केजीएमयू में ब्लड की नेट जांच पर गहराया संकट

बजट के अभाव में उधार की किट से हो रही जांच

4पीएम न्यूज़ नेटवर्क
लखनऊ। किंग जार्ज चिकित्सा विश्वविद्यालय के ब्लड बैक में न्यूक्लिक ऐसिड टेस्ट (नेट) की जांच पर संकट गहरा गया है। नेट के किट का बजट न होने पर उधार की किट से मरीजों की जांच की जा रही है। बताया जाता है कि हर तरफ से हताश ब्लड बैंक को अब नेशनल हेल्थ मिशन के जल्द बजट देने का आश्वासन दिया है।
केजीएमयू के ब्लड बैंक में नेट की जांच किया गया ब्लड मरीजों को दिया जाता है। इस जांच से ब्लड में एचआईवी, हेपेटाइटिस सी सहित सूक्ष्म से सूक्ष्म बीमारियां भी पकड़ में आ जाती है। केजीएमयू के मरीजों को मात्र चार सौ रुपये लेकर एक हजार रुपये तक में ब्लड दिया जाता है। यहां बीपीएल व मानक के अनुसार अन्य मरीजों को भी ब्लड बिना डोनर के दिया जाता है लेकिन अब नेट जांच पर संकट के बादल गहराने लगे है। यहां पर नेट जांच के लिए केजीएमयू बजट उपलब्ध कराने में असमर्थ है। इसके अलावा अन्य जगह से भी अभी बजट नहीं मिल पा रहा है, इस कारण नेट की जांच के लिए आने वाली किट उधार ली जा रही है। उधार का खाता भी लगभग तीन लाख रुपये के ऊपर पहुंच गया है। बताया जाता है कि काफी प्रयास के बाद नेशनल हेल्थ मिशन ने जल्द ही बजट दिये जाने का आश्वासन दिया है। ब्लड बैंक प्रभारी डा. तूलिका चंद्रा ने बताया कि लगातार कोशिश की जा रही है कि बजट आ जाए। नेशनल हेल्थ मिशन ने जल्द ही बजट दिये जाने आश्वासन दिया गया है। अभी किसी भी तरह से नेट जांच में कोई दिक्कत न आये इसकी कोशिश की जा
रही है।

बलरामपुर में दस बेड का पेइंग वार्ड शुरू

बलरामपुर अस्पताल में दस बेड का पेइंग वार्ड शुरू किया गया है। सुपर स्पेशिलिटी वार्ड के तीनों फ्लोर पर मरीज व तीमारदारों के लिए पेइंग बेड की सुविधा मिलेगी। इसके लिए मरीज को 68 रुपये प्रतिदिन के हिसाब से देने होंगे।

Pin It