11 बैगों के साथ जेट से उड़े थे विजय माल्या

  • करीब एक घंटे तक रहे महिला के साथ एयरपोर्ट के लाउंज में, विमान में महिला रही साथ
  • 9 हजार करोड़ रुपए से ज्यादा है बैंकों का बकाया

Captureनई दिल्ली। बैंकों के नौ हजार करोड़ रुपये के कर्जदार विजय माल्या जेट एयरवेज से दिल्ली से लंदन उड़ गए। दो मार्च की दोपहर सवा एक बजे के बोइंग 777-300 के फस्र्ट क्लास में 11 बैगों के साथ माल्या एक महिला के साथ विमान में सवार थे। हालांकि आज माल्या ने अपनी सफाई में कुछ ट्वीट किए। ट्वीट में लिखा, मैं इंटरनेशनल बिजनेसमैन हूं, भगोड़ा नहीं। मेरा मीडिया ट्रायल न करें। ऐसे में सवाल यह है कि जब इतनी साफगोई थी तो अचानक देश से बाहर क्यों चले गये। माल्या जब दिल्ली एयरपोर्ट से लंदन के लिए 2 मार्च को निकले तो उनके साथ एक महिला भी थी। वे एक घंटे तक एयरपोर्ट पर थे। लेकिन किसी ने उन्हें रोका नहीं। माल्या ने आज सुबह 5 ट्वीट किए। इसमें कहा कि मैं इंटरनेशनल बिजनेसमैन हूं। मैं भारत से बाहर लगातार ट्रेवल करता हूं।‘मैं भारत से भागा नहीं हूं। भगोड़ा नहीं हूं। ये सब बेतुकी बातें हैं।’ अगली ट्वीट में कहा, ‘एक भारतीय सांसद होने के नाते मैं कानून का पूरा सम्मान करता हूं। हमारा ज्यूडिशियल सिस्टम काफी मजबूत और सम्मनित है। मीडिया मेरा ट्रायल न करे।’
‘मीडिया बॉसेस ये ना भूलें कि मैंने कई साल उनकी मदद की है। ये सब डॉक्यूमेंटेड है। अब वे टीआरपी हासिल करने के लिए झूठ बोल रहे हैं।’ इन ट्वीट में माल्या मीडिया को गिरफ्त में लेते भी दिखाई दिए।
माल्या की एक दूसरी ट्वीट में कहा गया, ‘न्यूज रिपोर्ट्स में कहा गया है कि मुझे मेरी असेट्स डिक्लेयर करनी चाहिए। क्या इसके ये मायने हैं कि बैंकों को मेरी असेट्स के बारे में नहीं पता या किसी ने मेरा संसद में दिया गया हलफनामा नहीं देखा?’ फ्लाइट में बैठने से पहले वे दिल्ली के इंदिरा गांधी इंटरनेशनल एयरपोर्ट के टी-3 टर्मिनल के प्रीमियम प्लाजा लाउंज में 60 मिनट तक रुके। उन्हें और उनकी महिला साथी को कॉफी और स्नैक्स दिए गए। माल्या लाउंज में काफी तनाव में नजर आ रहे थे। उन्होंने वहां झपकी लेने की कोशिश की। लेकिन कई लोग उनसे मिलने आते रहे। इस वजह से वे आराम नहीं कर पाए।
निजी विमान से उड़े माल्या
माल्या निजी विमान से लंदन उड़े थे। ऐसे में यदि कोई अपने प्राइवेट प्लेन से जा रहा हो तो एयर डिफेंस से उसे अनुमति लेनी पड़ती है। देश से बाहर ऐसे प्लेन जाएं तो एयरफोर्स और एटीसी की तरफ से सहमति दी जाती है। यह बताना पड़ता है कि कहां जा रहे हैं, कितना ईंधन है? कितने लोग हैं। इसकी प्रारंभिक जांच भी होती है कि इस उड़ान में जा रहे लोगों के खिलाफ कोई मामले तो नहीं चल रहे।
कैसे वापस होगा बैंकों का कर्ज

माल्या को बैंकों से मिला कर्ज और उस पर ब्याज सब मिलाकर करीब 9091 करोड़ रुपए वापस करने हैं। एसबीआई के 1600 करोड़, पीएनबी के 800 करोड़, आईडीबीआई के 800 करोड़ और बैंक ऑफ इंडिया के 650 करोड़ रुपए माल्या पर उधार हैं। फिलहाल तो बैंकों को यह रकम वापस मिलने की उम्मीद नहीं दिखती है। अगर बैंक किंगफिशर की मौजूदा प्रॉपर्टी की नीलामी भी करें तो उन्हें पूरी रिकवरी नहीं मिल पाएगी। ऐसे मामलों में रिकवरी मिलने की हिस्ट्री भी नहीं रही है। सबसे पड़ा सवाल बैंको पर ही है। उन्होंने क्यों कर्ज दिया? बैंक क्यों उसके फरार होने तक कोर्ट नहीं गए? सुप्रीम कोर्ट ने एक केस की सुनवाई के दौरान इस बात पर नाराजगी जताई थी कि बैंकों ने 2013-14 के बाद से 1.14 लाख करोड़ रुपए के कर्ज माफ कर दिए।

बैंकों का माल्या पर बकाया

  1. एसबीआई -1600
  2. पीएनबी -800
  3. आईडीबीआई -800
  4. बैंक ऑफ इंडिया – 650
  5. यूनाइटेड बैंक ऑफ इंडिया -430
  6. सेंट्रल बैंक ऑफ इंडिया -410
  7. यूको बैंक – 320
  8. कॉर्पोरेशन बैंक -310
  9. स्टेट बैंक ऑफ मैसूर -150
  10. इंडियन ओवरसीज बैंक -140
  11. फेडरल बैंक – 90
  12. पंजाब एंड सिंध बैंक -60
  13. एक्सिस बैंक -50
Pin It