बच्चों को ‘विद्या’ का महत्व सिखा गईं विद्या बालन

Capture

राजधानी में मोहनलालगंज क्षेत्र के गोपाल खेड़ा में ‘पाठशाला फनवाला’ कार्यक्रम के दौरान माध्यमिक स्कूल की छात्राओं को फिल्म अभिनेत्री विद्या बालन ने पढ़ाई की अहमियत के बारे में बताया। उन्होंने कहा कि बचपन से पापा ने यही सिखाया है कि पढ़ाई करने से सब कुछ मिलता है। इसलिए पहले खुद सीखा अब आगे बच्चों को सिखा रही हूं। अभिनेत्री विद्या बालन कहती हैं कि अगर कोई आपको सामने खड़े होकर सुने और उसे आत्मसात कर ले तो इससे बड़ी कोई सफलता नहीं। अभिनय के साथ ऐसी पहल सफलता का अहसास कराती है। निजी जिंदगी से जुड़े ऐसे ही कुछ खास अनुभव विद्या बालन ने साझा किए।
विद्या बालन ने पत्रकारों से बातचीत में कहा कि जीवन की सबसे जरूरी चीज शिक्षा है । बहुत से लोग खासतौर पर गांव के लोग इस बात को नहीं समझते और न ही उन्हें कोई समझाने वाला होता है। मुझे लगा कि अगर उनको मैं ‘विद्या’ का महत्व समझा सकूं तो ये किसी पूजा से कम नहीं है। उन्होंने कहा कि मेरा नाम विद्या है और मैं अपने नाम को सार्थक करना चाहती हूं। शायद अगर एक्टिंग न कर रही होती तो बच्चों को शिक्षित ही कर रही होती। घरवालों ने भी हमेशा यही कहा है कि पढ़ाई के अलावा कोई भी विकल्प हो लेकिन सिर्फ पढ़ाई को ही चुनना। शायद इसीलिए गांव को ध्यान में रखकर किसी भी पहल का हिस्सा बनती हूं। यदि बदलाव की शुरुआत भर हो जाए तो मुझे बहुत सुकून मिलता है। इस अनूठी पाठशाला में विद्या दीदी ने बच्चों को मंच पर बुलाया और अब्बू-डब्बू के साथ कुछ उदाहरण लेते हुए बच्चों को अंग्रेजी सिखाई। इसके बाद उन्होंने स्कूल की दीवार पर पाठशाला फनवाला से जुड़े स्लोगन भी लिखे।

Pin It