निकाय चुनाव के बाद अब लोकसभा की तैयारी में जुटी सपा, प्रत्याशी घोषित कर सियासी दलों को चौंकाया

लोकसभा की फतेहपुर सीट से ताल ठोकेंगे राकेश सचान, कार्यकर्ताओं को क्षेत्र में जनसंपर्क करने के निर्देश
भाजपा समेत विभिन्न दलों को अभी से घेरने की तैयारी, पिछले आम चुनाव में हारी सीटों पर विशेष फोकस
सिकंदरा विधानसभा सीट पर होने वाले उपचुनाव पर भी सपा नेतृत्व की नजर

4पीएम न्यूज़ नेटवर्क

लखनऊ। निकाय चुनाव के बाद अब समाजवादी पार्टी (सपा) लोकसभा चुनाव की तैयारियों में जुट गई है। इस मामले में सपा ने भारतीय जनता पार्टी, बहुजन समाज पार्टी और कांग्रेस को काफी पीछे छोड़ दिया है। प्रदेश में हो रहे नगर निकाय चुनाव के अंतिम चरण के मतदान के बीच ही समाजवादी पार्टी ने उत्तर प्रदेश की एक विधानसभा के लिए होने वाले उपचुनाव के साथ ही एक लोकसभा सीट पर भी प्रत्याशी उतार दिया है। सपा ने कानपुर देहात की सिकन्दरा विधानसभा में होने वाले उप चुनाव और 2019 में होने वाले लोकसभा की फतेहपुर सीट के लिए प्रत्याशियों की घोषणा कर दी है। इसी के साथ वह उप चुनाव के लिए प्रत्याशियों का ऐलान करने वाली पहली पार्टी बन गई है। इसके अलावा सपा की नजर दो लोकसभा सीटों फूलपुर और गोरखपुर के उपचुनाव पर भी है।
2019 के आम चुनाव में करीब 2 साल का समय बाकी है, लेकिन इसकी तैयारियों में राजनीतिक दल अभी से कमर कसने लगे हैं। देशभर में अपनी पकड़ को और मजबूत करने की मंशा से समाजवादी पार्टी ने अभी से तैयारियां शुरू कर दी हैं। सपा न केवल इसकी रणनीति बना रही है बल्कि प्रत्याशियों के चयन पर मंथन भी शुरू कर चुकी है। समाजवादी पार्टी के शीर्ष नेतृत्व ने ऐसी लोकसभा सीटों की पहचान की है, जहां 2014 में उसका प्रदर्शन बहुत खराब रहा है। यहां वह आगामी लोकसभा चुनाव में बेहतर प्रदर्शन की उम्मीद कर रही है। इन सीटों पर खुद को और मजबूत बनाने के मद्देनजर सपा ने अपने कार्यकर्ताओं को साफ निर्देश जारी कर दिए हैं। कार्यकर्ताओं से कहा गया है कि वे लोगों के साथ नियमित तौर पर संपर्क में रहें और सपा सरकार द्वारा किये गये कल्याणकारी कामों के बारे में जनता को बतायें। समाजवादी पार्टी के मुख्य प्रवक्ता राजेंद्र चौधरी ने बताया कि पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष और प्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री अखिलेश यादव द्वारा जनपद कानपुर देहात की विधानसभा क्षेत्र 207 सिकंदरा विधानसभा सीट के उपचुनाव के लिए पार्टी नेता पवन कटियार और फतेहपुर लोकसभा से राकेश सचान को प्रत्याशी घोषित किया गया है, यह लोग अभी से क्षेत्र में मेहनत करेंगे तो परिणाम बेहतर होंगे। इसके साथ ही समाजवादी पार्टी ने 2019 के लोकसभा चुनाव की तैयारियों का बिगुल भी फूंक दिया है। इसी क्रम में पार्टी ने प्रत्याशियों का ऐलान करना अभी से शुरू कर दिया है। लोकसभा चुनाव 2019 के लिए फतेहपुर लोकसभा सीट से राकेश सचान को प्रत्याशी घोषित किया गया है। गौरतलब है कि मौजूदा वक्त में यहां से साध्वी निरंजन ज्योति भाजपा की सांसद हैं। वहीं सिकंदरा विधानसभा सीट भारतीय जनता पार्टी के विधायक मथुरा प्रसाद पाल के निधन से खाली हुई थी। इस सीट पर चार दिसंबर तक नामांकन किए जाएंगे। पांच दिसंबर को नामांकन पत्रों की जांच होगी। सात दिसंबर तक नाम वापसी की जा सकेगी और 21 दिसंबर को मतदान होगा। उपचुनाव के परिणाम 24 दिसंबर को आएंगे।

बड़े दांव चलने की तैयारी में सपा

सपा ने लोकसभा चुनाव में हर प्रकार का दांव खेलना शुरू कर दिया है। सैफई में लगी भगवान कृष्ण की प्रतिमा स्थापित करने को भी लोकसभा चुनाव से पहले की तैयारियों के रूप में देखा जा रहा है। सूत्रों के अनुसार सैफई में एक बड़ा कार्यक्रम आयोजित कर सपा सुप्रीमो यादवों और ओबीसी जातियों को जोडऩे की तैयारी में है। गौरतलब है कि सैफई में कांसे की बनी भगवान कृष्ण की 50 फुट ऊंची प्रतिमा इन दिनों चर्चा का विषय बनी है। चक्र उठाने वाली मुद्रा में बनी इस प्रतिमा को यादव बहुल इलाके में लगाने का विचार उत्तर प्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री अखिलेश यादव का था। वहीं इस मूर्ति के लिए पैसा सैफई महोत्सव आयोजित करने वाली सैफई महोत्सव कमेटी ने दिया है। इसके अध्यक्ष मुलायम सिंह यादव और सदस्य अखिलेश यादव हैं। बता दें कि अखिलेश यादव ने 50 फीट की कृष्ण की मूर्ति लगाने के प्लान को गुप्त रखा था, लेकिन मूर्ति के सैफई पहुंचते ही अखिलेश का प्लान सामने आ गया। भगवान कृष्ण की बड़ी मूर्ति हाथ में लिए सुदर्शन चक्र के साथ कुरुक्षेत्र में होगी। वहीं अखिलेश यादव की इस योजना में 2019 के लिए सीधा राजनीतिक संदेश छुपा है कि बीजेपी अकेली हिंदुओं की पार्टी नहीं है। गौरतलब है कि यूपी की योगी सरकार ने अयोध्या में 100 मीटर ऊंची भगवान राम की मूर्ति लगवाने का प्रस्ताव राज्यपाल राम नाईक को सौंपा है, हालांकि अभी यह परियोजना शुरू नहीं हुई है।

Pin It