4पीएम ने छापी खबर तो आईएएस के भाई केे खिलाफ यातायात पुलिस ने की कार्रवाई, उठा ले गई सडक़ पर खड़ी कारों को

टोयोटा शो रूम केबाहर खड़ी थी कई कारें बाद में जुर्माना वसूल कर छोड़े वाहन
अभियान रोकने के लिए अफसरों के पास आते रहे रसूखदारों के फोन

4पीएम न्यूज़ नेटवर्क

लखनऊ। हजरतगंज स्थित शाहनजफ रोड पर दबंगई दिखा कर सडक़ पर कार बाजार सजाने वाले आईएएस के भाई की खबर जैसे ही 4पीएम में छपी तो यातायात विभाग से लेकर शासन में बैठे आला अफसरों तक में हडक़म्प मच गया। यातायात पुलिस ने आनन-फानन में शनिवार को मौके पर अभियान चलाया और टोयोटा शो रूम के बाहर सडक़ पर खड़ी कई कारों को जब्त कर लिया। इस दौरान अभियान को रोकने के लिए अधिकारियों के पास रसूखदारों के फोन आते रहे। बाद में जुर्माना भरने के बाद इन वाहनों को छोड़ दिया गया।
शुक्रवार को 4पीएम में ‘आईएएस के भाई की दबंगई,शाहनजफ रोड पर ही सजा दिया कार बाजार’ शीर्षक से छपी खबर के बाद यातायात पुलिस हरकत में आई। शनिवार को शाहनजफ रोड स्थित टोयोटा-शो रूम के बाहर लगे कार बाजार के खिलाफ यातायात पुलिस ने अभियान चलाया। क्रेन से गाडिय़ों को उठाया गया। इस बीच शो-रूम के कर्मचारियों को कारें सडक़ से हटानी पड़ीं। हजरतगंज स्थित शाहनजफ रोड पर लम्बे समय से सडक़ पर लगाए जा रहे इस कार बाजार से यातायात व्यवस्था ध्वस्त हो गई थी। इस सडक़ पर आईएएस के भाई का शो रूम संचालित है। टोयोटा के इस शो-रूम पर वाहनों को बिक्री के लिए फुटपाथ से लेकर सडक़ तक खड़ा किया जाता रहा है।

सीएम योगी समेत सभी नव निर्वाचित रूरुष्ट ने ली पद की शपथ

विधान परिषद के सभापति रमेश यादव ने दिलाई शपथ

4पीएम न्यूज़ नेटवर्क

लखनऊ। यूपी के सीएम योगी आदित्यनाथ सहित नव निर्वाचित सभी पांचों सदस्यों ने विधान भवन के तिलक हॉल में आज विधान परिषद की सदस्यता ग्रहण कर ली। इनमें सीएम योगी आदित्यनाथ समेत डिप्टी सीएम केशव प्रसाद मौर्य, डा.दिनेश शर्मा, परिवहन राज्य मंत्री (स्वतंत्र प्रभार) स्वतंत्र देव सिंह और अल्पसंख्यक कल्याण राज्य मंत्री मोहसिन रजा शामिल हैं।
आज सुबह 11 बजे विधान भवन के तिलक हाल में शपथ ग्रहण सामरोह आयोजित किया गया। सबसे पहले यूपी के सीएम योगी आदित्यनाथ को विधान परिषद के सभापति रमेश यादव ने शपथ दिलाई। उसके बाद बाकी नव-निवार्चित सदस्यों ने शपथ ली। शपथ ग्रहण समारोह में विधानसभा अध्यक्ष हृदय नारायण दीक्षित और संसदीय कार्य मंत्री सुरेश खन्ना भी मौजूद रहे।

शपथ लेने में हड़बड़ाए मोहसिन
विधान परिषद की सदस्यता के लिए मोहसिन रजा शपथ लेते समय हड़बड़ा गए। शपथ लेते समय दो बार गलती करने पर सुरेश खन्ना ने उन्हें टोका। उन्होंने विधान परिषद की जगह विधानसभा कह दिया था। इस पर केशव मौर्य ने चुटकी लेते हुए कहा कि उन्हें ट्रेनिंग लेनी चाहिए।

माया ने कहा बीजेपी ने षड्यंत्र कर बीएसपी को पहुंचाया नुकसान

खोयी जमीन वापस पाने के लिए जुटी बसपा सुप्रीमो
मेरठ, मुरादाबाद और सहारनपुर मंडल के कार्यकर्ताओं का सम्मेलन

4पीएम न्यूज़ नेटवर्क
लखनऊ। बसपा सुप्रीमो मायावती ने राज्यसभा इस्तीफे के बाद आज मेरठ में एक रैली को संबोधित करते हुए कहा कि बीजेपी तरह-तरह के हथकंडे अपना रही है। वह आरएसएस और हिंदुत्व के एजेंडे पर चल रही है। बीजेपी ने षड्यंत्र के तहत ईवीएम में गड़बड़ी कर बीएसपी को नुकसान पहुंचाया है। इसके विरोध में हमारी पार्टी ने देशभर में प्रदर्शन किया। इस मामले को लेकर बीएसपी को सुप्रीम कोर्ट जाना पड़ा। मायावती ने बीजेपी पर षड्यंत्र के तहत सहारनपुर में दंगा कराने का आरोप भी लगाया। उन्होंने कहा कि महाराणा प्रताप जयंती पर दंगा कराया गया और सहारनपुर कांड पर सदन में बोलने नहीं दिया गया। इसलिए मैंने राज्यसभा से इस्तीफा दे दिया।
मेरठ के सुभारती मेडिकल कॉलेज के सामने मैदान में आयोजित रैली में बसपा सुप्रीमो मायावती ने जमकर भाजपा पर निशाना साधा। इस रैली में मेरठ, सहारनपुर और मुरादाबाद मंडल के कार्यकर्ता शामिल हुए। इस रैली के माध्यम से बीएसपी विरोधी दलों को अपनी ताकत का एहसास कराने के साथ-साथ खिसकते जानाधार की बात करने वालों को भी मुंहतोड़ जवाब देना चाहती हैं। मायावती ने कहा बीएसपी के नेता हालात देखकर अपनी बात रखते हैं। बीएसपी दुखी, पीडि़त कमजोर वर्गों के लिए लड़ रही है। उन्होंने कहा कि पिछड़े वर्ग को आरक्षण दिलाने के लिए बीएसपी ने दबाव बनाया। रैली स्थल पर मेरठ, सहानरपुर और मुरादाबाद मंडल के वर्करों के बैठने के लिए 3 अलग-अलग ब्लॉक बनाए गए हैं, ताकि यह पता रहे कि किस मंडल से कितनी भीड़ आई। महिलाओं के बैठने के लिए मंच के बिल्कुल सामने जगह बनाई गई।

राज्यसभा इस्तीफे के बाद माया की पहली रैली
पिछले दिनों पश्चिमी उत्तर प्रदेश के सहारनपुर के शब्बीरपुर में हुई दलित और राजपूत के बीच हिंसा हुई थी। मायावती इस मुद्दे पर राज्यसभा में बोलना चाहती थीं, लेकिन उन्हें बोलने का मौका नहीं दिया गया था। मायावती को ये बात इतनी नागवार गुजरी कि उन्होंने राज्यसभा के सदस्य पद से ही इस्तीफा दे दिया था। इसके बाद उन्होंने रैलियों के जरिए दलित उत्पीडऩ की बात उठाना चाहती हैं। मायावती ने यूपी के सभी मंडलों में हर महीने की 18 तारीख को रैली करने का ऐलान किया था। इसी कड़ी में सोमवार को पहली रैली मेरठ में हो रही है।

Pin It