राज्यसभा में जोरदार हंगामा, कांग्रेस और बसपा ने नोटबंदी पर सरकार को घेरा

  • कांग्रेस ने कहा, नोटबंदी पर माफी मांगें पीएम, बसपा ने की जेपीसी जांच की मांग

4पीएम न्यूज़ नेटवर्क
captureलखनऊ। संसद में शीतकालीन सत्र का पहला दिन काफी हंगामेदार रहा। इस दौरान नोटबंदी को लेकर राज्यसभा में जोरदार हंगामा हुआ। राज्यसभा में कांग्रेस पार्टी के नेताओं ने मांग की है कि नोट बदलने और निकालने के लिए लाइन में खड़े लोगों का मजाक उड़ाने वाले पीएम को माफी मांगनी चाहिए। बसपा सुप्रीमो मायावती ने नोटबंदी के मामले की जेपीसी जांच करवाने की मांग की है। वहीं लोकसभा में दिवंगत नेताओं को श्रद्धांजलि देने के बाद कार्यवाही कल तक के लिए स्थगित हो गई है।
मायावती ने नोटबंदी के फैसले को जल्दबाजी में उठाया गया कदम बताया और कहा कि सरकार ने फैसला जल्दबाजी में लिया। यह फैसला पूरी तरह राजनीतिक स्वार्थ से प्रेरित है, क्योंकि देश के कई राज्यों में चुनाव होने वाले हैं। उन्होंने कहा कि सरकार के इस फैसले से गरीब जनता के सामने विकट समस्या आ गई है। गरीब जनता भूखों मरने की कगार पर आ गई है। बैंकों में नोट बदलने के लिए लाइन में खड़े लोगों की हालत देखकर तरस आता है। इसलिए बीएसपी ने नोट बंदी पर सदन में चर्चा के लिए नोटिस दिया है। बसपा सुप्रीमो ने कहा कि यह एक संवेदनशील मुद्दा है। हम चाहते हैं कि पीएम राज्यसभा में नोटबंदी पर हो रही बहस में हिस्सा लें। इसके साथ ही मायावती ने वित्त मंत्री अरुण जेटली पर तंज कसते हुए कहा कि जेटली पिछले कुछ दिनों से काफी दुखी दिखाई दे रहे हैं। इस बीच प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने लोकसभा में कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी से मुलाकात की और उनके स्वास्थ्य का हाल जाना। उन्होंने विपक्ष के अन्य नेताओं से भी मुलाकात की है।
जबकि तृणमूल कांग्रेस ने नोटबंदी के खिलाफ संसद परिसर में गांधीजी की प्रतिमा के सामने प्रदर्शन किया। इस मार्च में कई विपक्षी पार्टियों के सांसद मौजूद रहे। वहीं प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने कहा कि सरकार राष्ट्रहित में सभी मुद्दों पर बहस के लिए तैयार हैं।

बैंकों में जमा हो रहा धन उद्योगपतियों को बांट देंगे मोदी: राहुल

कांग्रेस के राष्ट्रीय उपाध्यक्ष राहुल गांधी ने नोटबंदी के मामले में केन्द्र सरकार के खिलाफ बड़ा बयान दिया है। उन्होंने कहा कि नोटबंदी के बाद बैंकों के बाहर लाइन लगाकर जनता जिस नोट को जमा कर रहे हैं, उसे आने वाले समय में मोदी जी 15-20 उद्योगपतियों को बांट देंगे। ये वही उद्योगपति हैं, जिनका सरकार ने कर्ज माफ किया है।
राहुल गांधी ने भिवंडी में एक रैली के दौरान कहा कि आप लोगों को लाइन में लगाया जा रहा है। आपकी जेब से पैसा निकाला जा रहा है। केन्द्र सरकार लोगों को गुलामी की तरफ ले जा रही है। जबकि कांग्रेस की विचारधारा आजादी की विचारधारा है, जिनसे मैं लड़ रहा हूं। लेकिन बीजेपी के लोग हिंदुस्तान को झुकाना चाहते हैं। उनकी यह मंशा कभी भी पूरा नहीं होने दूंगा। राहुल ने कहा कि प्रधानमंत्री जी ने नोटबंदी का निर्णय बिना सोचे समझे लिया है। मगर जो कठिनाई लोगों को हो रही है, उसे तो हल कीजिये। नरेन्द्र मोदी की मां के बैंक में पहुंचकर नोट बदलने के मुद्दे पर कहा कि मेरा और मोदी जी का तरीका अलग है। मैं उनकी माता जी के बारे में कुछ नहीं बोलूंगा।

Pin It