फिर अटका पटरी दुकानदारों को लाइसेंस जारी करने का मामला

त्यौहार के बाद दोबारा होंगे सर्वे डूडा की रिपोर्ट आने में लगेगा समय

4पीएम न्यूज़ नेटवर्क
लखनऊ। शहर के पटरी दुकानदारों को लाइसेंस दिए जाने में लगातार हीलाहवाली की जा रही है। पहले तो नियमावली बनाने के नाम पर लम्बे समय तक पटरी दुकानदारों को इंतजार कराया गया। अब जिला विकास नगरीय अभिकरण (डूडा) सर्वे के नाम पर पटरी दुकानदारों की लिस्ट तैयार नहीं कर पाया है। जिस कंपनी को डूडा द्वारा सर्वे का जिम्मा दिया गया था। उस कंपनी ने सर्वे में काफी गलतियां कर दी जिसके चलते एक बार फिर पटरी दुकानदारों को इंतजार करना पड़ेगा।
राजधानी के पटरी दुकानदारों को लाइसेंस जारी किए जाने के संबंध में निगम के अफसरों का कहना है कि पूर्व में किए गए एक सर्वे में निजी संस्था ने शहर के पटरी दुकानदारों की संख्या को 26 हजार पहुंचा दिया है, जबकि नगर निगम की सर्वे रिपोर्ट में पटरी दुकानदारों की संख्या मात्र 12 हजार है। इसी के चलते डूडा द्वारा जारी की गई लिस्ट को लौटा दिया गया है। जिम्मेदारों का कहना है कि त्यौहार के बाद ही पटरी दुकानदारों का सर्वे पूरा किया जा सकेगा। गौरतलब है कि जिला विकास नगरीय अभिकरण (डूडा) ने एक निजी संस्था से वेंडिंग जोन का सर्वे कराया था, जिसमें वेंडरों की संख्या अधिक लग रही है इसके अलावा पटरी दुकानदारों का नाम और वेंडिंग जोन गलतियां मिली हैं। इसलिए उनसे दोबारा सर्वे के लिए कहा गया है। अपर नगर आयुक्तपीके श्रीवास्तव ने बताया कि अगर डूडा की सर्वे रिपोर्ट नहीं आती है तो निगम अपनी पुरानी लिस्ट के आधार पर लाइसेंस निर्गत करने का काम शुरू करेगा।

Pin It