सेनापति से नहीं संभल रही है पुलिस व्यवस्था

  • हिदायतों के बावजूद भी मातहत नहीं उठाते फोन
  • डीजीपी के आदेशों का हो रहा खुला उल्लंघन

 आमिर अब्बास
captureलखनऊ। प्रदेश सरकार ने काफी उम्मीदों के साथ जावीद अहमद को सूबे की कमान सौंपी थी और उन्हें डीजीपी के पद से नवाजा था। सरकार को भरोसा था कि वे पुलिस को न केवल हाईटेक बनाएंगे बल्कि नई ऊंचाई पर भी पहुंचाएंगे, लेकिन सरकार की तमाम उम्मीदों पर पानी फिरता दिख रहा है। हालात बद से बदतर होते जा रहे हैं। सूबे में अपराधी बेकाबू होते जा रहे हैं। आपराधिक घटनाओं की बाढ़ आ गई है। यही नहीं कुछ घटनाओं मेंअपराधियों ने पुलिसकर्मियों तक को अपना निशाना बनाया है। तस्वीर से साफ है कि प्रदेश की कानून व्यवस्था का क्या हाल है।
अब हम बात करते हैं प्रदेश के सेनापति जावीद अहमद के उन आदेशों और निर्देशों का जो उन्होंने मातहतों को दे रखे हैं। उन्होंने हाल में प्रदेश के सभी अधिकारियों को हिदायत दी थी कि सीयूजी नम्बर पर आने वाले प्रत्येक काल को वे रिसीव करेंगे और अगर किसी कारणवश फोन रिसीव नहीं होता है तो वो अधिकारी उस नंबर पर फोन करने वाले व्यक्ति से संपर्क करेंगे। मगर मौजूदा समय में उनके इस आदेशों की खुलेआम धज्जियां उड़ाई जा रही है । अगर हम राजधानी को उदाहरण मानते हुए बात करें तो स्थिति पूरी तरह स्पष्ट हो जाएगी। यहां पुलिस के आला अफसरों ने ही पुलिस मुखिया जावीद अहमद के निर्देशों को ठेंगा दिखा दिया है। जो न तो डीजीपी के आदेशों को कुछ समझते हैं और न ही डीजीपी को। शायद यही कारण है कि आईजी, डीआईजी व एसएसपी ने भी डीजीपी के आदेशों को नजरअंदाज करने की जैसे कसम खा ली है। इसका खुलासा तब हुआ जब डीजीपी के आदेशों को लेकर संवाददाता ने आईजी ए सतीश गणेश, डीआईजी आरकेएस राठौर और एसएसपी मंजिल सैनी को फोन किया। लेकिन किसी भी अधिकारी ने फोन रिसीव करने की जहमत नहीं उठाई। इससे एक बात तो पूरी तरह साफ हो जाती है कि डीजीपी भले ही पुलिस विभाग के मुखिया कहे जाते हों, लेकिन कोई भी अधिकारी न तो उनके आदेशों को मानना चाहते है और न ही उनके द्वारा दिए गए निर्देशों का पालन करना चाहते हैं। इससे तो यही लगता है कि अब डीजीपी से न तो प्रदेश संभल रहा है और न प्रदेश की पुलिस। अब अपराधी भी एक के बाद एक संगीन वारदातों को अंजाम देकर खुली चुनौती दे रहे हंै। लेकिन बेबस डीजीपी अखिर करे तो क्या जब उनकी ही पुलिस उनके आदेशों का पालन नही कर रही हो। डीजीपी के दिये हुए आदेशों का पालन का कौन कौन अधिकारी कर रहा है, इस सच्चाई को जानने के लिए 4पीएम के संवाददाता ने उत्तर प्रदेश के कई अफसरों को फोन किया गया लेकिन अधिकतर अधिकारी डीजीपी के आदेशों की धज्जियां उड़ाते ही दिखे।

4पीएम के रियलिटी चेक का नतीजा

जिले का नाम  पद     कॉल का समय  ये हुए फेल  किसने उठाया
लखनऊ        आईजी     12:04            फेल        किसी ने नहीं
लखनऊ        डीआईजी   12:03            फेल –
लखनऊ        एसएसपी    12:00           फेल –
आगरा          एसएसपी        1: 34          फेल –
फिरोजाबाद      एसपी           1: 36        पास                स्वयं
मथुरा            एसएसपी       1: 41          पास                स्वयं
अलीगढ़         एसएसपी        1: 44         फेल           किसी ने नहीं
इलाहाबाद       एसएसपी         1: 47         फेल            पीआरओ
बरेली             एसएसपी          1: 51          फेल –
मुरादाबाद         एसएसपी        1: 52          फेल –
गोरखपुर            एसएसपी          1: 56        फेल           किसी ने नहीं
झांसी                 एसएसपी           1: 59         फेल –
कानपुर              एसएसपी           2: 01           फेल –
फैजाबाद            एसएसपी           2: 02          फेल             पीआरओ
गौतमबुद्व नगर  एसएसपी           2: 05          फेल         किसी ने नहीं

Pin It