उप चुनाव को लेकर भाजपा ने बनाई रणनीति

सिकंदरा विधानसभा के अलावा गोरखपुर और फूलपुर लोकसभा सीटों पर होना है उप चुनाव
मुख्यमंत्री योगी ने पार्टी दफ्तर में पदाधिकारियों संग की बैठक

4पीएम न्यूज़ नेटवर्क
लखनऊ। निकाय चुनाव का अंतिम दौर अभी बाकी है लेकिन इससे पूर्व ही भाजपा प्रदेश की एक विधानसभा और दो लोकसभा सीटों पर होने वाले उपचुनाव के लिए सक्रिय हो गई है। पार्टी के बड़े नेताओं ने आज मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ के साथ इस विषय पर चर्चा की। मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ आज से तीन दिन के लिए गुजरात जा रहे हैं। गुजरात दौरे पर जाने से पूर्व मुख्यमंत्री भाजपा कार्यालय पहुंचे। वहां उन्होंने प्रदेश अध्यक्ष डॉ. महेंद्र नाथ पांडेय, प्रदेश महामंत्री संगठन सुनील बंसल, उप मुख्यमंत्री डॉक्टर दिनेश शर्मा एवं केशव प्रसाद मौर्य और कैबिनेट मंत्री सुरेश खन्ना के अलावा पार्टी के अन्य पदाधिकारियों के साथ बैठक की।
पार्टी नेताओं ने कानपुर जिले की सिकंदरा विधानसभा सीट पर होने वाले उपचुनाव को लेकर चर्चा की। इसके अलावा गोरखपुर और फूलपुर लोकसभा सीटों पर होने वाले उपचुनाव को लेकर रणनीति बनाई गई। इन तीनों सीटों पर पार्टी का प्रत्याशी कौन होगा यह बड़ा सवाल है। ध्यान रहे कि सिकंदरा विधानसभा सीट के लिए निर्वाचन आयोग ने चुनाव कार्यक्रम घोषित कर दिया है।

अफसरों को किया तलब
गुजरात दौरे पर जाने से पहले आज सीएम योगी ने अधिकारियों के साथ कई बैठकें की। मुख्यमंत्री ने आईएएस अधिकारियों की स्क्रीनिंग की मुख्य सचिव राजीव कुमार से जानकारी ली। साथ ही विभिन्न योजनाओं और कार्यों की समीक्षा कर आवश्यक दिशा निर्देश दिए। उन्होंने प्रमुख सचिव ऊर्जा सहित कई अफसरों को अपने सरकारी आवास पर तलब किया। इसके बाद सीएम ने प्रमुख सचिव गृह अरविंद कुमार सिंह के साथ बैठक की। इसी दौरान मुख्यमंत्री योगी ने प्रमुख सचिव ऊर्जा आलोक कुमार से विभिन्न कार्यों और योजनाओं की जानकारी ली। इस मौके पर अधिकारियों ने हथकरघा एवं वस्त्र उद्योग नीति 2017 का प्रस्तुतीकरण पेश किया। जिसे सीएम ने गंभीरता से देखा।

सीएम से मिले फिल्म निर्माता मधुर भंडारकर

फिल्म निर्माता मधुर भंडारकर आज मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ से मिलने के लिए उनके सरकारी आवास पर पहुंचे। माना जा रहा है कि फिल्म बंधु में उनका कुछ पैसा फंसा हुआ है जिसे रिलीज कराने के लिए उन्होंने मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ से मुलाकात की है।

खर्चीली पत्नी से परेशान मेयर ने किया पत्नी को तलाक देने का फैसला, कोर्ट में दी अर्जी

कोलकाता के मेयर का मामला 13 दिसंबर को होगी सुनवाई

4पीएम न्यूज़ नेटवर्क
कोलकाता। पति-पत्नी के बीच अनबन और पारिवारिक समस्याओं के कारण तलाक लेने के मामले तो आपने बहुत सुने होंगे लेकिन पत्नी द्वारा किए गए खर्च से परेशान होकर किसी वीआईपी के तलाक देने का मामला बिल्कुल नया है। कोलकाता के मेयर शोभन चटर्जी ने अपनी खर्चीली पत्नी से तंग आकर उन्हें तलाक देने का फैसला किया है। शोभन चटर्जी के अधिवक्ता प्रतिमप्रिय दास गुप्ता ने निचली अदालत में ऐसी ही जानकारी दी। उन्होंने कहा कि कोलकाता के मेयर शोभन चटर्जी का पत्नी रत्ना चटर्जी के साथ मतभेद चल रहा था। इसलिए रत्ना शोभन चटर्जी का घर छोडक़र अपने माता-पिता के घर चली गई थीं। जबकि समय के साथ दोनों के बीच दूरियां बढ़ती गईं।
मेयर का आरोप है कि रत्ना इतना ज्यादा खर्च करती हैं कि उसे वहन करना असंभव है। इसलिए उनके मुवक्किल कानूनी तौर पर पत्नी से अलग होना चाहते हैं। वहीं मेयर की पत्नी रत्ना चटर्जी भी आगामी 13 दिसंबर को अदालत में लिखित रूप से आवेदन करेंगी। इसकी जानकारी उनके अधिवक्ता शुभाशीष दास गुप्ता ने दी। शोभन चटर्जी ने अपने अधिवक्ता के माध्यम से अदालत में पत्नी से अलग होने का आवेदन किया है, जिसमें उन्होंने कहा कि रत्ना चटर्जी न सिर्फ अत्यधिक खर्च करती हैं बल्कि वह कई बार बिना अनुमति के किसी अन्य काम के लिए रखे गए चेक का व्यवहार कर लेती हैं। अब तक उनकी हर मांग को मुंह बंद रखते हुए पूरा किया है। यहां तक कि विदेश दौरे पर जाते वक्त भी वे खर्च के लिए रत्ना को अलग से मोटी रकम देकर जाते थे पर अब इस तरह संपर्क को आगे बढ़ाना संभव नहीं है। बाध्य होकर उन्होंने अलग होने के लिए अदालत का सहारा लिया है। पति के तौर पर वे अपनी दायित्वों का पालन कर रहे हैं। वह अपनी 13 साल की बेटी को वे अपने पास रखना चाहते हैं और इसके लिए भी उन्होंने आवेदन किया है। अपने 21 साल के बेटे के बारे में उन्होंने आवेदन में कुछ नहीं कहा है।

जांच टीम ने किया खुलासा, ‘सरकार डायग्नोस्टिक सेंटर’ में मरीजों से हो रही लूट

स्वास्थ्य विभाग की टीम ने महिला की मौत को लेकर सेंटर का किया था निरीक्षण

4पीएम न्यूज़ नेटवर्क
लखनऊ। राजधानी के ‘सरकार डायग्नोस्टिक’ सेंटर में मरीजों के साथ लूट खसोट के साथ ही मरीजों की जान से खिलवाड़ हो रहा है। इस बात खुलासा 11 तारीख को हुई महिला की मौत के बाद सोमवार को जांच करने गयी सीएमओ की टीम ने किया। सीएमओ की टीम के मुताबिक सरकार डायग्नोस्टिक सेंटर में मरीजों से सलाना करोड़ों की लूट हो रही है।
राजधानी स्थित सरकार डायग्नोस्टिक सेंटर में अलीगंज निवासी किरण गौतम की एचएसजी जांच के दौरान इंजेक्शन लगाने से मौत हो गई। इसके बाद परिजनों ने जमकर हंगामा किया। परिजनों ने डॉक्टरों द्वारा गलत इंजेक्शन लगाने का आरोप लगाया है। महिला की मौत की जांच करने पहुंची सीएमओ की टीम ने एक और बड़ा खुलासा किया। टीम के मुताबिक डायग्नोस्टिक सेंंटर में जांच कराने वाले मरीजों के साथ जबरदस्त ठगी चल रही है। यहां आने वाले मरीजों से एनएसजी की जांच के लिए हजार रुपये और एक हजार रुपया सेग्रीगेरेशन के नाम पर लेकर महिलाओं को ठगा जा रहा है। सरकारी अस्पताल में यही जांच मात्र पांच सौ रुपये में होती है। डायग्नोस्टिक सेंटर में आने वाले मरीजों को जबरन ओपीडी में रजिस्ट्रेशन कराया जाता है।
सरकार डायग्नोस्टिक सेंटर की मालिक डॉक्टर साबिया साची सरकार का कहना है कि पीडि़त पक्ष ने लिखित बयान दिया है, जिसमें लिखा है महिला को हार्ट की बीमारी थी जिसकी जानकारी उसने सेंटर को नहीं दी थी। इसी वजह से महिला की मौत हो गयी। सीएमओ जीएस बाजपेई का कहना है कि पूरे मामले की जांच की जा रही है। साथ ही महिला की मौत पर हंगामा कर रहे पीडि़त पक्ष ने अचानक बयान क्यों बदला इसकी भी जांच पड़ताल की जाएगी। फिलहाल मौत के लिए अगर अस्पताल प्रशासन जिम्मेदार नहीं है तो जिम्मेदार कौन है इसकी जांच चल रही है।

सूचना विभाग की मासिक पत्रिका ‘नया दौर’ की गूंज ईरान तक

ईरान कल्चर हाउस ने की पत्रिका के अक्टूबर अंक की प्रशंसा
सूचना निदेशक अनुज कुमार झा ने ईरान के सांस्कृतिक काउंसलर को भेजा धन्यवाद पत्र

4पीएम न्यूज़ नेटवर्क
लखनऊ । प्रदेश के सूचना निदेशक अनुज कुमार झा ने नई दिल्ली स्थित ईरान कल्चरल हाउस से सूचना एवं जनसम्पर्क विभाग द्वारा प्रकाशित उर्दू मासिक साहित्यिक पत्रिका ’नया दौर’ को भेजे गए प्रशंसा पत्र को बड़ी उपलब्धि बताया है। उन्होंने जवाब के तौर पर ईरान के सांस्कृतिक काउंसलर को धन्यवाद पत्र भेजा है। इस संबंध में जानकारी देते हुए श्री झा ने कहा कि प्रशंसा पत्र सूचना विभाग के लिए प्रेरणादायी है। पत्र में ’नया दौर’ को पूरी उर्दू दुनिया की लोकप्रिय एवं प्रतिष्ठित पत्रिका बताया गया है। इस पत्रिका को अब ऑनलाइन भी किया जा रहा है। इसके डिजिटल अंक जल्द ही सूचना विभाग की आधिकारिक वेबसाइट पर भी उपलब्ध होंगे। इतना ही नहीं नया दौर के फेसबुक पेज पर इस वर्ष के सभी डिजिटल अंक मौजूद हैं।
सूचना निदेशक के मुताबिक ’नया दौर’ का अक्टूबर 2017 का अंक लखनऊ के मोहर्रम से सम्बंधित उर्दू साहित्य पर केंन्द्रित है। मोहर्रम में पढ़े जाने वाले सलाम, मरसिये और नोहे इस अंक में विशेष रूप से शामिल किए गए हैं। लखनऊ में नवाबी दौर के मोहर्रम तथा उसके बाद के मोहर्रम की परंपराएं, जुलूस, मातम, अजादारी, शामे गरीबां, बहत्तर ताबूत का जुलूस जैसी लखनऊ के मोहर्रम की विशेषताओं पर लेख शमिल किए गए हैं। इस पत्रिका में भविष्य में भी प्रतिष्ठा के अनुरूप साहित्यिक कृतियों का समावेश किया जाता रहेगा। इस बात के लिए सूचना विभाग कृत संकल्पित है। श्री झा ने ईरान के काउंसलर को भेजे पत्र में यह भी लिखा है कि उन्हें उम्मीद है कि भविष्य में भी ’नया दौर’ के अंकों की तारीफ आप की ओर से मिलती रहेगी।

दिल्ली में हर तीसरे बच्चे का फेफड़ा खराब

4पीएम न्यूज़ नेटवर्क
नई दिल्ली। देश की राजधानी दिल्ली में हर तीसरे बच्चे का फेफड़ा खराब है। ये दावा सेंटर फॉर साइंस एंड एनवायर्नमेंट (सीएसई) की एक ताजा रिपोर्ट में किया गया है। ‘बॉडी बर्डन: लाइफस्टाइल डिजीजिज’ नाम की इस रिपोर्ट में बढ़ते प्रदूषण के सेहत पर होने वाले असर से जुड़े हुए चौंकाने वाले आंकड़े रखे गए हैं। ये रिपोर्ट ऐसे वक्त में आई है जब दिल्ली की हवा फिर से जहरीली होने लगी है। दिल्ली में एयर क्वॉलिटी इंडेक्स घटते तापमान के साथ दोबारा से खतरनाक स्तर पर पहुंच गया है।
सेंटर फॉर साइंस एंड एनवायरमेंट की इस रिपोर्ट के मुताबिक भले ही कम या ज्यादा, लेकिन दिल्ली के हर शख्स की सेहत पर प्रदूषण का असर हो रहा है। आंकड़ों के मुताबिक देश में वक्त से पहले होने वाली कुल मौत में 30 फीसदी के पीछे वायु प्रदूषण एक कारण है। देश में 3.5 करोड़ लोग ऐसे हैं, जिन्हें लम्बे वक्त तक अस्थमा का शिकार होना पड़ रहा है।

Pin It