जिलों में बिगड़े हालात तो डीएम एसपी होंगे जिम्मेदार: योगी

मुख्यमंत्री ने कानून व्यवस्था के मुद्दे पर अधिकारियों के कसे पेंच

4पीएम न्यूज़ नेटवर्क
लखनऊ। मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने कानून व्यवस्था की समीक्षा के दौरान पुलिस और प्रशासनिक अधिकारियों को जमकर फटकार लगाई। उन्होंने कहा कि अब किसी भी जिले में लॉ एंड आर्डर की समस्या आई तो उसके लिए डीएम और एसपी सीधे तौर पर जिम्मेदार माने जाएंगे। इतना ही नहीं उनके खिलाफ कठोर कार्रवाई की जायेगी । समीक्षा बैठक में अपराधियों, अराजक तत्वों और कानून हाथ में लेने वालों से कड़ाई से निपटने का निर्देश भी दिया गया।
मुख्यमंत्री ने एनेक्सी स्थित कार्यालय में समीक्षा बैठक के दौरान प्रमुख सचिव गृह अरविन्द कुमार, पुलिस महानिदेशक सुलखान सिंह, डीजी अभिसूचना भावेश कुमार एडीजी कानून व्यवस्था आनन्द कुमार सहित प्रदेश के सात जोन के अपर पुलिस महानिदेशक और एक जोन के आईजी के साथ कानून व्यवस्था के मुद्दे पर विस्तार से चर्चा की। उन्होंने ने कहा कि अपराधियों से पुलिस सख्ती से निपटे और कानून हाथ में लेने वालों पर भी कठोर कारवाई की जाए । दुर्गा पूजा और मोहर्रम के अवसर पर बलिया और कानपुर में हुए साम्प्रदायिक दंगे पर अधिकारियों को फटकार लगाते हुए कहा कि कुछ जगहों पर अशांति फैलाने वाली घटनाएं अधिकारियों की लापरवाही से हुईं। यदि समय रहते सजगता दिखाई जाती तो हालात नहीं बिगड़ते। वहीं बैठक के बाद डीजीपी सुलखान सिंह ने पत्रकारों से बातचीत करते हुए कहा कि मुख्यमंत्री के निर्देशों का सख्ती से पालन होगा। उन्होंने बताया कि अभी पिछले दिनों कई जिलों में त्यौहारों के अवसर पर कुछ घटनाएं हुईं थी। उन पर चर्चा हुई। एक सवाल के जवाब में सुलखान सिंह ने कहा कि प्रदेश में एनकाउंटर का कोई अभियान नहीं चल रहा है। केवल अपराधियों को गिरफ्तार करने का अभियान चल रहा है । अगर अपराधी पुलिस पर बल प्रयोग करेंगे तो पुलिस आत्मरक्षार्थ जवाबी कार्यवाई जरुर करेगी। उन्होंने बताया कि कुछ महानगरों में एसएसपी के पद पर डीआईजी तैनात करने की प्रक्रिया चल रही है। इस रैंक के अधिकारियों की उपलब्धता के आधार पर तैनाती होगी ।

Pin It