सदर तहसील में एक दिन के कार्य बहिष्कार पर रहे कर्मचारी

 4पीएम न्यूज़ नेटवर्क
लखनऊ। सदर तहसील के कर्मचारी की पिटाई से नाराज कर्मचारियों ने आरोपी वकीलों की गिरफ्तारी और सुरक्षा संबंघी मांगों को लेकर कार्य बहिष्कार किया। इस मामले को गंभीरता से लेकर कलेक्ट्रेट कर्मचारी संघ ने भी काम काज बंद कर दिया है। इससे आम जनता को परेशानी हो रही है लेकिन प्रशासन मारपीट के मामले में आरोपी अधिवक्ताओं के खिलाफ कोई कार्रवाई नहीं कर रही है। इस कारण कर्मचारियों ने पांच दिन के अंदर मांगे पूरी नहीं होने पर व्यापक बंद की चेतावनी दी है।
सदर तहसील में दो दिन पूर्व कुछ वकीलों ने अपर तहसीलदार के पेशकार शत्रोहन मिश्र से मारपीट की थी। इस मामले में पुलिस ने वकील के खिलाफ रिपोर्ट भी दर्ज कर ली है। लेकिन कर्मचारी अधिवक्ता की गिरफ्तारी जल्द से जल्द करवाने और कर्मचारियों की सुरक्षा के मुद्दे को लेकर कार्य बहिष्कार पर हैं। हड़ताली कर्मचारियों के मुताबिक कैसरबाग से सदर तहसील के देवा रोड लेखपाल प्रशिक्षण केंद्र स्थानांतरण के बाद उम्मीद जताई जा रही थी कि अब शायद अधिवक्ताओं और कर्मचारियों के बीच टकराव बंद हो जाये लेकिन अधिवक्ताओं की गुंडागर्दी यहां भी नहीं थम रही है।
कर्मचारियों का आरोप है कि सदर तहसील में अधिकारी समय नहीं देते हैं जिसके चलते अराजकता का माहौल बन गया है। अधिवक्ता बेखौफ होकर कर्मचारियों के साथ अभद्रता और मारपीट करते हैं। यदि अधिकारी तहसील में मौजूद रहें तो तमाम मामले आसानी से सुलझ सकते हैं। इस संबंध में कर्मचारियों ने जिलाधिकारी को पांच सूत्रीय ज्ञापन भी सौंपा है।

Pin It