केजीएमयू में फ्रीजर खराब होने के कारण सड़ रही लाशें

अस्पताल प्रशासन ने दो महीने पहले ही बनवाया था फ्रीजर

4पीएम न्यूज़ नेटवर्क
लखनऊ। केजीएमयू में एक बार फिर लाशों के सडऩे का सिलसिला शुरू हो गया है। दो महीने पहले मीडिया में खबरें आने के बाद सालों से खराब पड़े फ्रीजर को आनन-फानन मे बनवाया गया था लेकिन फ्रीजर दोबारा खराब हो गया है। लाशें सडऩे के कारण उसकी बदबू केजीएमयू ओपीडी और कुलपति कार्यालय तक पहुंच रही है। इस वजह से कॉलेज में आने वाले मरीजों और डॉक्टरों का जीना मुहाल हो गया है। वहीं खराब फ्रीजर ठीक कराने के मसले पर केजीएमयू के अधिकारी हीलाहवाली कर रहे हैं, जिसके चलते एक बार फिर लोगों को परेशानियों का सामना करना पड़ा रहा है।
केजीएमयू की मच्र्युरी में मात्र एक फ्रीजर है। इस फ्रीजर में एक साथ छह शव रखे जाते हैं। मौजूदा समय में पांच लावारिश शव फ्रीजर में रखे गये हैं, जबकि एक सप्ताह से फ्रीजर खराब होने के कारण चारों तरफ बदबू फैल रही है। कर्मचारी मुंह पर रूमाल रखकर बाहर निकल रहे हैं। वहीं मच्र्युरी के भीतर एक मिनट ठहरना भी मुश्किल हो गया है। डॉक्टरों और कर्मचारियों के लिए काम करना मुश्किल हो गया है। केजीएमयू के सीएमएस डॉ. एसएन शंखवार ने बताया कि फ्रीजर ठीक कराने के निर्देश कंपनी को दिए गए हैं।
कोल्ड रूम बनवाने का मामला अटका
मच्र्युरी में कोल्ड रूम बनवाने का प्रस्ताव लटक गया है। इसे स्वास्थ्य विभाग को बनवाना है। इस संबंध में सीएमओ ने कई बैठकें की और कोल्ड रूम बनाने के आदेश भी हुए लेकिन आदेश फाइलों में कैद है। केजीएमयू प्रशासन का कहना है कि मच्र्युरी में रखे फ्रीजर और कोल्ड रूम बनाने की जिम्मेदारी सीएमओ की है। जबकि सीएमओ डॉ. जीएस बाजपेई का कहना है कि फ्रीजर खराब होने की जानकारी मिलते ही बनवाया जाता है। कोल्ड रूम बनवाने की दिशा में कोशिश की जा रही है।

Pin It