किसानों और कामगारों का भाजपा सरकार में हो रहा शोषण: नरेश उत्तम

लखनऊ। समाजवादी पार्टी के प्रदेश अध्यक्ष नरेश उत्तम पटेल ने कहा है कि भाजपा सरकार द्वारा आलू उत्पादक किसानों और कामगारों का भारी शोषण हो रहा है। यूपी के किसानों को आलू का वाजिब दाम नहीं मिल रहा। किसानों ने अपना आलू प्रदेश के शीतगृहों में रखा था लेकिन निकासी के समय आलू दो सौ रुपये प्रति बोरी से लेकर 225 रूपये प्रति बोरी बिक रहा है। किसानों को शीतगृहों का किराया और खर्च निकालने के बाद 50 रूपये प्रति बोरी मुनाफा भी नहीं बच रहा है। इसलिए किसान अपना आलू शीतगृहों से नहीं उठा रहे है। इतना ही नहीं खरीफ के उत्पादन में गिरावट की आशंका भी है। ऐसे में रबी की फसल में गेहूं की लागत बढऩा भी तय माना जा रहा है, जिसकी वजह से किसान परेशान हैं।
नरेश उत्तम ने कहा कि डीजल के मूल्यों में निरन्तर वृद्धि हो रही है। बीज,खाद के दाम बढ़े हैं। मौसम विभाग की घोषणायें गलत हो रही हंै। लोग अभी भी गर्मी से परेशान हैं। पानी की स्थिति ठीक नही है। गेहूं उत्पादन की लागत दो हजार रुपया प्रति क्विंटल के आस-पास आ रही है, लेकिन सरकार किसानों के प्रति गम्भीर नही है। उल्टा कीटनाशक केमिकल को आयात करके फसल के लागत मूल्य बढऩे से सरकार ने आंखें मूंद ली हैं जिसके कारण किसानों की स्थिति अत्यन्त भयावह होती जा रही है। सरकार द्वारा आलू क्रय केन्द्र खोलने की घोषणा खोखली साबित हुई है। सरकार द्वारा आलू नहीं खरीदा जा रहा है। आज त्यौहारों में नोटबन्दी और जीएसटी का भी व्यापक असर दिख रहा है।

Pin It