सूबे में एनीमिया खत्म करेगा समाजवादी नमक: अखिलेश

  • 10 जनपदों में कुपोषण मिटाने के लिए महत्वाकांक्षी योजना की शुरुआत
  • 5 साल से कम उम्र के बच्चों में कुपोषण की समाप्ति के लिए नमक वितरण

4पीएम न्यूज़ नेटवर्क

captureलखनऊ। मुख्यमंत्री अखिलेश यादव ने आज अपने आवास 5केडी पर आयोजित कार्यक्रम के दौरान डबल फोर्टीफाइड समाजवादी (डीएफएस) नमक वितरण का शुभारंभ किया। इस नमक को खाने से एनीमिया से ग्रसित लोगों को लाभ मिलेगा। नमक वितरण कार्यक्रम के प्रथम चरण में सूबे के 10 जिलों को चयनित किया गया है। इन जिलों में गरीब परिवारों और कुपोषित बच्चों की सेहत में सुधार के लिए नमक वितरित किया जायेगा।
मुख्यमंत्री अखिलेश यादव ने डीएफएस नमक वितरण योजना के तहत दर्जनों महिलाओं को नमक वितरित किया। उन्होंने खाद्य एवं रसद योजना विभाग की इस महत्वाकांक्षी योजना की प्रशंसा करते हुए कहा कि प्रदेश में कुपोषण की समस्या को दूर करना उनकी सरकार की प्राथमिकता है। प्रदेश सरकार काफी समय से कुपोषण के खिलाफ अभियान चला रही है। प्रदेश में कुपोषित बच्चों का पता लगाने और उनको पोषणयुक्त आहार बांटने का काम लगातार किया जा रहा है। इससे निश्चित तौर पर कुपोषित बच्चों की संख्या में कमी आई है। इसके साथ ही प्रदेश सरकार ने ग्रामीणों की जिंदगी को बेहतर करने के लिए अन्य कई योजनाएं भी चलाई हैं, जिसमें एक तरफ गरीब परिवारों को समाजवादी पेंशन दी जा रही है, तो दूसरी ओर उनके स्वास्थ्य और उनके परिवार की सेहत सुधारने और बच्चों को शिक्षा देने की योजनाएं शुरू की गई है। सीएम ने कहा कि एक सर्वे में प्रदेश के दस जनपदों में आयरन और आयोडीन की मात्रा कम होने की बात सामने आयी थी। इसके बाद सरकार ने कुपोषण समाप्त करने की दिशा में काम शुरू किया और कुपोषित जिलों को समाजवादी नमक देने की योजना शुरू करने का निर्णय लिया।
जिन 10 जनपदों का चयन किया गया है, उनमें सिद्धार्थनगर, सन्तकबीरनगर, फैजाबाद, मऊ, मेरठ, फर्रूखाबाद, हमीरपुर, इटावा, औरेया और मुरादाबाद हैं। गौरतलब है कि इन जनपदों में ज्यादातर लोग एनीमिया से ग्रसित हैं। 5 साल से कम उम्र के बच्चों में एनीमिया का प्रसार ज्यादा पाया गया है। ऐसे लोग यदि डबल फोर्टीफाइड नमक का सेवन करें, तो न सिर्फ छोटे बच्चे बल्कि माताओं, किशोरी बालिकाओं और गर्भवती महिलाओं को भी इससे लाभ होगा।

Pin It