सीएम के आदेशों को हवा में उड़ा दिया एलडीए के भ्रष्टï अफसरों ने

  • सीएम ने दो बार दौरा करके अफसरों को कहा था अपार्टमेंट की पेन्टिंग और बाकी अधूरे काम को तत्काल पूरा करने के लिए
  • एल एंड टी से मिल रही रिश्वत के कारण एलडीए के अफसरों ने ताक पर रख दिए सीएम के आदेश
  • बच्चों के खेलने के मैदान में बना हुआ है खतरनाक गैस का गोदाम

capture
अंकुश जायसवाल

लखनऊ। यह बात सुनने में हैरानी भरी हो सकती है मगर है हकीकत। सीएम ने लखनऊ में सिर्फ एक सोसायटी का आकस्मिक निरीक्षण किया वो थी गोमती नगर विस्तार में सरस्वती अपार्टमेंंट। इसके बाद उन्होंने इस सोसायटी की अव्यवस्थाओं को तत्काल दूर करने के निर्देश दिए। सीएम के गुस्से की गाज आधा दर्जन लोगों पर पड़ी और वह निलंबित कर दिए गए। एक साल बाद सीएम फिर गए मगर हालात आज तक नहीं सुधरे। इस सोसायटी की पेन्टिंग तत्काल कराने के निर्देश सीएम से लेकर मुख्य सचिव तक ने दिए, मगर पेन्टिंग आज तक नहीं हो सकी।
यह काम एल एंड टी को कराना था। एल एंड टी ने औपचारिकतावश बेहद खराब क्वालिटी की पेन्टिंग शुरू कराई। सोसायटी के लोगों ने यह पेन्टिंग रुकवा दी और कहा कि एल एंड टी और एलडीए के बीच जो अनुबंध हुआ है काम उसी के अनुरूप होना चाहिए। तमाम विवादों के बावजूद जब एलडीए के अफसर एल एंड टी से मानक के अनुरूप काम नहीं करा सके तो इसकी शिकायत मुख्य सचिव से की गई। मुख्य सचिव ने तत्कालीन वीसी को बेहद नाराजगी भरा खत लिखा और कहा कि सीएम के आदेश के बाद भी पेन्टिंग कार्य न होना गंभीर बात है। एक सप्ताह में कार्य कराकर मुझे अवगत कराया जाए। दबाव देखकर यह रास्ता निकाला गया कि पेन्टिंग के पैसे एल एंड टी के मद से काटकर सोसायटी को ट्रांसफर कर दिए जाए। यह फाइल वित्त विभाग और सचिव के हस्ताक्षर के बाद जिस दिन उपाध्यक्ष तक पहुंची उसी दिन उनका तबादला हो गया। होना यह चाहिए था कि नए वीसी को तत्काल यह काम शुरू करवाना चाहिए, मगर उन्होंने वह फाइल वापस कर दी। उनके संज्ञान में भी लाया गया कि यह मुख्यमंत्री के निर्देश हैं, मगर आज तक सरस्वती अपार्टमेंंट बेहाल है। आज फिर इस बारे में पूछे जाने पर उन्होंने कहा कि जल्दी ही यहां की व्यवस्थाओं में सुधार किया जायेगा।
सरस्वती अपार्टमेंट में कई जगह दीवारों पर दरारे आ गई हैं। और जगह-जगह पाइप लीकेज के कारण सीलन दिखाई दे रही है। बॉलकनी से आ रहा पानी ग्राउंड पर फैलता है। खुद मुख्यमंत्री को इस पानी के बीच से गुजरकर सोसायटी में जाना पड़ा। पार्क में बच्चों के खेलने के मैदान में गैस का गोदाम बना दिया गया है, जिस दिन इससे गैस जायेगी और जरा भी आग कहीं लगी तो दर्जनों बच्चों की जिन्दगी खतरे में पड़ जायेगी। सोसायटी की लाइटें और कैमरे खराब हैं और सडक़ें टूटी हुईं हैं। एलडीए ने निवासियों से गैस घर तक पहुंचाने और इंटरनेट कनेक्शन के नाम पर बड़ी धनराशि वसूली, मगर आज तक यह काम नहीं हो सके। जाहिर है एल एंड टी से मिल रही घूस इतनी बड़ी है कि उसके आगे किसी के निर्देशों का कोई असर नहीं।

4 पीएम ने जब मुख्य सचिव को इस सोसायटी की हालत बताई तो उन्होंने एलडीए के उपाध्यक्ष को खत लिखा। मगर एलडीए के अफसरों पर इस खत का भी कोई असर नहीं पड़ा

हम एलडीए में यहां की खराब हालत के लिए दर्जनों खत लिख चुके हैं, मगर कोई सुनवाई नहीं हुई। हमने कई बार कहा कि जो अनुबंध में लिखा हो उसी के अनुसार हमारी सोसायटी में पेन्टिंग करा दी जाए, मगर यह काम भी नहीं हो सका।
-अजय गुप्ता, सचिव आर डब्ल्यूए, सरस्वती अपार्टमेंंट

भ्रष्टï अभियंता अखिलेश पर मेहरबान अफसर

सीएम ने जब सरस्वती अपार्टमेंट की व्यवस्था को तत्काल ठीक करने के निर्देश दिए तो वहां पर तैनात अवर अभियन्ता से लेकर अधिशासी अभियंता तक थे। यहां सालों से तैनात अवर अभियन्ता अखिलेश जानते थे कि सोसायटी के कामों में रिश्वत नहीं मिल पायेगी, लिहाजा उन्होंने कुछ भी काम नहीं कराया। तब से कई अधिशासी अभियंता बदल गए और अखिलेश अवर अभियंता से सहायक अभियंता बन गए। इनके भ्रष्टïाचार की शिकायत सभी बड़ी अफसरों से हुई मगर यह भ्रष्टï अभियंता आज भी गोमती नगर में ही तैनात है।

Pin It