शिवरी प्लांट का निरीक्षण, प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड पांच को कोर्ट में पेश करेगा रिपोर्ट

  • कूड़ा निस्तारण में लक्ष्य से काफी पीछे, निगम की टीम भी पहुंची

4पीएम न्यूज़ नेटवर्क
लखनऊ। नगर निगम के अधिकारियों ने सोमवार को शिवरी प्लांट का औचक निरीक्षण किया। जहां प्लांट की चारों यूनिट चलती मिली। कूड़े का निस्तारण हो रहा था। वहीं दूसरी ओर प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड इसकी रिपोर्ट सीधे कोर्ट में पेश करेगा। दरअसल, कंपनी को पहले से अंदेशा था कि निरीक्षण कभी भी हो सकता है। लिहाजा उसने पूरी तैयारियां कर ली थी।
नगर आयुक्त उदयराज सिंह ने प्लांट का निरीक्षण किया। यहां कार्य में सुधार दिखा लेकिन प्लांट की जो गति होनी चाहिए उससे वह कोसों दूर है। प्लांट में कूड़ा नियमित रूप से छह सौ टन निस्तारित हो रहा है और दो से ढाई सौ टन कूड़ा पुराना निस्तारित किया जा रहा है। यहां अभी भी करीब तीस हजार टन कूड़ा डंप पड़ा हुआ है। इसे निस्तारित करने में एजेंसी को तीन माह लग जाएगा। निरीक्षण के दौरान टीम को प्लांट की चारों यूनिट चलती मिलीं। खाद बनाने का काम, प्री सार्टिग यूनिट और कूड़ा छंटनी का काम भी चल रहा था। लेकिन कूड़ा निस्तारण प्रतिदिन 13 सौ मीट्रिक टन होना चाहिए था वह 850 टन ही होता पाया गया। प्रदूषण नियंत्रण कंट्रोल बोर्ड के मुख्य पर्यावरण अधिकारी राजीव उपाध्याय व एसआर सचान के साथ क्षेत्रीय अधिकारी डा. कुलदीप मिश्र ने भी प्लांट का दौरा किया। अधिकारियों के मुताबिक प्लांट पूरी क्षमता से काम करता हुआ नहीं मिला। अफसरों के मुताबिक पांच दिसंबर को कोर्ट में इसका जवाब दिया जाएगा। नगर आयुक्त ने अपर नगर आयुक्त पीके श्रीवास्तव, पर्यावरण अभियंता पंकज भूषण तथा जल निगम व सीएंडडीएस अफसरों के साथ बैठक की, जिसके बाद उन्होंने सीएंडडीएस अफसरों को बार चार्ट बनाने के निर्देश दिए हैं।

Pin It