…तो क्या राम ‘राज’ से निकलेगा बीजेपी के मिशन 2019 का रास्ता

अयोध्या में दिवाली का कार्यक्रम सफल बनाने के लिए जुटी है योगी सरकार
हिंदुत्व और राम मुद्दे को भुनाने में जुटी है भाजपा

4पीएम न्यूज़ नेटवर्क

लखनऊ। उत्तर प्रदेश में विधानसभा चुनाव में बीजेपी की प्रचण्ड जीत के पीछे के जो कारण थे उसमें हिंदुत्व सबसे बड़ा रहा है। हिंदुत्व की रहनुमाई करने वाले योगी आदित्यनाथ सत्ता संभालने के बाद से उसे साथ लेकर चल रहे हैं। नोटबंदी, जीएसटी से नाराज लोगों का ध्यान हटाने के लिए वे भगवान राम के नाम की ब्रांडिंग में जुटे हुए हैं। दरसअल सीएम योगी जानते हैं कि मिशन 2019 में अयोध्या और भगवान राम पालनहार बनेंगे। इसलिए जितना ज्यादा हो सके लोगों तक यह बात जाए कि बीजेपी राम मंदिर के निर्माण को लेकर संजीदा है। यही वजह है कि सीएम योगी ने राम की नगरी अयोध्या को चमकाने के लिए सरकार का खजाना खोल दिया है। इतना ही नहीं योगी के विकास के कण-कण में ‘राम’ ही बसे हैं।
उत्तर प्रदेश की सत्ता संभालने के बाद से ही योगी सरकार धार्मिक स्थलों पर ज्यादा मेहरबान रही है। उसमें अयोध्या प्राथमिकता में रही है। बीजेपी और अयोध्या का नाता जगजाहिर है। अब जब 2019 में लोकसभा चुनाव होने वाला है और बीजेपी को कुछ करने का मौका मिला है तो योगी सरकार दिल खोलकर अयोध्या के लिए काम कर रही है। योगी मुख्यमंत्री बनने के बाद पहली बार अयोध्या पहुंचे तो 350 करोड़ रुपये से भगवान राम की नगरी को सजाने का लक्ष्य रखा। अयोध्या में त्रेता युग की तर्ज पर आज सीएम योगी आदित्यनाथ दिवाली मनायेंगे। इसके लिए पूरी योगी सरकार अयोध्या में डेरा डाले हुए है।
मिशन 2019 को लेकर बीजेपी की तैयारी जोर-शोर से चल रही है। भाजपा अध्यक्ष अमित शाह अपनी रणनीति पर काम कर रहे हैं। बीजेपी का सबसे ज्यादा फोकस उत्तर प्रदेश पर है। 2014 लोकसभा चुनाव में दिल्ली की सत्ता में बीजेपी को पहुंचाने में यूपी का सबसे बड़ा योगदान रहा है। बीजेपी की झोली में कुल 71 सीटें आई थीं। इस बार भी बीजेपी कोई रिस्क नहीं लेना चाहती है। लोकसभा चुनाव में ज्यादा से ज्यादा सीटें पार्टी को दिलाने का दबाव सीएम योगी पर भी है। जाहिर है योगी के हाथ में उत्तर प्रदेश की बागडोर है। उनके कामकाज का असर चुनाव पर पड़ेगा ही, इसलिए सीएम योगी अपने तरीके से हिंदुत्व को धार देने में जुटे हैंं। सीएम योगी ने अयोध्या का कायाकल्प करने के लिए सरकार का खजाना खोल दिया है। अयोध्या में 723.54 लाख रुपये की लागत से राम कथा गैलरी और पार्क का निर्माण, पार्किंग का विकास, अंदरूनी रास्ते और बाउंड्री वाल का निर्माण, फुट ओवर ब्रिज, सोलर लाइट्स, कचरा मैनेजमेंट और पत्थर के बेंच लगाए जाएंगे। इसके अलावा 1206.54 लाख रुपये की लागत से साकेत पेट्रोल पम्प के पास बस डिपो, पुराने बस स्टैंड के पास पार्किंग की व्यवस्था की जाएगी। दिगंबर अखाड़ा के पास बहुद्देशीय हाल का निर्माण, पंचमुखी परिक्रमा के पास पर्यटक आवास, पार्किंग और शौचालय का निर्माण कराया जायेगा। इसके अलावा सरयू नदी के तट राम की पैड़ी पर 100 फुट की भगवान राम की प्रतिमा , घाट, पत्थर की रेलिंग, सोलर लाइट्स, स्वच्छ पेयजल, कचरा मैनेजमेंट और पत्थर के बेंच आदि का निर्माण कराया जाएगा। इसके साथ ही रेलवे स्टेशन, गुप्तचर घाट, लक्ष्मण किला घाट आदि का भी सुंदरीकरण और विकास कराया जाएगा। हनुमान गढ़ी, कनक भवन, चौक रोड और दशरथ भवन का भी सुंदरीकरण कराया जाएगा।
बीजेपी की योगी सरकार ने राम के नाम पर कई विकास योजना शुरू की हंै। इसमें रामायण सर्किट, राम म्यूजियम, अविरल रामायण शामिल हैं। केंद्र की मोदी सरकार ने अयोध्या समेत ऋं गवेरपुर और चित्रकूट को मिलाकर रामायण सर्किट के रूप में विकसित करने के लिए 223.94 करोड़ की योजना स्वीकृत की है। इस पैसे से घाटों-मंदिरों और पर्यटन स्थलों को आधुनिक शक्ल देते हुए रामकालीन रूप में प्रस्तुत किया जाएगा। केंद्र ने अयोध्या में राम म्यूजियम बनवाने की योजना बनाई थी, उसे योगी ने पूरा करने के लिए जमीन देने का फैसला किया है। अयोध्या में होने वाली अविरल रामायण पर अखिलेश सरकार ने रोक लगा दी थी, जिसे योगी ने दोबारा से शुरू कराया। अब देखना दिलचस्प होगा की भगवान राम चुनाव में कितना असर दिखाते हैं।

अयोध्या की दिव्य दिवाली देखने के लिए जुटा कुनबा

अमेरिकी राष्टï्रपति डोनॉल्ड ट्रंप ने भी मनायी दिवाली
सीएम योगी, राज्यपाल राम नाईक समेत मंत्री नेता मौजूद

4पीएम न्यूज़ नेटवर्क

लखनऊ। भगवान राम की नगरी अयोध्या आज दुल्हन की तरह सजायी गई है। अयोध्यावासियों के साथ-साथ योगी सरकार के पूरे कुनबे को भगवान राम का इंतजार है। 14 साल के वनवास के बाद भगवान राम आज अयोध्या पहुंचेंगे और सीएम योगी और राज्यपाल राम नाईक उनकी अगवानी करेंगे। इसकी तैयारी पूरी हो चुकी है।
छोटी दिवाली के मौके पर आज अयोध्या में सीएम योगी, राज्यपाल राम नाईक समेत मंत्री नेता और अधिकारी मौजूद है। आज अयोध्या में भव्य दिवाली का आयोजन किया जा रहा है जो त्रेता युग की तर्ज पर मनाया जा रहा है। त्रेता युग में 14 साल का वनवास काट जब भगवान श्रीराम अयोध्या वापस लौटे थे तो उनके छोटे भाई भरत ने उनका स्वागत किया था और पूरे नगर में दीपोत्सव कर जश्न मनाया गया था। अब कलयुग में एक बार फिर उसी अलौकिक आनंद को सूबे की योगी सरकार दोहराने जा रही है। सरयू के तट पर एक बार फिर भरत मिलन होगा। राम दरबार में योगी के नेतृत्व वाली पूरी सरकार माथा टेकेगी। 5 घंटे से ज्यादा के कार्यक्रम के दौरान सीएम योगी कई कार्यक्रमों में भाग लेंगे।
इस मौके पर अयोध्यावासी सरयू नदी में 1.71 लाख दीप जलाकर वल्र्ड रिकॉर्ड भी बनाएंगे। इसके लिए प्रशासन ने हर घर से चार दिए मंगवाए हैं। इस दौरान अयोध्या में त्रेता युग के दर्शन कराने वाले हर उस दृश्य का मंचन होगा जो आने वाली पीढ़ी के लिए संजोकर रखने वाला यादगार और सुनहरा सुअवसर भी होगा। वैसे तो पूरा आयोजन धार्मिक और संस्कृति के रंग में रंगा हुआ होगा, लेकिन इस बहाने बीजेपी सरकार कहीं न कहीं यह संदेश देने की भी कोशिश कर रही है कि राम मंदिर बनने में भले ही वक्त लग रहा हो लेकिन सरकार रामराज के लिए पूरी तरह समर्पित व संकल्पित है। इसके अलावा सीएम योगी आज 133 करोड़ रुपये से ज्यादा की विकास योजनाओं का भी शिलान्यास करेंगे। इनके जरिए अयोध्या के विकास को प्रदेश के लिए एक मॉडल बनाने की कोशिश होगी। सांस्कृतिक परंपराओं के प्रति समर्पण का संदेश देने का प्रयास होगा।

डोनाल्ड ट्रंप ने मनाई दिवाली
अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप ने निक्की हेली, सीमा वर्मा सहित प्रशासन के वरिष्ठ भारतीय अमेरिकी सदस्यों तथा समुदाय के नेताओं के साथ ओवल कार्यालय में दिवाली मनाई। इस आयोजन में ट्रंप की बेटी इवांका ट्रंप ने भी हिस्सा लिया। मालूम हो कि निक्की हेली संयुक्त राष्ट्र में अमेरिका की राजदूत हैं, सीमा वर्मा सेंटर्स फॉर मेडीकेयर एंड मेडिकैड सर्विसेज की प्रशासक हैं। इनके अलावा यूएस फेडरल कम्युनिकेशन्स कमीशन के अध्यक्ष अजीत पई, राज शाह मुख्य उप प्रेस सचिव भी जश्न में शामिल हुए। पिछले साल इवांका दीपावली पर वर्जीनिया और फ्लोरिडा स्थित मंदिरों में गई थी।

Pin It