15 दिन में पांच लाख रुपये के डाक टिकट खरीदे जनता

राज्यपाल राम नाईक और संचार राज्य मंत्री स्वतंत्र प्रभार ने सम्राट विक्रमादित्य पर जारी किया टिकट
पंडित दीनदयाल उपाध्याय पर 29 को जारी होगा डाक टिकट

लखनऊ। राज्यपाल राम नाईक और संचार राज्य मंत्री स्वतंत्र प्रभार मनोज सिन्हा ने गुरुवार को राजभवन में सम्राट विक्रमादित्य पर जारी डाक टिकट और एलबम का विमोचन किया। इस अïवसर पर राज्यपाल राम नाईक ने कहा कि डाक टिकट में हमारा इतिहास छिपा होता है। यह टिकट इतिहास को आज से जोडऩे का काम भी करते हैं। सही मायने में गुड गवर्नेंस का पहला उदाहरण सम्राट विक्रमादित्य ने पेश किया था। उनके सुशासन को आगे चलकर अकबर ने और फिर उसी तरह छत्रपति शिवाजी ने अपनाया। राज्यपाल ने शहरवासियों से नोटबंदी के दौर में भी 15 दिनों के भीतर पांच लाख रुपये के टिकट खरीदने का आह्वïान किया।
इस कार्यक्रम में संचार राज्य मंत्री मनोज सिन्हा ने कहा कि जिस सम्राट विक्रमादित्य के प्रयासों से बनाए विक्रम संवत कैलेंडर को आज भी नासा और विकसित देश बहुत प्रमाणिक मानते हैं। ऐसे महापुरुष पर हर भारतीय को गर्व होना चाहिए। कुछ लोग देश की इन महान विभूतियों को समाज के खास वर्ग से जोड़ते हैं। हमें महान विभूतियों को खास वर्ग से जोडऩे की प्रवृत्ति छोडऩी होगी। महापुरुष देश की अमूल्य धरोहर होते हैं। सम्राट विक्रमादित्य ने केवल सख्त शासन ही नहीं किया, खगोल विज्ञान, सांस्कृतिक और चिकित्सा के क्षेत्र में शोध संस्थान भी स्थापित किये। संविधान की प्रस्तावना में भी विक्रम संवत का जिक्र आया है। भावी पीढ़ी को ऐसे महापुरुष से प्रेरणा लेना चाहिए। संचार मंत्री ने कहा कि 29 दिसंबर को पंडित दीन दयाल उपाध्याय पर एक डाक टिकट जारी होगा।

Pin It