राहुल के अध्यक्ष बनते ही प्रदेश कांग्रेस में होंगे बड़े बदलाव

कांग्रेस के राष्टï्रीय उपाध्यक्ष के करीबी जितिन प्रसाद को मिल सकती है बड़ी जिम्मेदारी

4पीएम न्यूज़ नेटवर्क
लखनऊ। कांग्रेस उपाध्यक्ष राहुल गांधी का अगले महीने कांग्रेस का अध्यक्ष बनना लगभग तय है। मौजूदा अध्यक्ष सोनिया गांधी के आवास पर हुई कांग्रेस कार्यसमिति की बैठक में कांग्रेस अध्यक्ष पद के लिए होने वाले चुनाव के कार्यक्रम की घोषणा कर दी गई है। राहुल के अध्यक्ष बनते ही संगठन में कई अहम बदलाव किए जा सकते हैं। खासतौर पर यूपी में पार्टी संगठन में कई नेताओं का कद बढ़ सकता है। कार्यकर्ता राहुल के अध्यक्ष बनने का बेसब्री से इंतजार कर रहे हैं।
राहुल गांधी के करीबी माने जाने वाले पूर्व केंद्रीय मंत्री जितिन प्रसाद का यूपी कांग्रेस में कद बढ़ सकता है। सूत्रों की माने तो राहुल गांधी के राष्ट्रीय अध्यक्ष बनने के बाद उन्हें प्रदेश में अहम जिम्मेदारी मिल सकती है। उनका नाम प्रदेश अध्यक्ष की रेस में भी है। हाल ही में जितिन प्रसाद के भाई और भाभी बीजेपी में शामिल हुए हैं। इसके बाद कयास लगाए जा रहे थे कि जितिन प्रसाद भी अपना पाला बदल सकते हैं लेकिन जितिन ने इस कयासों पर विराम लगा दिया। वे निकाय चुनाव में कांग्रेस उम्मीदवारों के लिए प्रचार भी कर रहे हैं। सूत्रों के मुताबिक वरिष्ठ कांग्रेसी नेता प्रमोद तिवारी की बेटी व विधायक आराधना मिश्रा को कम्युनिकेशन डिपार्टमेंट का इंचार्ज बनाया जा सकता है। पूर्व विधायक अखिलेश प्रताप सिंह का नाम भी तेजी से चल रहा है। पिछले दिनों कांग्रेस उपाध्यक्ष राहुल गांधी ने संगठन में अहम बदलाव के संकेत दिए थे। ऐसे में युवाओं को तरजीह मिलने की पूरी उम्मीद की जा रही है। इसी कारण आराधना मिश्रा का कद बढ़ सकता है। अब कम्युनिकेशन डिपार्टमेंट बिना मुखिया का हो गया है। कांग्रेस के पास जो 23 प्रवक्ता बचे हैं, उनमें 22 ऐसे हैं जिनके आगे पूर्व विधायक, पूर्व मंत्री जैसा कद नहीं है। बसपा से कांग्रेस में आए नदीम अशरफ जायसी का भी प्रदेश कांग्रेस में कद बढ़ाया जा सकता है। बसपा सरकार में उन्हें राज्यमंत्री का दर्जा प्राप्त था। पूर्व में वह युवक कांग्रेस के प्रदेश अध्यक्ष भी रहे हैं। माना जा रहा है कि नदीम को सीधे प्रियंका गांधी के कहने के बाद पार्टी की सदस्यता दिलाने का फैसला किया गया। पिछले लोकसभा चुनाव में चंदौली से चुनाव लड़े तरुण पटेल का कद भी पार्टी में बढ़ सकता है। कांग्रेस के एमएलएसी दीपक सिंह गांधी परिवार के करीबी माने जाते रहे हैं। सूत्रों के मुताबिक दीपक सिंह को यूपी में अहम जिम्मेदारी मिल सकती है। दीपक अमेठी से हैं और बीते दिनों राहुल गांधी के अमेठी दौरे में वे हर वक्त राहुल के साथ ही दिखे थे। इसके अलावा वे प्रियंका गांधी के भी करीबी माने जाते हैं। आमतौर पर रायबरेली का जिक्र आते ही सोनिया गांधी और राहुल गांधी की चर्चा हुआ करती थी लेकिन पिछले कई महीनों से रायबरेली की गलियों में चर्चा का विषय कांग्रेस नेता अदिति सिंह हैं। यूएस से पढक़र आई अदिति ने यूपी विधानसभा चुनाव में बीजेपी के लहर के बावजूद 90 हजार से अधिक वोटों से चुनाव जीता। अदिति सिंह रायबरेली सदर से कांग्रेस की विधायक हैं। सूत्रों की मानें तो राहुल गांधी के अध्यक्ष बनने के बाद अदिति को यूथ कांग्रेस में अहम जिम्मेदारी मिल सकती है। अदिति के पिता अखिलेश सिंह भी रायबरेली से पांच बार विधायक रह चुके हैं। बता दें कि राहुल गांधी ने पहले भी यूपी कांग्रेस में बड़े बदलाव के संकेत दिए थे।

Pin It