स्वाइन फ्लू से एक और मरीज की मौत

city-grafलखनऊ। किंग जार्ज चिकित्सा विश्वविद्यालय के ट्रामा सेंटर में स्वाइन फ्लू के इलाज में लापरवाही बरतने पर मरीज की मौत होने का आरोप परिजनों ने लगाया है। परिजनों का कहना है कि फ्लू से पीडि़त महिला पहले निजी अस्पताल में भर्ती थी। वहां पर स्वाइन फ्लू पाजिटिव आने पर उसे केजीएमयू के ट्रामा सेंटर में रेफर किया गया। परिजनों का कहना है कि महिला को ट्रामा सेंटर में काफी देर भर्ती करने के बाद गांधी वार्ड भेजा रहा था। रास्ते में उसकी मौत हो गयी। गोसाईगंज के गंगागंज निवासी 40 वर्षीय महिला को बुखार व जुकाम होने पर परिजन गोमतीनगर के निजी अस्पताल में इलाज कर रहे थे। यहां पर स्वाइन फ्लू पाजिटिव आने पर मरीज को केजीएमयू रेफर कर दिया। परिजनों का आरोप है कि ट्रामा सेंटर में भर्ती कराने के बाद काफी देर तक यह तय नहीं हो पा रहा था कि मरीज का इलाज कहां पर होगा जबकि सेंटर में स्वाइन फ्लू के मरीज के इमरजेंसी इलाज की व्यवस्था का दावा किया गया है। इसके अलावा केजीएमयू व पीजीआई से मिली रिपोर्ट के आधार पर राजधानी में 16 नये मरीज स्वाइन फ्लू के पाजिटिव मिले हैं।
दुर्घटनाओं को रोकने के लिए दयाल पैराडाइज चौराहे का बदलेगा आकार
लखनऊ। गोमती नगर स्थित दयाल पैराडाइज चौराहे पर लगातार होने वाली दुर्घटनाओं को लेेकर चौराहे के आकार में परिवर्तन किया जाएगा। चौराहे का निर्माण लखनऊ विकास प्राधिकरण द्वारा किया गया है। चौराहे का रखरखाव भी प्राधिकरण की जिम्मेदारी है। लम्बे समय से चौराहे पर हो रही दुर्घटनाओं का संज्ञान प्राधिकरण नहीं ले रहा है। जनता की सुरक्षा को देखते हुए नगर निगम ने लखनऊ विकास प्राधिकरण के उपाध्यक्ष प्रभुएन ंिसंह को पत्र भेजा है। नगर निगम ने दयाल पैराडाइज चौराहे के आकार को लेकर आपत्ति जताई है। निगम के इंजीनियरों के अनुसार चौराहे का आकार अंडाकार है। जहां पांच सडक़ों के यातायात का दबाय नियमित रहा है। चौराहे से जुड़ी सडक़ों की चौड़ाई जरूरत के अनुसार नहीं है। यही नहीं चौराहे की ऊंचाई भी दुर्घटनाओं का कारण बन रहीं है। इंजीनियरों के मुताबिक एक सडक़ से चौराहे तक जोडऩे वाले मार्ग से तीन तरफ की सडक़ नहीं दिखाई देती है। तमाम बार चौराहे पर हादसे हो चुकें हैं। नगर आयुक्त उदयराज सिंह ने एलडीए उपाध्यक्ष से चौराहे का डिजाइन बदलने के लिए पत्र भेजा है। निगम ने प्राधिकरण के अफसरों के सामने यह भी शर्त रखी है कि अगर निर्माण कार्य नहीं कराना चाहते तो नगर निगम को चौराहे के निर्माण कार्य के लिए 56 लाख का बजट दिया जाए।

Pin It