विधायक राम लौटन ने बीएसपी को कहा अलविदा

टिकट कटने से थे नाराज, पार्टी पर उपेक्षा करने का लगाया आरोप

 4पीएम न्यूज़ नेटवर्क
captureलखनऊ। उत्तर प्रदेश में होने वाले विधानसभा चुनाव से पूर्व बसपा नेताओं का पार्टी से अलग होने का सिलसिला जारी है। मिर्जापुर के विधायक व पूर्व प्रांतीय महासचिव राम लौटन सिंह ने बहुजन समाज पार्टी को अलविदा कह दिया है। उन्होंने पत्रकार वार्ता के दौरान पार्टी छोडऩे के कारणों के संबंध में कहा कि राजकीय सीमेंन्ट फैक्ट्री चुर्क मिर्जापुर में राजपत्रित अधिकारी के पद पर कार्य करते समय वह बसपा के संस्थापक कांशीराम के विचारों से प्रभावित होकर पार्टी से जुड़े थे।
वर्ष 1993 में उत्तर प्रदेश के 12वीं विधानसभा चुनाव के दौरान बहुजन समाज पार्टी के टिकट पर उन्हें विधानसभा का सदस्य चुना गया। पार्टी के द्वारा वर्ष 1997 में संगठन के कार्य को आगे बढ़ाने के लिए प्रान्तीय महासचिव का कार्य सौंपा गया था। पार्टी की तरफ से वर्ष 2007 के विधानसभा आम चुनाव में रायबरेली सदर विधानसभा से चुनाव लड़ा। इसके अलावा मडि़हान विधानसभा क्षेत्र से 2017 का चुनाव लडऩे के लिए 2014 में ही पार्टी ने प्रत्याशी घोषित किया गया था। उन्होंने तीन साल तक अथक प्रयास करते हुए पूरे विधानसभा क्षेत्र के बूथों पर जा-जाकर मजबूत संगठन तैयार कर बसपा के पक्ष में एक मजबूत माहौल तैयार कर दिया, तो विरोधियों को यह कार्य उनके गले से नहीं उतरा। इसके बाद उनके खिलाफ साजिश की गई और 2017 में मडि़हान विधानसभा सीट से मिला टिकट कटवा दिया गया। इसलिए उन्होंने चुनाव के दौरान अपनी उपेक्षा से नाराज होकर बहुजन समाज पार्टी से अलग होने का निर्णय लिया।

Pin It