सीएम योगी के खौफ से प्रदेश छोडक़र भागने लगे बदमाश

ताबड़तोड़ एनकाउंटर और धरपकड़ से अपराधियों में दहशत

4पीएम न्यूज़ नेटवर्क
लखनऊ। उत्तर प्रदेश की खराब कानून-व्यवस्था के आरोपों से मुक्त होने के लिए मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ को कड़ा संघर्ष करना पड़ रहा है। प्रदेश के मुखिया का पद संभालने के करीब चार महीने बाद उनकी पुलिस ने गोली का जवाब गोली से देना शुरु कर दिया है। अब प्रदेश में रोज कहीं न कहीं एनकाउंटर में या तो बदमाश मारे जा रहे हैं या तो गिरफ्तार हो रहे हैं। बदमाशों के अन्दर योगी की हनक का आलम यह है कि बदमाशों ने अब यूपी छोडक़र दूसरे राज्यों में शरण लेना शुरू कर दिया है।
यूपी के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने कहा कि उनकी सरकार में अपराध को रोकने के लिए पुलिस को खुली छूट दी गई है। यही वजह है कि अब इसका असर दिखने लगा है और अपराधियों में दहशत का माहौल है। हाल ही के दिनों में हुए ताबड़तोड़ एनकाउंटर के मुद्दे पर उन्होंने कहा कि पिछली सरकारों में पुलिस का मनोबल गिरा हुआ था। अपराधी बेलगाम हो गए थे, लेकिन मेरी सरकार में पुलिस का मनोबल ऊंचा किया गया है। उन्होंने कहा कि पिछली सरकारों में पुलिस वाले मारे जा रहे थे, लेकिन आज पुलिस गोली का जवाब गोली से दे रही है। इससे अब अपराधियों में दहशत का माहौल है।

दोषियों को छोड़ेंगे नहीं

आंकड़ों पर गौर करें तो प्रदेश में पिछले छह महीने में पुलिस ने मुठभेड़ में लगभग डेढ़ दर्जन इनामी अपराधियों को मार गिराया। 84 अपराधी गोली लगने से घायल हो गये। यह पुलिस को खुली छूट का ही नतीजा है कि अब तक 868 कुख्यात अपराधी सलाखों के पीछे हैं। मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने साफ कहा है कि निर्दोषों को छेड़ेंगे नहीं और दोषियों को छोड़ेंगे नहीं। उनके इसी निर्देश पर कार्रवाई करते हुए यूपी पुलिस अपराधियों पर कहर बनकर टूटी है। दरअसल मुख्यमंत्री ने डीजीपी को साफ निर्देश दिया था कि अपराधियों के खिलाफ विशेष अभियान चलाकर उन्हें सलाखों के पीछे भेजा जाए। इसी निर्देश के बाद पुलिस हरकत में आई और अपराधियों के खिलाफ कार्रवाई शुरू हुई। लगातार हो रही मुठभेड़ और धड़पकड़ की कार्रवाई से अपराधियों के हौसले पस्त हो गए हैं।
दरअसल योगी सरकार ने 19 मार्च को शपथ ली थी। अगर हम 20 मार्च से 15 सितम्बर तक के आंकड़ों पर नजर डालें तो अपराधियों के साथ पुलिस की कुल 420 मुठभेड़ हुई है। इस दौरान 15 बदमाश मारे गये और 88 पुलिसकर्मी घायल हुए। करीब 6 माह में 1106 अपराधी गिरफ्तार किए गए जिनमें 868 कुख्यात अपराधी हैं। इनकी गिरफ्तारी के लिए पुलिस ने इनाम रखा था। अभी 54 अपराधियों पर रासुका और 69 पर गैंगेस्टर एक्ट के तहत कार्रवाई की गई है।

छह महीने में नहीं हुआ एक भी दंगा
सीएम योगी ने कहा कि जिस प्रदेश में पांच वर्ष में 450 से ज्यादा दंगे हुए। उस प्रदेश में 6 महीनों में कोई दंगा नहीं हुआ। सहारनपुर में कुछ तनाव था, लेकिन दंगा नहीं था। सरकार की कार्रवाई चल रही है। प्रशासन को कहा गया है, आम जनता के साथ संवेदनशील रहिए। जो कानून का सम्मान करे, कानून उसका सम्मान करे। अपराधी और गुंडों से कड़ाई से निपटा जाए। अपराधी गोली चलाएगा तो गोली का जवाब पुलिस गोली से देगी। पुलिस के जवान अच्छा काम कर रहे हैं।

Pin It