सूचना एवं प्रसारण मंत्रालय ने एनडीटीवी पर लगा बैन अस्थायी रूप से हटाया

captureलखनऊ। एनडीटीवी न्यूज चैनल पर एक दिन के बैन संबंधी आदेश की चौतरफा आलोचना के बाद सरकार ने यू टर्न ले लिया है। सूचना एवं प्रसारण मंत्री वेंकैया नायडू ने चैनल पर एक दिन के बैन का फैसला अस्थाई रूप से स्थगित कर दिया है। यह फैसला सुप्रीम कोर्ट में बैन पर स्टे संबंधी याचिका पर सुनवाई के ठीक एक दिन पहले लिया गया है।
सरकार ने एनडीटीवी इंडिया पर जनवरी में पठानकोट एयरफोर्स बेस पर हुए आतंकवादी हमले के दौरान संवेदनशील जानकारी का प्रसारण करने का आरोप लगाकर 9 नवंबर को उसे एक दिन के लिए ऑफएयर रखे जाने का आदेश दिया था। एनडीटीवी ने इन आरोपों का खंडन किया और कहा था कि अन्य चैनलों तथा समाचारपत्रों ने भी वही जानकारी दिखाई गई थी। इस संबंध में सोमवार की दोपहर एनडीटीवी के प्रतिनिधियों ने सूचना और प्रसारण मंत्री से मुलाकात की। उन्होंने अपना पक्ष रखते हुए कहा कि एनडीटीवी इंडिया ने जनवरी में पठानकोट के एयरफोर्स बेस पर हमले के संबंध में संवेदनशील ब्यौरे का प्रसारण नहीं किया। साथ ही कहा कि चैनल को अपनी तरफ से साक्ष्य पेश करने का उपयुक्त मौका नहीं दिया। चैनल ने ऐसी कोई सूचना प्रसारित नहीं की जो उस वक्त बाकी चैनलों और अख़बारों से भिन्न रही हो। उसके बाद मंत्रालय ने केस की समीक्षा तक बैन को स्थगित करने का आदेश पारित किया।
उल्लेखनीय है कि पिछले हफ्ते एनडीटीवी इंडिया को 24 घंटे प्रसारण बंद रखने का आदेश दिया गया था। इस आदेश की एडिटर्स गिल्ड, ब्रॉडकास्ट एडिटर्स एसोसिएशन ऑफ इंडिया और अन्य कई पत्रकार संगठनों ने निन्दा की थी। साथ ही सोशल मीडिया पर भी एनडीटीवी पर बैन लगाये जाने को लेकर लोगों ने सरकार का विरोध जताया था। सोमवार को प्रेस क्लब ऑफ इंडिया ने सरकार के बैन संबंधी आदेश को ऐसे समय में अघोषित आपातकाल करार दिया, जब पहले से ही देश में प्रेस की स्वतंत्रता पर खतरा बढ़ रहा है।

एनडीटीवी ने जताया आभार

एनडीटीवी चैनल पर एक दिन के बैन की घोषणा के बाद जनता की तरफ से अपार जन समर्थन और सहयोग मिला। इस पर एनडीटीवी की तरफ से सबका आभार व्यक्त किया गया है। देश के हर कोने से जर्नलिस्टों की सभी एसोसिएशन ने अपने संवैधानिक अधिकारों के लिए लड़ाई में उठ खड़े होने के साथ स्पष्ट कर दिया कि केवल एनडीटीवी या किसी चैनल के लिए नहीं बल्कि वे लोकतंत्र के एक बेहद अहम स्तंभ के रूप में स्वतंत्र और जिम्मेदार मीडिया के पक्ष में खड़े हुए हैं। यह भी लिखा है कि आप दर्शकों ने जो लगातार हमारे प्रति भरोसा बनाए रखा है और पिछले 25 वर्षों में हमने अपनी रिपोर्टों के दम पर जो पुरस्कार जीते हैं, वह अनुभव बताता है कि एनडीटीवी संतुलित और जिम्मेदार पत्रकारिता के लिए प्रतिबद्ध रहा है।

Pin It