सभी दलों ने किया जीत का दावा

गली मोहल्लों में हो रही सपा-भाजपा के बीच कांटे की टक्कर की चर्चा

4पीएम न्यूज़ नेटवर्क
लखनऊ। उत्तर प्रदेश में निकाय चुनाव के दूसरे चरण का मतदान हो चुका है। इस चरण में 25 जिलों में हुए मतदान को लेकर विपक्ष दल अपनी-अपनी बढ़त के दावे कर रहे हैं लेकिन जीत के दावों में भाजपा और सपा सबसे आगे है। भाजपा ने निगमों में शत-प्रतिशत और नगर पालिका व नगर पंचायतों में तीन चौथाई सीट जीतने का दावा किया है। वहीं सपा भी लखनऊ नगर निगम सहित तमाम पंचायतों में जीत का दावा कर रही है। यही नहीं बसपा को भी सत्ताधारी पार्टी भाजपा और पूर्व की सपा सरकार की नाराजगियों का लाभ मिलने की उम्मीद है। रालोद की नजर में जीएसटी और नोटबंदी के कारण जनता भाजपा से काफी नाराज है। हालांकि मतदान के बाद गली मोहल्लों में लोग इस बात की चर्चा कर रहे हैं कि लखनऊ मेयर की सीट पर सपा और भाजपा के बीच कांटे की टक्कर होगी।
समाजवादी पार्टी के मुख्य प्रवक्ता राजेंद्र चौधरी के मुताबिक सपा के प्रति मतदाताओं का सकारात्मक रुझान दूसरे चरण में भी बना रहा। समाजवादी उम्मीदवार पहले से ज्यादा सीटों पर विजयी होंगे। भाजपा के झूठे वादों से जनता ऊब चुकी है क्योंकि केंद्र व प्रदेश में सरकारें होने के बाद भी जनकल्याण की कोई प्रभावी योजना अमल में नहीं आ सकी। कानून व्यवस्था ध्वस्त है, महंगाई और बेरोजगारी जैसी समस्याएं सुरसा के मुंह की तरह बढ़ती जा रही हैं। इसलिए जनता को सपा में ही अपना लाभ दिख रहा है। वहीं बसपा ने दावा किया कि भाजपा का रंग तेजी से उतरता जा रहा है। बसपा के प्रति आम जनता का बढ़ रहा विश्वास नगरीय निकाय चुनाव में दिखा है। इसलिए दूसरा चरण भी पहले की तरह बसपा के पक्ष में रहेगा। बसपा अध्यक्ष मायावती की मजबूत व निष्पक्ष छवि का लाभ बसपा उम्मीदवारों को मिल रहा है।
कांग्रेस प्रवक्ता ओंकार नाथ सिंह ने दावा किया कि मतदान के रुझान से साफ जाहिर है कि भाजपा का जादू नगरीय जनता पर नहीं चला है। वहीं वोटर लिस्ट की गड़बडिय़ों ने साबित किया है कि प्रशासन पूरी तरह निष्पक्ष नहीं रहा। ईवीएम मशीनों की गड़बडिय़ों को भी गंभीरता से लेने की जरूरत है। राष्ट्रीय लोकदल के मीडिया प्रभारी अनिल दुबे का कहना है कि दूसरे चरण में मतदान के रुझान से यह स्पष्ट हो गया है कि जनता भाजपा से बेहद नाराज है। उसे नोटबंदी व जीएसटी का नुकसान झेलना ही पड़ेगा।

प्रदेश के सभी निगमों में जीत का दावा कर रही भाजपा

प्रदेश अध्यक्ष डॉ. महेंद्र नाथ पांडेय ने कहा कि भाजपा को निकाय चुनाव में अभूतपूर्व सफलता मिलेगी। उन्होंने नगर निगमों में शत-प्रतिशत और नगर पालिका व नगर पंचायतों में तीन चौथाई सीट जीतने का दावा किया है। प्रदेश अध्यक्ष ने कहा है कि अब तक के संपन्न हुए निकाय चुनाव के संदर्भ में जो जानकारी संगठन के कार्यकर्ताओं द्वारा मिली है उससे एक बात पूरी तरह साफ है कि भाजपा रिकार्ड बनाएगी। महापौर की सीटों पर शत-प्रतिशत और नगर पालिका और नगर पंचायतों में तीन चौथाई से अधिक सीटों पर कमल खिलेगा। श्री पांडेय ने बताया कि अब तक 11 नगर निगम, 122 नगर पालिका तथा 286 नगर पंचायतों में चुनाव संपन्न हो चुके हैं। उन्होंने प्रचंड बहुमत पाने का दावा किया है।

मतदान में फिसड्डी रहे नगर निगम, नगर पंचायतें रहीं अव्वल

निकाय चुनाव के दूसरे चरण में जिन छह नगर निगमों के चुनाव हुए हैं। उनमें मतदान के मामले में चार निगम फिसड्डी रहे हैं। सबसे खराब प्रदर्शन इलाहाबाद नगर निगम का रहा। यहां मात्र 30.47 प्रतिशत मतदान हुआ। मतदान के मामले में नगर पंचायतें फिर अव्वल रहीं। पहली बार नगर निगम बना मथुरा-वृंदावन भी काफी पीछे रहा। वहां मात्र 41.36 प्रतिशत मतदान हुआ। वहीं प्रदेश की राजधानी लखनऊ की बात की जाए तो यहां मात्र 36 प्रतिशत मतदान हुआ। वाराणसी नगर निगम में भी 43.80 प्रतिशत मतदान हुआ। नगर निगमों में 30 प्रतिशत से लेकर 47 प्रतिशत तक ही मतदान हुआ है। यानी दो तिहाई से लेकर आधी आबादी ने मतदान में हिस्सा ही नहीं लिया। इससे साफ है कि बड़े शहरों में मतदान को लेकर अरुचि है, जबकि छोटे शहरों में मतदान को लेकर खासा उत्साह है।

Pin It