वातावरण में जहर घोलने के साथ कचरे में भी वृद्धि करते हैं पटाखे

दीपावली आने से पहले ही पटाखों की आवाज सुनाई देने लगी हैं। खुशियां मनाने के लिए पटाखों को फोड़ा तो जाता है लेकिन इन पटाखों से होने वाला प्रदूषण साल दर साल बढ़ता जा रहा है। इसके कारण पर्यावरण लगातार कमजोर हो रहा है। प्रदूषित हवा का लोगों पर क्या प्रभाव पड़ता है, इस पर हमारी संवाददाता ऐशवर्या गुप्ता ने जानी लखनऊवाइट्स की राय…capture

Pin It