सिर्फ हमारी पार्टी कहती है ऑनलाइन हो चंदे का हिसाब: वैभव

captureकांग्रेस और भाजपा दोनों के निशाने पर आम आदमी पार्टी इसीलिए रहती है क्योंकि हमारी मांग है कि राजनीतिक दलों को चंदे का हिसाब ऑनलाइन करना चाहिए। हमारी पार्टी ने जो भी चंदा लिया, उसको ऑनलाइन करने की परम्परा शुरू की। कांग्रेस और भाजपा समझ गई कि अगर देश में ये परम्परा शुरू हो गई तो वे हजारों करोड़ का काला धन विदेश में नहीं भेज पायेंगे। इसलिए हम जिन-जिन लोगों का नाम चंदे की सूची में डालते हैं तो पीएम मोदी के इशारे पर आयकर विभाग के लोग उनको परेशान करने पहुंच जाते हैं। देश को जरूरत है कि हर पार्टी अपने एक-एक पैसे के चंदे और खर्च का हिसाब सबके सामने रखे।

Pin It