आवास आयुक्त को नहीं है होश, घटिया निर्माण से नंदिनी एंक्लेव के फ्लैटों में पड़ रही हैं दरारें

कमिश्नर के दुलारे ठेकेदार का कारनामा, लोगों को मिले नहीं फ्लैट मगर पड़ गईं दरारें
तमाम शिकायतों के बावजूद अभी तक आवास आयुक्त ने नहीं किया मौके का निरीक्षण और न ही की कोई कार्रवाई
अफसरों व बिल्डरों की मिलीभगत से निर्माण में इस्तेमाल की जा रही घटिया सामग्री
रंग-रोगन कर घटिया निर्माण पर डाला जा रहा है पर्दा करोड़ों की कमीशनखोरी के चक्कर में चल रहा है खुला खेल

4पीएम न्यूज़ नेटवर्क
लखनऊ। उत्तर प्रदेश आवास एवं विकास परिषद के अवध विहार योजना में घटिया निर्माण का खेल चल रहा है। लिहाजा यहां की निर्माणाधीन इमारतों की बुनियादें अभी से दरकने लगी हैं। नंदिनी एंक्लेव के फ्लैटों में दरारें पड़ चुकी हैं और प्लास्टर उखडऩे लगा है। करोड़ों की कमीशनखोरी के चक्कर में यह सारा खेल परिषद के अफसरों की सरपरस्ती में चल रहा है। यही नहीं अभी तक फ्लैट भी बनकर तैयार नहीं हो सके हैं। इस तरह बिल्डर और अफसर मिलकर आवंटियों को चूना लगा रहे हैं। सूत्रों के मुताबिक ठेकेदार कमिश्नर का चहेता है। वहीं तमाम शिकायतों के बावजूद आवास विकास आयुक्त धीरज साहू ने इस मामले में अभी तक कोई कार्रवाई नहीं की है।
उत्तर प्रदेश आवास एवं विकास परिषद के आवासी योजनाओं में घटिया निर्माण का खेल नया नहीं है। सरकार बदलने के बावजूद इसकी कार्र्यप्रणाली में कोई तब्दीली नहीं आई है। हालांकि परिषद में ईमानदार अफसर तैनात किए जाने के दावे किए जा रहे हैं, लेकिन आवासीय योजनाओं में घटिया निर्माण को देख कर ये दावे पूरी तरह खोखले नजर आ रहे हैं। परिषद के रजिस्टर्ड बिल्डर्स आवंटियों के लिए बनाए जा रहे फ्लैटों में घटिया निर्माण कर रहे हैं।
सुल्तानपुर रोड स्थित आवास एवं विकास परिषद की अवध विहार योजना में परिषद के रजिस्ट्रर्स बिल्डरों द्वारा आवासीय योजनाओं का निर्माण कार्य कराया जा रहा है। इस निर्माण कार्य की गुणवत्ता का अंदाजा निर्माणाधीन फ्लैटों को देख कर लगाया जा सकता है। दिखावे के लिए फ्लैटों के ऊपर रंगरोगन कर चमका दिया गया है, लेकिन मजबूती के नाम पर मामला संदिग्ध दिख रहा है। नंदिनी एंक्लेव में बनाये जा रहे टूबीएचके फ्लैटों की बात करें तो यहां फ्लैटों के निर्माण में घटिया निर्माण सामग्री का प्रयोग किया जा रहा है। निर्माणाधीन योजना में बने फ्लैटों के बुनियादी पिलर में पड़ी दरारें और गिरता प्लास्टर इसकी पुष्टिï कर रहा है। वहीं मौके पर मौजूद बिल्डर के लोगों का कहना है कि जब बिल्डिंगों की पेंटिंग होगी तो उस दौरान दरारे भरने का काम किया जाएगा। बिल्डर के लोगों का दावा है कि पेंटिंग के बाद ऐसी दरार बिल्डिंग में नहीं पड़ेगी।
घटिया निर्माण का यह खेल तब खेला जा रहा है जब योजना से कुछ दूरी पर वृंदावन स्थित आवास विकास का खंड कार्यालय है। परिषद के अभियंता लगातार साइट के निरीक्षण के दावे कर रहे हैं। ऐसे में अन्य जिलों में परिषद की योजनाओं में किए जा रहे घटिया निर्माण का अंदाजा लगाया जा सकता है, लेकिन परिषद के अफसर इन ओर जरा भी ध्यान नहीं दे रहे हैं। तमाम शिकायतों के बावजूद आवास आयुक्त धीरज साहू ने अभी तक मौके का निरीक्षण नहीं किया है। घटिया निर्माण की जांच कब होगी इसका जवाब किसी के पास नहीं है।

आवंटियों को करना होगा इंतजार

इस योजना को देख रहे अधिशासी अभियंता ज्ञानेश्वर प्रसाद का कहना है कि अवध विहार आवासीय योजना में बनाए जा रहे नन्दिनी एन्कलेव का निर्माण कार्य अक्टूबर 2013 में शुरू कराया गया था। कंपनी द्वारा यह प्रोजेक्ट 30 माह में पूरा किया जाना था, लेकिन निर्माण कार्य पूरा न होने पर इसकी अवधि बढ़ा दी गई है। जानकारी के मुताबिक योजना में कुल 504 फ्लैट तैयार किए जा रहे हैं। आवंटियों को जून 2017 तक कब्जा दिया जाना था लेकिन निर्माण कार्य देख कर ऐसा लग रहा है कि आवंटियों को अभी छह माह और इंतजार करना होगा।

मामला संज्ञान में नहीं है। योजना का निरीक्षण कराया जाएगा। यदि ऐसा पाया गया तो दोषी के खिलाफ सख्त कार्रवाई की जाएगी।
-धीरज साहू आवास आयुक्त

Pin It