पीएम और सीएम के दखल के बाद बीएचयू मामले में मचा हडक़ंप, चीफ प्रॉक्टर का इस्तीफा वीसी की भी छुट्टी होने की उम्मीद 

शनिवार को बीएचयू परिसर में  धरना दे रही छात्राओं पर पुलिस ने किया था लाठीचार्ज पूरे देश में हुई थी इस घटना की निंदा 
बनारस कमिश्नर ने मुख्य सचिव को सौंपी अपनी रिपोर्ट में बीएचयू प्रशासन को माना था दोषी 
कुलपति प्रो. गिरीश त्रिपाठी को कल दिल्ली किया गया था तलब, वीसी के अधिकार सीज होने की संभावना

4पीएम न्यूज़ नेटवर्क

लखनऊ। बनारस हिंदू विश्वविद्यालय में अपनी मांगों को लेकर धरना प्रदर्शन कर रही छात्राओं पर किए गए लाठीचार्ज मामले में पीएम मोदी और सीएम योगी के दखल के बाद हडक़ंप मच गया है। लाठीचार्ज मामले में चीफ प्रॉक्टर ओएन सिंह ने जिम्मेदारी लेते हुए अपना इस्तीफा दे दिया है तो वहीं कयास लगाये जा रहे हैं कि जल्द ही वीसी की छुट्टïी हो सकती है। कहा जा रहा है कि कुलपति गिरीश चंद्र त्रिपाठी के सभी अधिकार आज शाम 5 बजे तक सीज होने की संभावना है।   बनारस हिंदू विश्वविद्यालय में शनिवार को छेडख़ानी के विरोध में परिसर में धरना दे रही छात्राओं पर लाठीचार्ज किया गया था। इस घटना की पूरे देश में निंदा हुर्ई थी। बीएचयू की आग उत्तर प्रदेश के अन्य जिलों से लेकर दिल्ली तक पहुंच गई थी। दिल्ली में भी छात्रों ने इस घटना के विरोध में मार्च निकाला था। यूपी के भी कई शहरों में छात्रों ने विरोध प्रदर्शन किया था। जिस तरह से छात्राओं के साथ अमानवीय व्यवहार किया गया था उससे सरकार की भी किरकिरी हुई। विपक्षी दलों ने भी सरकार को घेरते हुए कानून-व्यवस्था पर ऊंगली उठाई। मामले की गंभीरता को देखते हुए खुद पीएम नरेन्द्र मोदी और भाजपा अध्यक्ष अमित शाह ने सीएम योगी से बात कर उचित कदम उठाने को कहा था। लाठीचार्ज मामले में घिरी सरकार ने बनारस कमिश्नर को एक दिन में जांच रिपोर्ट सौंपने को कहा था। मालूम हो कि वाराणसी कमिश्नर नितिन गोकर्ण ने अपनी प्रारंभिक जांच रिपोर्ट में इस पूरे मामले में बीएचयू प्रशासन की संवेदनहीनता और लापरवाही माना।  दूसरी तरफ मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ भी पूरे मामले में सख्त नजर आ रहे हैं।  रिपोर्ट आने के बाद ही वीसी प्रो. गिरीश चंद्र त्रिपाठी को दिल्ली तलब किया गया था। फिलहाल चीफ प्रॉक्टर ओएन सिंह ने कैंपस में हुए बवाल की जिम्मेदारी लेते हुए अपना इस्तीफा कुलपति को सौंप दिया है। कुलपति ने उनका इस्तीफा स्वीकार भी कर लिया है। उनकी जगह बीएचयू के डीन ऑफ स्टूडेंट और नेत्र विभाग के अध्यक्ष प्रो. महेन्द्र कुमार सिंह को बीएचयू का नया चीफ प्रॉक्टर बनाया गया है। वहीं कुलपति दो महीने में रिटायर होने वाले हैं, लिहाजा उनके सभी अधिकार आज से सीज किए जाने की संभावना है।  इसके अलावा हॉस्टल वार्डन पर भी गाज गिरनी तय है। हॉस्टल वार्डन ने छात्रा की शिकायत पर कहा था कि देर रात तक बाहर घूमने पर छेड़छाड़ तो होगी ही। छुट्टी पर भेजे जाने के सवाल पर कुलपति ने कहा कि अगर ऐसा होता है तो यह अपमान है। इस स्थिति में वह इस्तीफा देना पसंद करेंगे। इस बीच मंगलवार को दिल्ली में बीएचयू एग्जीक्यूटिव बोर्ड की मीटिंग में भी यह मुद्दा उठा। इस बैठक में छात्राओं की सुरक्षा को लेकर और कदम उठाने का फैसला लिया गया। 
बख्शे नहीं जाएंगे अराजकता फैलाने वाले: योगीमुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने कहा है कि काशी हिंदू विश्वविद्यालय की घटना के लिए अराजक तत्व जिम्मेदार हैं। प्रदेश सरकार उनसे पूरी सख्ती से निपटेगी। सिर्फ इतना ही नहीं लाठीचार्ज के जिम्मेदार अफसरों और कर्मचारियों को भी नहीं बख्शा जाएगा। प्रकरण में जितने भी मुकदमे विद्यार्थियों पर दर्ज हैं, दशहरा बाद उनके विश्वविद्यालय लौटने पर वापस ले लिये जाएंगे। मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने कहा कि काशी हिंदू विश्वविद्यालय में जो घटना हुई वह एक साजिश का परिणाम थी और शुरुआती जांच में इसमें असामाजिक तत्वों की भूमिका सामने आई है। उन्होंने कहा कि अराजकता फैलाने वालों को किसी भी कीमत पर बख्शा नहीं जाएगा। बीएचयू में हो रहे घटनाक्रम की कवरेज करने गए पत्रकारों पर हुए लाठीचार्ज की घटना के संबंध में मुख्यमंत्री ने कहा कि अंतिम जांच रिपोर्ट मिलते ही दोषियों पर कार्रवाई होगी। योगी आदित्यनाथ ने गोरखपुर प्रवास के दौरान कहा कि बीएचयू प्रकरण संवेदनशील है। मालूम हो कि राज्य सरकार ने बीएचयू में हाल में छेड़छाड़ के विरोध में छात्राओं के प्रदर्शन और उन पर लाठी चार्ज समेत संपूर्ण प्रकरण की मजिस्ट्रेट से जांच कराने के आदेश दिए है।

अमेरिकी रक्षा मंत्री के काबुल पहुंचने के कुछ ही देर बाद एयरपोर्ट पर दागे गए 20 रॉकेट

हमले के बाद सभी एयरपोर्ट बंद, फ्लाइट्स रद्द

4पीएम न्यूज़ नेटवर्क

नई दिल्ली। अफगानिस्तान की राजधानी काबुल में रॉकेट से हमला हुआ है। काबुल एयरपोर्ट पर कई रॉकेट दागे गए हैं। हमले के बाद एयरपोर्ट को बंद कर दिया गया है और सभी फ्लाइट्स रद्द कर दी गई हैं। अमेरिकी रक्षा मंत्री जिम मैटिस हमले से थोड़ी देर पहले ही काबुल एयरपोर्ट पहुंचे थे। मैटिस भारत में अपनी यात्रा पूरी कर अफगानिस्तान पहुंचे हैं। स्थानीय मीडिया एजेंसी टोलो न्यूज के अनुसार, एयरपोर्ट पर करीब 20 से 30 रॉकेट दागे गए हैं। एयरपोर्ट के पास ही नाटो का बेस कैंप भी है, कहा जा रहा है कि रॉकेट का निशाना यही था।  

देश में कक्षा तीन के 75 प्रतिशत छात्र नहीं जानते दो अंकों का घटाना

विश्व बैंक की रिपोर्ट में हुआ खुलासाभारत 12 देशों की सूची में दूसरे नंबर पर

4पीएम न्यूज़ नेटवर्क
नई दिल्ली। विश्व बैंक ने भारत में शिक्षा के स्तर को लेकर बड़ा खुलासा किया है। रिपोर्ट में कहा गया है कि कक्षा तीन में पढऩे वाले 75 फीसदी छात्रों को दो अंकों का घटाना नहीं आता है। विश्व के 12 देशों में किए गए सर्वे में भारत का स्थान दूसरे नंबर पर है। इतना ही नहीं रिपोर्ट के मुताबिक भारत में दूसरी कक्षा के छात्र एक छोटे से पाठ का एक शब्द भी नहीं पढ़ पाते हैं। विश्व बैंक के अनुसार, 12 देशों की इस सूची में मलावी पहले स्थान पर है। भारत समेत निम्न और मध्यम आय वाले देशों में अपने अध्ययन के नतीजों का हवाला देते हुए विश्व बैंक ने कहा कि बिना ज्ञान के शिक्षा देना न केवल विकास के अवसर को बर्बाद करना है बल्कि दुनियाभर में बच्चों और युवा लोगों के साथ बड़ा अन्याय भी है। रिपोर्ट के मुताबिक, भारत उन 12 देशों की सूची में मलावी के बाद दूसरे नंबर पर है जहां दूसरी कक्षा का छात्र एक छोटे से पाठ का एक शब्द भी नहीं पढ़ पाता। इस रिपोर्ट में वैश्विक शिक्षा में ‘ज्ञान के संकट’ की चेतावनी दी गई है। 

Pin It