राजधानी की आबोहवा में नहीं हो रहा सुधार

लखनऊ। राजधानी की आबोहवा में सुधार नहीं हो रहा है, प्रदूषित कणों की बढ़ोतरी लगातार जारी है। ऐसे में एयर क्वॉलिटी इंडेक्स (एक्यूआई) में सुधार न होना कोई खास बात नहीं है। शहर में वायु गुणवत्ता का सूचकांक भी सुधर नहीं रहा है। यहां की आबोहवा में सूक्ष्म पर्टिकुलेट मैटर व जहरीली गैस का दबाव बढ़ता जा रहा है। खराब एयर क्वॉलिटी से व्यक्ति का सांस लेना भी दूभर हो गया है। ऐसे में लोगों में बीमारी बढऩे का खतरा मंडरा रहा है।
राजधानी में पिछले करीब 17-18 दिनों से एयर क्वॉलिटी इंडेक्स में उतार-चढ़ाव जारी है। बीच में दो दिन एक्यूआई 337 पर ठहरा रहा। ऐसे में लोगों में प्रदूषण का स्तर घटने की आस जगी। हवा में पर्टीकुलेट मैटर और बढऩे लगे हैं। आंकड़ों के मुताबिक शनिवार को एक्यूआई 351 हो गया था जबकि रविवार को एक्यूआई बढक़र 362 हो गया, जो कि देश की राजधानी दिल्ली के एक्यूआई 352 से अधिक रहा। इसके अलावा गाजियाबाद 449, कानपुर 419, मुजफ्फनगर 399 व फरीदाबाद का एक्यूआई 327 रहा।

Pin It