाला के लिए 1 करोड़ खर्च होंगे। कृषि मंत्री आज कृषि भवन में पत्रकारों से बातचीत कर रहे थे।
श्री शाही ने बताया कि 5 से 9 दिसंबर और 11 से 15 दिसंबर तक पाठशालाएं चलाई जाएंगी। दो चरणों के इस अभियान में 10 लाख किसानों को लाभान्वित करने का लक्ष्य रखा गया है। कृषि तकनीकी सहायक और एपीएम पाठशाला का संचालन करेंगे। प्राइमरी स्कूलों में ही किसानों को पढ़ाया जायेगा। इस दौरान किसानों को खेतों में सही मात्रा में उर्वरकों के प्रयोग और सिंचाई का तरीका भी बताया जाएगा। इसके अलावा फसल में लगने वाली बीमारियों से होने वाली क्षति से बचने के उपाय भी बताए जाएंगे।

साइबर क्राइम में अव्वल है उत्तर प्रदेश

नेशनल क्राइम रिकार्ड ब्यूरो की रिपोर्ट में हुआ खुलासा

4पीएम न्यूज़ नेटवर्क
लखनऊ। देश भर में साइबर अपराधियों का बोलबाला है। देश में साल दर साल साइबर क्राइम के शिकार होने वालों की संख्या में तेजी से इजाफा हो रहा है। नेशनल क्राइम रिकॉर्ड ब्यूरो (एनसीआरबी) 2016 की हालिया रिपोर्ट इस दावे की तस्दीक करती है। देश जैसे-जैसे डिजिटलाइजेशन की तरफ बढ़ रहा है, वैसे-वैसे अवैध मुनाफे से लेकर महिलाओं के खिलाफ साइबर क्राइम के मामलों में बढ़ोत्तरी हुई है। ताजा रिपोर्ट के मुताबिक सबसे ज्याद साइबर क्राइम उत्तर प्रदेश में दर्ज हुए हैं तो वहीं रैंक के मामले में असम सबसे ऊपर है।
साइबर क्राइम के तहत दर्ज केसों की बात करें तो उसमें सबसे ऊपर उत्तर प्रदेश का नाम है। साल 2016 में यहां 2639 मामले दर्ज हुए, जो किसी भी अन्य राज्य की तुलना में सर्वाधिक हैं। कुल आबादी और दर्ज साइबर मामलों के आधार पर देश में यूपी की 10वीं रैंक है। इसके बाद दूसरे नंबर पर महाराष्ट्र का नाम आता है, जहां बीते साल 2380 साइबर क्राइम के केस दर्ज हुए। रैंकिंग के आधार पर भी महाराष्ट्र दूसरे नंबर पर है। जबकि 1101 केस के साथ कर्नाटक तीसरे नंबर पर है। राजस्थान की बात करें तो 941 केसों के साथ वो देश में चौथे और 696 नंबरों के साथ असम पांचवें नंबर पर है।

साइबर क्राइम बढऩे की बड़ी वजह

देश में बढ़ते साइबर अपराधों के पीछे कई कारण हैं, लेकिन एनसीआरबी रिपोर्ट की मानें तो सबसे बड़ा कारण अवैध मुनाफा कमाना है। बीते साल इसके चलते देशभर में कुल 5987 मामले दर्ज हुए। जबकि बदले की भावना के कारण हुए साइबर अपराधों की संख्या 1056 रही। देश में दर्ज 686 साइबर क्राइम केस के पीछे का कारण महिलाओं का अपमान था। चौथे सबसे बड़े कारण की बात करें तो वो अवैध वसूली और ब्लैकमेलिंग रहा। साइबर क्राइम के पीछे का पांचवां सबसे बड़ा कारण यौन प्रताडऩा रहा जिसके देश में कुल 569 केस दर्ज हुए हैं।

साल दर साल बढ़ते आंकड़े

आंकड़ों पर गौर करें तो साल 2014 में देश में साइबर क्राइम के कुल 9622 मामले दर्ज हुए। जबकि साल 2015 में ये आंकड़ा बढक़र 11592 जा पहुंचा था। हालिया एनसीआरबी रिपोर्ट के मुताबिक साल 2016 में साइबर क्राइम केस की संख्या 12317 जा पहुंची। पुलिस की लाचारी और हाईटेक होते अपराधियों के कारण आम जनता ठगी की शिकार बन रही है। जागरुकता की कमी और टेक्नोलॉजी के बारे में अनभिज्ञता भी इसका एक बड़ा कारण है।

 

Pin It