तेज रफ्तार बस ने छात्र को रौंदा, मौत

सुबह घर से स्कूल जाने के लिए निकला था छात्र तभी बस ने मारी टक्कर
रिश्तेदार के घर रहकर पढ़ाई कर रहा था छात्र

4पीएम न्यूज़ नेटवर्क
लखनऊ। राजधानी के सरोजनीनगर थाना क्षेत्र में आज सुबह एक तेज रफ्तार बस ने सात साल के मासूम छात्र को कुचल दिया। छात्र की तत्काल मौत हो गई। वहीं हादसे के बाद बस लेकर भाग रहे ड्राइवर को राहगीरों ने दौड़ाकर पकड़ लिया और पुलिस को घटना की सूचना दी। सूचना मिलने पर पहुंची पुलिस ने मासूम के शव को कब्जे में लेकर पोस्टमार्टम के लिए भेज दिया। गाड़ी और ड्राइवर पुलिस कस्टडी में हैं।
प्राप्त जानकारी के मुताबिक आज सुबह 32वीं वाहिनी पीएसी के निकट कानपुर की तरफ से आ रही तेज रफ्तार बस (यूपी 75 एटी 3738) की चपेट में सात वर्षीय मासूम अमर आ गया। वह घर से स्कूल जाने के लिए निकला था इसी बीच बस ने उसको अपनी चपेट में ले लिया। इस घटना के बाद बस चालक भागने लगा लेकिन राहगीरों ने उसे दौड़ाकर पकड़ लिया। वहीं घटना की सूचना पुलिस को दी गई। सरोजनीनगर थाना प्रभारी धर्मेश शाही के मुताबिक घटना में बच्चे की मौत हो गई है। ड्राइवर और गाड़ी को कब्जे में ले लिया गया है। आरोपी ड्राइवर के खिलाफ कार्रवाई की जा रही है। वहीं मासूम की मौत के बाद से उसके घर में कोहराम मचा हुआ है। मासूम का परिवार मूल रूप से सीतापुर जिले का रहने वाला है। छात्र अपने रिस्तेदार के घर रहकर पढ़ाई कर रहा था।

मोदी व शाह ने तय की आगामी चुनावों की रणनीति

भाजपा की राष्ट्रीय कार्यकारिणी की बैठक का दूसरा दिन

4पीएम न्यूज़ नेटवर्क
नई दिल्ली। भाजपा राष्ट्रीय कार्यकारिणी की बैठक में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष अमित शाह ने आगामी चुनावों को लेकर पार्टी की नीतियों और निर्देशों का निर्धारण किया। इस बैठक में मूल रूप से मिशन-2019 को ध्यान में रखकर रणनीति बनाई जा रही है। वहीं रणनीति के हिसाब से पार्टी के पदाधिकारियों और सरकार में शामिल मंत्रियों एवं सांसदों को जिम्मेदारी सौंपने का निर्णय लिया गया है।
नई दिल्ली में हो रही बैठक में भाजपा अध्यक्ष अमित शाह, पीएम मोदी ने पार्टी पदाधिकारियों, सांसदों और मंत्रियों को संबोधित किया। इस दौरान 2019 के चुनाव को ध्यान में रखकर मोदी सरकार की उपलब्धियों और सरकार द्वारा किए गए काम और आगे की दशा-दिशा तय की गई। इस बैठक में पीएम नरेंद्र मोदी के अलावा भाजपा अध्यक्ष अमित शाह, लालकृष्ण आडवाणी, राजनाथ सिंह, अरुण जेटली भी शामिल हुए।
गौरतलब है कि इस बैठक के पहले दिन भाजपा अध्यक्ष अमित शाह ने राष्ट्रीय पदाधिकारियों की बैठक में पार्टी के प्रदर्शन का लेखा-जोखा रखा था। भाजपा के अन्य राज्यों में भी प्रचार-प्रसार के लिए एजेंडा और रणनीति तैयार की गई है। भाजपा की दो दिवसीय राष्ट्रीय पदाधिकारियों की बैठक के बाद शाह ने पदाधिकारियों, राज्यों के प्रमुखों और संगठन के नेताओं से प्रस्तावों समेत बातचीत का एजेंडा तय करने को कहा है।

वरिष्ठ छायाकार संजय त्रिपाठी के निधन से पत्रकारिता जगत में शोक की लहर

पत्रकार संगठनों ने असामयिक निधन पर जताया दु:ख
वरिष्ठ छायाकार के परिजनों को 25 लाख रुपये की आर्थिक सहायता देने की मांग

4पीएम न्यूज़ नेटवर्क
लखनऊ। पत्रकारिता जगत की जानी-मानी हस्ती संजय त्रिपाठी का आज तडक़े दिल का दौरा पडऩे से निधन हो गया। वह 56 साल के थे। उनके असामयिक निधन से पत्रकारिता जगत में शोक की लहर दौड़ गई है। विभिन्न पत्रकार संगठनों ने संजय त्रिपाठी की मौत पर दु:ख व्यक्त करने के साथ ही उनके परिजनों को 25 लाख रुपये की आर्थिक सहायता दिलाने की मुख्यमंत्री से मांग की है।
संजय त्रिपाठी के पुत्र और छायाकार शुभम त्रिपाठी ने बताया कि आज तडक़े तीन बजे के करीब उन्होंने सीने में चुभन और उलझन महसूस होने की शिकायत की। इसके बाद बाथरूम जाने के लिए बिस्तर से उठे लेकिन बीच में ही असहज होकर बैठ गये। इसलिए उन्हें तत्काल केजीएमयू ले जाया गया। जहां चिकित्सकों ने कुछ देर इलाज करने और जांच के बाद उन्हें मृत घोषित कर दिया। संजय त्रिपाठी अपने सरल स्वभाव, हंसमुख व्यवहार और मस्तमौला छवि के लिए लोगों के बीच काफी लोकप्रिय थे। इसलिए उनके असमय जाने से लोग काफी दु:खी हैं। उत्तर प्रदेश राज्य मान्यता प्राप्त संवाददाता समिति, मीडिया फोटोग्राफर्स क्लब, लखनऊ यूथ जर्नलिस्ट एसोसिएशन और टाइपा समेत विभिन्न पत्रकार संगठनों ने संजय त्रिपाठी के निधन पर दु:ख व्यक्त किया है। वहीं मुख्यमंत्री को पत्र लिखकर पीडि़त परिवार को पूर्व की सरकारों की भांति 25 लाख रुपये की आर्थिक मदद दिलाने की मांग की गई है। संजय त्रिपाठी का अंतिम संस्कार दोपहर बाद बैकुंठधाम में किया जायेगा।

केजीएमयू में महंगा हो सकता है खून

4पीएम न्यूज़ नेटवर्क
लखनऊ। केजीएमयू प्रशासन ने खून की कीमत बढ़ाने की कवायद शुरू कर दी है। खून का शुल्क 50 प्रतिशत तक बढ़ाया जा सकता है। इसका प्रस्ताव ब्लड एंड ट्रांसफ्यूजन मेडिसिन विभाग ने भेज दिया है। केजीएमयू में 4500 बेड हैं। रोजाना 200 से 250 यूनिट खून की आपूर्ति हो रही है। 80 से 90 फीसदी खून सप्लाई ट्रॉमा सेंटर और जनरल वार्ड में भर्ती मरीजों के लिए हो रही है। जनरल वार्ड में 400 रुपये की एक यूनिट खून की आपूर्ति दी जा रही है।
डॉक्टरों का कहना है कि केजीएमयू में सभी मरीजों को न्यूक्लिक एसिड टेस्ट (नेट) से जांचा-परखा खून प्रदान किया जा रहा है, लेकिन नेट जांच पर संकट गहरा गया है। बजट न मिलने से यह स्थिति पैदा हुई है। बजट की कमी से जांच पर खतरा मंडरा रहा है। डॉक्टरों का कहना है कि सुरक्षित खून मरीजों को उपलब्ध कराने के लिए नेट जांच शुरू की गई है। सरकार से बजट न मिलने की दशा में खून की दर बढ़ाना ही विकल्प बचता है।

 

विजय माल्या ने शेल कंपनियों में डायवर्ट किया छह हजार करोड़ का लोन

4पीएम न्यूज़ नेटवर्क
नई दिल्ली। भगोड़े शराब कारोबारी विजय माल्या को ब्रिटेन से जल्दी से प्रत्यपर्ण कराने के लिए सरकार ने नकेल कसना शुरू कर दिया है। इस बीच सीबीआई और ईडी ने खुलासा किया है कि माल्या ने किंगफिशर एयरलाइंस के लिए बैंकों से लिए गए 6 हजार करोड़ से अधिक के लोन को विदेश में स्थित शेल कंपनियों में डायवर्ट किया था। यह कंपनियां यूएस, यूके,फ्रांस, आयरलैंड में स्थित हैं जिनके बारे में जानकारी मांगी गई है।

पटाखा फैक्ट्री में आग, 9 लोगों की मौत, 25 घायल 

4पीएम न्यूज़ नेटवर्क
रांची। झारखंड के पूर्वी सिंहभूम जिले के बड़शोल थाना क्षेत्र के कुमार डूबी गांव में अवैध रूप से चल रही पटाखा फैक्ट्री में लगी आग से मरने वालों की संख्या नौ हो गई है। आग की चपेट में आकर करीब 12 घर खाक हो गए। फैक्ट्री में रह-रहकर अभी भी विस्फोट हो रहा है। जबकि 25 से अधिक लोग घायल बताये जा रहे हैं। बचाव के लिए एनडीआरएफ की टीम मौके पर पहुंच गई है। बचाव का कार्य जोरों पर चल रहा है।
एसएसपी अनूप टी मैथ्यू ने बताया कि आग ने काफी भयावह रूप ले लिया था। इसलिए उसको बुझाने में काफी समय लग रहा है। वहीं पटाखा फैक्ट्री में अभी भी समय-समय पर विस्फोट हो रहा है। इसलिए आस-पास रहने वालों को सुरक्षित स्थान पर ले जाया जा रहा है। जबकि आगजनी में 12 से अधिक घरों के जलने और नौ लोगों के मरने की बात सामने आई है। उन्होंने बताया कि आग दूर तक फैलने का सबसे बड़ा कारण आस-पास के घरों में रखा गैस सिलेंडर था, जिसकी वजह से आग फैलती चली गई। वहीं बड़शोल के थाना प्रभारी विनोद पासवान ने बताया कि क्षेत्र में अवैध रूप से पटाखा बनाने का कार्य चल रहा था। जो भी अवैध रूप से पटाखा बनाने के कार्य से जुड़े हैं, उनके खिलाफ कड़ी कार्रवाई की जाएगी। इस क्षेत्र में किसी को पटाखे बनाने का लाइसेंस नहीं मिला है।

Pin It