पुलिस स्मृति दिवस की रिहर्सल परेड में शहीदों को श्रद्धांजलि

डीजीपी सुलखान सिंह समेत विभाग के आला अधिकारी रहे मौजूद
शोक परेड देखने उमड़े लोग, 21 को मनाया जाएगा स्मृति दिवस

4पीएम न्यूज़ नेटवर्क
लखनऊ। ड्यूटी के दौरान अपने प्राणों की आहुति देने वाले जांबाज पुलिसकर्मियों की याद में इस वर्ष भी 21 अक्टूबर को पुलिस स्मृति दिवस मनाया जायेगा। इस उपलक्ष्य में आज राजधानी के रिजर्व पुलिस लाइन में रिहर्सल परेड का आयोजन किया गया।
शोक परेड के रिहर्सल की कमान वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक दीपक कुमार ने संभाली। रिहर्सल परेड के दौरान डीजीपी सुलखान सिंह, आईजी रेंज लखनऊ जय नारायण सिंह सहित पुलिस के आला अधिकारी मौजूद रहे। कार्यक्रम में एक सिपाही ने मुख्यमंत्री की भूमिका निभाई। परेड में तय समय के अनुसार सीएम बना सिपाही गाड़ी से पुलिस लाइन पहुंचा और परेड की सलामी ली। साथ ही शोक पुस्तिका भी ग्रहण की। फुल ड्रेस पहने पुलिस और पीएसी के जवानों ने शोक परेड की और शस्त्र झुका कर शहीदों को अपनी श्रद्धांजलि अर्पित की।

सम्भल में दो बसों की टक्कर दो की मौत, तीस घायल

डीएम व एसपी घटनास्थल पहुंचे

4पीएम न्यूज़ नेटवर्क
सम्भल। गुन्नौर कोतवाली अंतर्गत दिल्ली बदायूं मार्ग पर नरौरा पुल के पास स्थित काली का मंदिर के सामने दिल्ली जा रही बुलंदशहर डिपो की बस और बदायूं जा रही कौशांबी डिपो की बस में आमने-सामने टक्कर हो गई। हादसे में दो यात्रियों की मौत हो गई और 30 घायल हो गये। यह हादसा आज सुबह करीब सवा छह बजे हुआ।
पुलिस के मुताबिक हादसे में कौशांबी डिपो की बस में सवार पप्पू निवासी बदायूं और सुबोध निवासी शाहजहांपुर की मौके पर ही मौत हो गई। इसी बस में सवार 19 लोग घायल हो गए हैं। घायल बदायूं व आंवला-बरेली के रहने वाले हैं, जिन्हें सीएचसी से बदायूं मेडिकल कालेज के लिए रेफर किया गया है, जबकि दोनों बसों के चालक और परिचालक मौके से फरार हो गये हैं। पुलिस ने हादसे में मरने वालों के शव को कब्जे में ले लिया है। वहीं घायलों से पूछताछ की जा रही है। पुलिस इस मामले में परिवहन विभाग की भी मदद ले रही है, ताकि दोनों बसों के चालक और परिचालक के बारे में जानकारी मिल सके।

मेट्रो निर्माण को गति देने के लिए अलग-अलग जिलों में बनेगा मेट्रो निगम, खाका तैयार

गोरखपुर, वाराणसी, कानपुर समेत सात जिलों में होना है मेट्रो का निर्माण

4पीएम न्यूज़ नेटवर्क
लखनऊ। प्रदेश में मेट्रो के संचालन को गति देने के लिए आने वाले चंद महीनों में उत्तर प्रदेश मेट्रो निगम बनेगा। इसके जरिए आने वाले समय में अलग-अलग जिलों में चलने वाली मेट्रो को गति दी जा सकेगी। यही नहीं, नियुक्ति, कोचों की खरीद और अन्य बड़े निर्णय भी निगम ही करेगा। इसका खाका भी बना लिया गया है। जल्द ही कैबिनेट इस पर स्वीकृति देगी। इसके बाद वाराणसी, गोरखपुर, कानपुर, आगरा, झांसी, इलाहाबाद, मेरठ सहित कई शहरों में मेट्रो को गति मिल सकेगी।
यूपी में अलग-अलग जिलों में मेट्रो का खाका तैयार करने का काम लखनऊ मेट्रो रेल कॉरपोरेशन (एलएमआरसी) अभी तक करता आया है। इसकी बानगी कानपुर, वाराणसी का डीपीआर है। यही नहीं कानपुर में कास्टिंग यार्ड की दीवार भी खड़ी हो रही है। वहीं गोरखपुर में एलएमआरसी की देखरेख में रेल इंडिया टेक्निकल एंड इकोनामिक सर्विसेस (राइट्स) ने अपना संभावित डीपीआर लगभग तैयार कर लिया है। अब भविष्य में सारा काम उत्तर प्रदेश मेट्रो निगम करेगा।

अम्टा का होगा हर मेट्रो पर नियंत्रण

अर्बन मेट्रो ट्रांसपोर्ट अथारिटी (अम्टा) भारत में चलने वाली मेट्रो के लिए गाइड लाइन निर्धारित करेगा। नई मेट्रो पॉलिसी के तहत अम्टा राज्यों में चलने वाली मेट्रो और केंद्र के बीच बेहतर तालमेल भी बनाएगा। अम्टा की गाइड लाइन के तहत ही राज्यों को मेट्रो का खाका खींचना होगा। इससे एक ठोस नीति के तहत मेट्रो का विस्तार हो सकेगा।

क्या-क्या होंगे फायदे

बल्क में कोच, पटरियां व मेट्रो से संबंधित उपकरण सस्ते में खरीद सकेंगे। साथ ही अलग-अलग जिलों में चलने वाली मेट्रो की नियुक्तियां निगम करेगा और फिर जिलों में उनकी तैनाती निगम करेगा। उत्तर प्रदेश मेट्रो निगम के भीतर तबादले और प्रतिनियुक्ति पर लेने का काम भी यही निगम करेगा, नियमों का पालन हुआ या नहीं इस पर निगम निगरानी करेगा। हर जिले में जो मेट्रो से संबंधित काम होगा, उसका निर्णय निगम करेगा। स्थानीय स्तर पर जांच होने के साथ ही निगम में बैठने वाले अफसर के प्रति जवाबदेही तय होगी।

बसपा में मेयर पद के प्रत्याशियों की सूची तैयार

लखनऊ। बसपा सुप्रीमो मायावती दीपावली के बाद मेयर पद के प्रत्याशियों के नाम फाइनल करेंगी। लंबे समय से चल रहा प्रत्याशियों की स्कीनिंग का काम पूरा हो चुका है। संभावित प्रत्याशियों की सूची भी बन चुकी है, लेकिन सूची पर अंतिम मुहर मायावती ही लगाएंगी। यह चर्चा जोरों पर है कि चुनाव अधिसूचना जारी होने तक पार्टी अपने प्रत्याशियों की लिस्ट जारी कर देगी।
मायावती इस महीने लखनऊ में नहीं रही हैं, लेकिन प्रत्याशियों की स्क्रीनिंग का काम लंबे समय से चल रहा है। उनकी रैली से लेकर पार्टी के आयोजनों में भागीदारी के आधार पर संभावित नामों की लिस्ट पार्टी के वरिष्ठ नेता तैयार भी कर चुके हैं। इस बीच प्रस्तावित आरक्षण भी जारी हो गया है। पार्टी सूत्रों का कहना है कि उन संभावित नामों से मेयर प्रत्याशी पर मायावती ही मुहर लगाएंगी। वहीं मेयर के अलावा नगरपालिका अध्यक्ष प्रत्याशियों के संभावित नामों की लिस्ट भी पार्टी ने तैयार कर ली है। माया ने इस लिस्ट का काम पार्टी नेताओं पर ही छोड़ दिया है, लेकिन उनकी अनुमति के बाद ही वह सूची भी जारी की जाएगी।

पेयजल की समस्या से जूझ रहे इन्दिरानगरवासी

लखनऊ। इन्दिरा नगर सेक्टर आठ में ट्यूूबवेल की मरम्मत नहीं होने के कारण पिछले 15 दिनों से क्षेत्र में लोग पेयजल की समस्या से जूझ रहे हैं। समस्या को लेकर क्षेत्रीय पार्षद मुकेश सिंह चौहान ने नगर आयुक्तउदयराज ंिसंह को कई पत्र लिखे लेकिन ट्यूबवेल की मरम्मत का कार्य नहीं कराया गया। श्री सिंह ने भेजे पत्र में लिखा है कि यदि समस्या का समाधान नहीं हुआ तो दीपावली नहीं मनाई जाएगी। पार्षद का कहना है कि क्षेत्रीय लोग रोजाना पेयजल की समस्या लेकर उनके पास आते हैं, जिसकी शिकायत लिखित रूप से नगर आयुक्तसे की गई। नगर आयुक्त ने जलकल विभाग को ट्यूबवेल की मरम्मत करने के निर्देश दिए लेकिन बीते दस दिन से समस्या का समाधान नहीं हुआ।

त्यौहार बाद गुरुनानक मार्केट पर चलेगा बुल्डोजर

लखनऊ। नगर निगम ने चारबाग स्थित गुरुनानक मार्केट की दुकानों में किए गए अवैध निर्माण के खिलाफ कार्रवाई फिलहाल रोक दी है। अब त्यौहार के बाद मार्केट की उन दुकानों पर कार्रवाई होगी जिन्होंने मानकों के विपरीत निर्माण कराया है। हालांकि किरायेदारों की किरायेदारी रद्द करने की प्रक्रिया चल रही है। वहीं दूसरी ओर लोगों की दुकान बचाने के लिए रसूखदारों ने निगम के अफसरों पर दबाव बनाना शुरू कर दिया है। अफसरों का कहना है कि कार्रवाई त्यौहार के कारण रोकी गई है। अपर नगर आयुक्त नन्दलाल सिंह ने बताया कि विभाग के अधिवक्ता से विधिक सलाह ली जा रही है। किराएदारों को नोटिस जारी करने की तैयारी हो गई है। त्यौहार के बाद आगे की कार्रवाई की जा रही है। कार्रवाई के संबंध में एलडीए को भी पत्र भेज दिया गया है। गौरतलब है कि गुरुनानक मार्केट और न्यू मार्केट में 201 दुकानें और 48 मकान हैं इसमे से 36 मकानों में मूल स्वरूप बदलकर होटल बना दिया गया था। यही नहीं कई किराएदारों ने दुकानों को किसी अन्य को बेच दिया था। इसके अलावा करीब सौ दुकानों के किराएदारों को भी नोटिस देने की तैयारी है। फिर एलडीए और निगम रणनीति बनाकर कार्रवाई करेगा।

Pin It