रोज-रोज गाड़ी पंचर होने के बहाने नहीं हो सकते: प्रो. एसपी सिंह

  • लविवि के कुलपति का चार्ज संभालते ही सिंह ने व्यवस्था दुरुस्त करने का दिया संकेत

4पीएम न्यूज़ नेटवर्क

captureलखनऊ। प्रो. एसपी सिंह ने लखनऊ विश्वविद्यालय (लविवि) के नये कुलपति पदभार संभालते ही व्यवस्था दुरुस्त करने की योजना भी तैयार कर ली है। उन्होंने सभी विभागाध्यक्षों और शिक्षकों के साथ बैठक में स्पष्ट कर दिया कि छात्रों की कक्षाएं नियमित रूप से चलनी चाहिए। जो शिक्षक गाड़ी पंचर होने और ट्रेन लेट होने का बहाना करके कक्षा में विलंब से पहुंचने की दलीलें देते हैं। उन्हें अपनी कार्यशैली में सुधार करना होगा। रोज-रोज विलंब से आने को लेकर बहानेबाजी नहीं चलेगी।
कुलपति प्रो. एसपी सिंह ने कहा कि व्यवस्थाएं पारदर्शी होंगी मगर कक्षाएं हर कीमत पर चलनी चाहिए। विभाग में जो भी प्रोग्राम किए जाएं वह कक्षाओं के बाद हों। अपनी पढ़ाई के दिनों को याद करते हुए वीसी ने कहा कि उन्होंने भी यहीं से पीजी किया है। कुछ शिक्षक उस समय भी कक्षाएं लेने और पढ़ाने में रुचि नहीं लेते थे। इसलिए विद्यार्थी घंटों इंतजार करते थे। कई बार दो कक्षाएं एक साथ मिलाकर पढ़ाई जाती थी। इसलिए शिक्षक समय से कक्षाओं में पहुंचें और बच्चों को पढ़ायें। इस दौरान कई शिक्षकों ने वीसी के सामने समस्याओं का पिटारा खोल दिया। शिक्षकों ने गंदे शौचालय, पेयजल समस्या व इंटरनेट कनेक्टिविटी की बदहाल हालत बयां की। शिक्षकों में नोकझोंक भी हुई और उन्होंने सुधार के उपाय भी बताए। फिजिक्स विभाग की शिक्षिका डॉ. अंचल श्रीवास्तव ने कहा कि अभिनव गुप्त शोध संस्थान तो बंद ही रहता है। शिक्षाशास्त्र विभाग की शिक्षिका डॉ. किरणलता डंगवाल ने कहा कि विभाग में शौचालय गंदे हैं, साफ पानी की व्यवस्था नहीं। सांख्यिकी विभाग की अध्यक्ष प्रो. शीला मिश्र ने सुझाव दिया कि प्रशासनिक पदों पर रहने वाले शिक्षक दोपहर तीन बजे के बाद कक्षाएं पढ़ाकर ही अपनी ड्यूटी दें। प्रॉक्टर प्रो. निशी पांडेय ने कहा कि यहां विद्यार्थी अपनी छात्रवृत्ति व अन्य कार्यो के लिए बाबुओं की टेबल पर चक्कर लगाते हैं। ऐसे में सिंगल विंडो सिस्टम बनाया जाए। इस पर कुलपति ने कहा कि उन्हें संस्थानों की हालत पता है। बहुत जल्द सबकी समस्याओं का निदान करवाने का प्रयास करेंगे। आज मालवीय सभागार में नये वीसी छात्रों के साथ फेस-टू-फेस मुलाकात करेंगे।

Pin It