सीडी युद्ध का शिकार कौन?

भारत की चुनावी राजनीति की पतन गाथा को आगे बढ़ाने के वास्ते एक और सेक्स-सीडी एवं चार वीडियो-क्लिप जारी कर दिये गये हैं। इस बार गुजरात के पाटीदार अनामत आंदोलन समिति के तेज-तर्रार नेता हार्दिक पटेल को लपेटने की कोशिश हुई है, जो आसन्न गुजरात विधानसभा चुनाव में भाजपा के प्रबल विरोधी और कांग्रेस-समर्थक के रूप में सामने आये हैं।
सोशल मीडिया पर वायरल हुए अलग-अलग वीडियो में हार्दिक पटेल को महिलाओं के साथ ‘मस्ती करते’ दिखाया गया। पटेल ने इसके लिए भाजपा को जिम्मेदार ठहराते हुए पलटवार किया-‘भाजपा गुजरात की महिलाओं का अपमान कर रही है। जनता 22 साल के लडक़े का नहीं, 22 साल के विकास का वीडियो देखना चाहती है, अगर कुछ हुआ है तो।’ प्रमुख युवा दलित नेता जिग्मेश मेवानी ने हार्दिक के पक्ष में ट्वीट किया है कि यह किसी की निजता में दखल है। मैं हार्दिक के साथ हूं। वैसे, पटेल कुछ दिन पहले ही आशंका व्यक्त कर चुके थे कि उनके खिलाफ कोई फर्जी सीडी जारी की जा सकती है।
गुजरात में चुनाव प्रचार चरम पर है। भाजपा वहां घिर गयी है। कांग्रेस से उसे खास भय नहीं, पर पटेलों, पिछड़ों और दलितों के विरोध में डट जाने और कांग्रेस के पक्ष में दिखने से वह परेशान है। पहले उसने पाटीदार आंदोलन में फूट डालने की कोशिश की। नेताओं को खरीदने के आरोप भी उस पर लगे। अब पटेलों के प्रभावशाली नेता के खिलाफ ये वीडियो सामने आये है।
सत्ता की राजनीति में यह घिनौनी प्रवृत्ति की तरह उभरा है। जब भी किसी पार्टी को जन-मुद्दों का जवाब नहीं सूझता या किसी ताकतवर विरोधी को पटखनी देनी होती है, तो जनता का ध्यान भटकाने के लिए कहीं से एक सनसनी सामने ला दी जाती है। सेक्स-सीडी से ज्यादा सनसनीखेज हमारे यहां और क्या हो सकता है? घोर अनैतिक हो चुकी राजनीति का यह बड़ा हथियार है। विकास के मुद्दे पर शुरू हुआ गुजरात का चुनाव प्रचार सेक्स सीडी के घटिया स्तर तक बेवजह नहीं आ गिरा है।
इस मामले में अधिकतर पार्टियों का दामन साफ नहीं है। हाल ही में जब लालू यादव की पार्टी राजद ने नीतीश कुमार की नशाबंदी नीति को निशाना बनाते हुए एक शराब व्यवसायी-नेता के साथ मुख्यमंत्री की सेल्फी जारी की, तो जवाब में बिहार के सत्तारूढ़ गठबंधन की ओर से लालू-पुत्र और हाल तक उप-मुख्यमंत्री रहे तेजस्वी यादव का वह फोटो जारी कर दिया, जिसमें वे एक लडक़ी के साथ बीयर की बोतल लिए खड़े हैं। निशाना तेजस्वी थे, लेकिन उस अबोध लडक़ी का चरित्र-हनन भी किसी को दिखा क्या?
छत्तीसगढ़ के एक मंत्री की सेक्स सीडी प्रसारित करवाने की साजिश के आरोप में पत्रकार और कांग्रेसी विनोद वर्मा की रातोंरात गिरफ्तारी अब भी सुर्खियों में है। साल 2008 में तत्कालीन भाजपा महासचिव संजय जोशी की सेक्स सीडी ने कम हंगामा नहीं मचाया था। उस समय आरोपों के घेरे में नरेंद्र मोदी भी थे, राजनीति में तेजी से उभरते संजय जोशी से जिनकी कतई नहीं बनती थी।
साल 2009 में आंध्र प्रदेश के तत्कालीन राज्यपाल नारायण दत्त तिवारी की सेक्स सीडी जारी हुई, तो उन्हें इस्तीफा देना पड़ा था। 2012 में कांग्रेस नेता अभिषेक मनु सिंघवी की सेक्स सीडी ने हंगामा खड़ा किया था। 2016 में कर्नाटक के शिक्षा मंत्री को इसी कारण इस्तीफा देना पड़ा था।
कुछ और पीछे जाकर 1978 का वह कांड याद करें, जब जनता पार्टी की सरकार के उप-प्रधानमंत्री एवं कद्दावर नेता जगजीवन राम के बेटे सुरेश राम की एक महिला के साथ अंतरंग क्षणों की तस्वीरों ने सनसनी फैलायी थी। तब खबरिया चैनल नहीं थे। मेनका गांधी के संपादन में ‘सूर्या’ पत्रिका ने वे तस्वीरें छापी थीं। निशाना जगजीवन राम थे, मार किस पर पड़ी?
ये सभी ऐसे मामले हैं, जिनमें किसी महिला ने संबंधित नेता पर यौन-उत्पीडऩ जैसा कोई आरोप नहीं लगाया। न पहले न बाद में। हालांकि, नेताओं पर महिलाओं का शारीरिक शोषण करने के आरोप खूब लगते रहे हैं। मदद मांगने आयी महिला को फंसाने या किसी युवती को उठवा लेने के कई किस्से नेताओं के चरित्र का कच्चा चि_ा खोलते आये हैं। लेकिन, यहां हम सिर्फ उन मामलों का जिक्र कर रहे हैं, जिनमें संबंधित महिला ने नेता पर आरोप नहीं लगाया।
अगर वे सच्ची सीडी या तस्वीरें हैं, तो सिर्फ यही बताती हैं कि जो कुछ हुआ है, वह दो वयस्क व्यक्तियों की रजामंदी से हुआ है, जिस पर किसी तीसरे को आपत्ति करने का अधिकार नहीं है। सीडी बनाकर जिसने साजिशन उनकी निजता का उल्लंघन किया है, उसका इरादा नेक नहीं हो सकता।
फिलहाल गुजरात में जारी हार्दिक पटेल के वीडियो असली हैं या नकली, यह महत्वपूर्ण नहीं है। बड़ा सवाल यह है कि जब सत्तारूढ़ पार्टी ‘मैं विकास हूं’ के नारे के साथ मैदान में है और प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को सरदार पटेल के समकक्ष स्थापित करने की कोशिश की जा रही है, तब विरोध में खड़े एक पटेल नेता की छवि को ध्वस्त करने के लिए ऐसी साजिश की जरूरत किसे और क्यों पड़ रही है? क्या विकास का मुद्दा अब चुनाव जितानेवाला नहीं रहा? यह भी, कि महिलाओं को इस तरह कब तक अपमानित किया जाता रहेगा?

Pin It