उत्तर प्रदेश में गंदी राजनीति कर रही है बीजेपी, कर सकती है ईवीएम से छेड़छाड़: शिवसेना

पहले चरण के निकाय चुनाव में कल कई जगह ईवीएम में गड़बड़ी की मिली थी शिकायत

4पीएम न्यूज़ नेटवर्क
लखनऊ। भाजपा की सहयोगी पार्टी शिवसेना ने पार्टी मुखपत्र सामना में बीजेपी पर जमकर निशाना साधा है। उत्तर प्रदेश में निकाय चुनाव में ईवीएम में कथित गड़बडिय़ों की खबरों को लेकर शिवसेना ने मुखपत्र सामना में लिखे लेख में योगी सरकार पर आरोप लगाया है कि निकाय चुनाव में जीत के लिए यूपी में बीजेपी सरकार डर्टी पॉलिटिक्स करेगी। इतना ही नहीं बीजेपी पर ईवीएम से छेड़छाड़ का भी आरोप लगाया गया है।
सामना में लिखा गया है कि उत्तर प्रदेश में जनता का ध्यान बांटने और ईवीएम में छेड़छाड़ के अलावा बीजेपी के पास कोई चारा नहीं बचा है। शिवसेना का आरोप है कि बीजेपी यूपी में डर्टी पॉलिटिक्स कर रही है। साथ ही योगी सरकार की ओर से फर्जी लोकप्रियता के दावे भी ठोंके जाएंगे। लेख के मुताबिक ये सब इसलिए किया जा रहा है, क्योंकि योगी सरकार का यूपी में पहला फ्लोर टेस्ट है। इसमें न तो योगी और न बीजेपी, किसी तरह का रिस्क नहीं ले सकती। लेख में लिखा है कि निकाय चुनाव में भाड़े की भीड़, भडक़ाऊ बयानबाजी, ऊटपटांग हरकतें, किसी की बदनामी, किसी को धमकी जैसे काम होंगे। शिवसेना का आरोप है कि जहां ईवीएम से छेड़छाड़ नहीं होती वहां बीजेपी कांग्रेस से पिट जाती है। चित्रकूट, मुरैना और सबलगढ़ इस बात का प्रमाण है। यही डर योगी सरकार को परेशान कर रहा है। बीजेपी का यूपी निकाय चुनाव जीतना इसलिए भी जरूरी है क्योंकि इसका असर गुजरात में होने वाली वोटिंग पर भी पड़ेगा।
मालूम हो कि योगी सरकार के लिए निकाय चुनाव प्रतिष्ठा का सवाल है। इसीलिए मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ, बीजेपी प्रदेश अध्यक्ष डॉ. महेंद्र नाथ पाण्डेय सहित तमाम कैबिनेट मंत्री और दिग्गज नेता इस नगर निकाय चुनाव में जी जान से लगे हुए हैं। मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ स्वयं जमकर चुनावी रैलियां कर रहे हैं।

व्यापम घोटाला: 592 आरोपियों के खिलाफ चार्जसीट पेश करेगी सीबीआई

करीब 28 महीने तक चली मध्य प्रदेश के बहुचॢचत घोटाले की जांच

4पीएम न्यूज़ नेटवर्क
मध्य प्रदेश। मध्य प्रदेश के सबसे बड़े और बहुचर्चित व्यापम घोटाले में पीएमटी-2012 मामले में सीबीआई आज चार्जशीट पेश करेगी। सीबीआई ने इस मामले में 28 महीने लंबी चली जांच के बाद 592 लोगों को आरोपी बनाया है, जिसमें कई रसूखदार लोग शामिल बताए जा रहे है।
प्राप्त जानकारी के अनुसार, सीबीआई विशेष न्यायाधीश डीपी मिश्रा की अदालत में चार्जशीट पेश करेगी। आरोपियों को चार्जशीट पेश करने की जानकारी मिलने के बाद से हडक़ंप मचा हुआ है। इस मामले में कई रसूखदार लोगों पर अब जेल जाने का खतरा मंडरा रहा है।

गुमनाम खत से मिला सुराग

यदि एक गुमनाम खत पर इंदौर पुलिस ने गौर नहीं किया होता तो व्यापम में फर्जी तरीके से डॉक्टर बनाने का खेल न जाने कितने साल और चलता। पुलिस ने गुमनाम शिकायत पर जांच शुरू की थी। साल 2013 में मंडल की तरफ से आयोजित की गई प्री-मेडिकल टेस्ट परीक्षा के एक दिन पहले पुलिस सक्रिय हुई। इंदौर के तत्कालीन आईजी विपिन माहेश्वरी ने इसकी कमान संभाली। पत्र में दी गई जानकारी के आधार पर होटलों की तलाशी शुरू हुई। क्राइम ब्रांच इंदौर की टीम को देखकर एक युवक ने अपना बैग खिडक़ी से बाहर फेंक दिया। पुलिस ने बैग को जब्त कर उसे चेक किया तो उसमें पीएमटी की परीक्षा का एक प्रवेश पत्र मिला। वो प्रवेश पत्र पकड़े गए युवक का नहीं था।
जबकि पूछताछ में युवक ने वे सभी बातें बताईं जिनका जिक्र गुमनाम पत्र में था। इसलिए इंदौर पुलिस ने 7 जुलाई 2013 को राजेंद्र नगर थाने में एफआईआर दर्ज कर अपनी जांच तेज कर दी। जांच में पुलिस को पता चला कि कुल चार गिरोह पूरे प्रदेश में सक्रिय हैं। इसके बाद एसटीएफ को और फिर सुप्रीम कोर्ट के आदेश पर 15 जुलाई 2015 को सीबीआई ने जांच शुरू की थी।

फिल्म पद्मावती पर अब संसदीय कमेटी ने मांगी रिपोर्ट

डायरेक्टर भंसाली को किया गया तलब

4पीएम न्यूज़ नेटवर्क
नई दिल्ली। फिल्म पद्मावती के विवाद में एक नया मोड़ आ गया है। अब डायरेक्टर संजय लीला भंसाली को संसदीय कमेटी के आगे पेश होने का फरमान जारी हुआ है। उन्हें 30 नवंबर को हाजिर होने का आदेश दिया गया है।
कमेटी के आगे 20 नवंबर को चित्तौरगढ़ से सांसद सी.पी.जोशी ने पद्मावती में इतिहास को गलत तरीके से पेश करने के खिलाफ अपील दायर की गई थी। जिसके बाद कमेटी की ओर से अपील का संज्ञान लेते हुए संजय लीला भंसाली के नाम नोटिस जारी कर दिया गया। इसके साथ ही लोकसभा कमेटी ने सूचना एवं प्रसारण मंत्रालय और केंद्रीय फिल्म प्रमाणन बोर्ड से संजय लीला भंसाली की फिल्म पद्मावती को लेकर रिपोर्ट मांगी है। इस रिपोर्ट को जमा करने की भी अंतिम तारीख 30 नवंबर ही रखी गई है।

लोहिया अस्पताल में महिला मरीज से की गई अभद्रता

4पीएम न्यूज़ नेटवर्क

लखनऊ। लोहिया अस्पताल में कर्मचारियों ने एक महिला मरीज के साथ अभद्रता की और बिना जांच किए भगा दिया। महिला पैथालॉजी में जांच कराने पहुंची थी। युवती के पिता ने इसकी लिखित शिकायत चिकित्सा अधीक्षक से की है। उन्होंने न्याय दिलाने का आश्वासन दिया है।
ऐशबाग निवासी संजय जयसवाल अपनी बेटी दिव्यता को लेकर लोहिया अस्पताल पहुंचे थे। वहां डॉक्टर ने उन्हें कुछ जांचे लिखी। वह जांच कराने पहुंचे तो पता चला की पर्चे पर जो नाम लिखा है उसकी स्पेलिंग गलत है। डॉक्टर ने उसे वेरिफाई कर सभी जांच कराने को कहा। एक जांच होने के बाद जब महिला नोडल सेंटर पर जांच कराने पहुंची तो जांच करने से मना कर दिया गया। यही नहीं कर्मचारी ने मरीज से अभद्रता की। अस्पताल में इसी बात को लेकर हंगामा खड़ा हो गया। महिला के पिता ने चिकित्सा अधीक्षक से लिखित शिकायत की तब जाकर मामला शांत हुआ और युवती की अन्य आवश्यक जांचें हो सकीं।

संदिग्ध हालत में मिली युवक की लाश, सनसनी

पुलिस जांच पड़ताल में जुटी, शव को पोस्टमार्टम के लिए भेजा

4पीएम न्यूज़ नेटवर्क
लखनऊ। राजधानी के इन्दिरानगर थाना क्षेत्र में आज सुबह एक युवक की लाश संदिग्ध हालत में रोड पर पड़ी मिली। घटना की जानकारी स्थानीय लोगों ने थाने पर दी। मौके पर पहुंची पुलिस ने शव को कब्जे मेें लेकर पोस्टमार्टम के लिये भेज दिया है। पुलिस का कहना है कि युवक की मौत कैसे हुई ? यह पोस्टमार्टम के बाद ही स्पष्ट होगा।
प्राप्त जानकारी के मुताबिक इन्दिरानगर के सूर्या सिटी में रहने वाले शिवम पाण्डे की लाश आज सुबह शिवाजीपुरम मोड़ के पास संदिग्ध हालत में पड़ी मिली। घटना की जानकारी स्थानीय लोगों ने थाने पर दी। थानाध्यक्ष इन्दिरानगर मुकुल प्रकाश वर्मा का कहना है कि मृतक की लाश जिस जगह पर मिली है, वहीं पर एक सांप भी मरा हुआ मिला है और उसकी मौत कैसे हुई ? इसकी सही जानकारी पोस्टमार्टम रिपोर्ट आने के बाद ही हो पायेगी। पुलिस का कहना है कि मृतक के परिजनों को सूचना दे दी गयी है और वह पहुंच रहे हैं।

दुष्कर्म के आरोप में कर्नल गिरफ्तार

घर बुलाकर लेफ्टिनेंट कर्नल की बेटी से किया था बलात्कार

4पीएम न्यूज़ नेटवर्क
नई दिल्ली। एक कर्नल द्वारा दोस्त की बेटी के साथ दुष्कर्म का मामला सामने आया है। पुलिस ने मामला दर्ज कर छानबीन शुरू कर दी है। पीडि़ता की मेडिकल जांच के बाद पुलिस रिपोर्ट का इंतजार कर रही है। आरोपी कर्नल को गिरफ्तार कर लिया गया है।
56 वर्षीय कर्नल शिमला में तैनात है। दोस्त की बेटी के साथ उसकी मुलाकात 19 नवंबर को एक कार्यक्रम में हुई थी। यहां वह मॉडलिंग कर रही थी। इस दौरान कर्नल ने उसे घर आने का न्योता दिया और कहा कि उसकी बेटी मुंबई में मॉडलिंग कर रही है। वह उसकी सहायता करेगी। इसी दौरान उसने पीडि़ता का मोबाइल नंबर भी लिया और रात को व्हाट्सएप पर फोटो मंगवाई। उसने 20 नवंबर को लडक़ी को घर बुलाया। कर्नल उसे कमरे में ले गया और उसके साथ दुष्कर्म किया। पुलिस ने पीडि़ता की शिकायत पर दुष्कर्म का मामला दर्ज कर लिया है और कर्नल को गिरफ्तार कर लिया गया है।

निजी एम्बुलेंस न लेने पर दलाल ने तीमारदार को धमकाया

ट्रामा सेंटर से रेफर किया गया था मरीज, शिकायत दर्ज

4पीएम न्यूज़ नेटवर्क
लखनऊ। किंग जार्ज चिकित्सा विश्वविद्यालय के तमाम दावों के बावजूद ट्रॉमा सेंटर के अंदर दलालों का कब्जा है। अगर सरकारी अस्पताल से रेफर मरीज को ले जाने के लिए तीमारदार 108 नंबर पर कॉल करें तो निजी एंबुलेंस के दलाल तीमारदार तक पहुंच जाते हंै। ऐसा ही एक ताजा मामला संज्ञान में आया है। तीमारदार ने 108 एम्बुलेंस को कॉल किया लेकिन मरीज को दूसरे अस्पताल ले जाने के लिए उसी समय दलाल पहुंच गया और तीमारदार से सौदेबाजी होने लगी। इस बीच सरकारी एंबुलेंस भी आ गई। इसलिए तीमारदार ने निजी एंबुलेंस लेने से मना कर दिया। इस पर दलाल ने तीमारदार से अभद्रता करते हुए धमकाना शुरू कर दिया। तीमारदार ने मामले की शिकायत दर्ज कराई है।
बाराबंकी निवासी मरीज विनोद (35) बुखार से पीडि़त हैं। उनका इलाज चल रहा था। तीमारदार अजय उसे लेकर ट्रॉमा सेंटर पहुंचा। डॉक्टरों ने प्राथमिक उपचार के बाद मरीज को बलरामपुर अस्पताल रेफर कर दिया। परिजन मरीज को बलरामपुर अस्पताल ले जाने की तैयारी कर ही रहे थे कि तभी कर्मचारियों के इशारे पर निजी एंबुलेंस के दलाल पहुंच गए। उन्होंने मरीज को अस्पताल तक पहुंचाने के लिए पांच सौ रुपए में बात तय की। इसी बीच तीमारदार ने 108 पर कॉल करके एंबुलेंस बुला ली। 108 एंबुलेंस पहुंचने पर निजी एंबुलेंस तीमारदार ने लेने से मना कर दिया।

Pin It