रोते-रोते रामगोपाल यादव ने कहा मुझ पर बेईमानी का आरोप लगाया गया इससे बुरा और क्या

  • भ्रष्टाचार संबंधी आरोप लगाये जाने से हैं बेहद दुखी
  • खुद को अभी भी मानते हैं सपा का सदस्य

 4पीएम न्यूज़ नेटवर्क
11लखनऊ। मुलायम सिंह यादव के चचेरे भाई और सपा के पूर्व राष्ट्रीय महासचिव प्रो.रामगोपाल यादव आज एक प्रेस कांफ्रेस के दौरान रो पड़े। उन्होंने कहा कि मैं समाजवादी पार्टी का संस्थापक सदस्य हूं। पार्टी को लोकप्रिय बनाने और संगठन को मजबूत करने में दिन-रात एक कर दिया। नेताजी के साथ हर सुख-दुख में खड़ा रहा। तमाम संवेदनशील मौकों और मुद्दों पर राजनीतिक निर्णय लेने में नेताजी की मदद की। इसके बावजूद मुझ पर झूठे आरोप लगाकर पार्टी से निष्कासित कर दिया गया। यह अत्यंत दुखद फैसला है, जिससे मुझे बहुत पीड़ा हुई है। लेकिन मैं आज भी खुद को समाजवादी पार्टी का सदस्य मानता हूं। मैं एक समाजवादी हूं। हमेशा समाजवादी ही रहूंगा।
रामगोपाल यादव ने कहा कि यूपी में होने वाले आगामी विधानसभा चुनावों के लिए सपा में टिकटों के बंटवारे के नाम पर मनमानी हो रही है। सपा की तरफ से ऐसे नेताओं को टिकट दिया जा रहा है, जो पार्टी के लिए नुकसानदायक साबित हो सकते हैं। इन नेताओं की वजह से जनता में पार्टी की छवि खराब होने का खतरा भी है। इसको जानते हुए भी टिकटों के बंटवारे का काम गंभीरता से नहीं किया जा रहा है। उन्होंने कहा कि समाजवादी पार्टी से कई नेताओं को असंवैधानिक तरीके से निकाल दिया गया। इसमें मैं भी शामिल हूं, क्योंकि बिना किसी गलती से मुझ पर झूठे आरोप लगाकर 6 साल के लिए पार्टी से निष्कासित कर दिया गया। अपने ऊपर लगे भ्रष्टाचार के आरोपों को याद कर रामगोपाल रो पड़े और उन्होंने कहा कि मुझे बेहद तकलीफ हुई, जब मुझ पर भ्रष्टाचार के आरोप लगाए गए। जबकि मुझे कभी भी मंत्री नहीं बनना और न ही मैं ऐसा कुछ चाहता हूं। इसके बावजूद मेरी इच्छा है कि विधानसभा चुनाव अखिलेश यादव के चेहरे पर लड़ा जाए। यदि ऐसा नहीं हुआ तो आने वाले चुनाव में पार्टी को नुकसान उठाना पड़ सकता है। यदि ऐसा नहीं है, तो पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष खुद इस बात की घोषणा करें कि पार्टी को नुकसान नहीं होगा।

कांग्रेस की हैसियत चवन्नी जैसी: मोदी

  • बेईमानों के खत्म हो गए हैं दिन: पीएम

4पीएम न्यूज़ नेटवर्क
लखनऊ। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने पूर्वांचल के गाजीपुर से भाजपा का चुनावी बिगुल फूंक दिया है। नोटबंदी के बाद उत्तर प्रदेश में पहली जनसभा को संबोधित करते हुए प्रधानमंत्री ने कहा कि गाजीपुर वीरों की धरती है। नोटबंदी के बाद कालेधन वाले नींद की गोलियां खा रहे हैं। कांग्रेस पर निशाना साधते हुए उन्होंने कहा कि कांग्रेस की हैसियत चवन्नी जैसी है।
मोदी ने कहा कि गरीब चैन की नींद सो रहे हैं। आपने भरोसा किया इसलिए आज कालाधन वाले चिंतित हैं। पांच सौ और हजार के नोट बंद कर आपका ही कहा कर रहा हूं। उन्होंने कहा कि आपका प्यार ब्याज सहित लौटाऊंगा। ब्याज समेत विकास लौटाऊंगा। काम शुरू हो गया है। इसे समय सीमा में खत्म कर दूंगा। हिंदुस्तान में पैसों की कमी नहीं है। किसान का शोषण न हो इसकी व्यवस्था की है। किसान अगर बुआई नहीं कर पाया तो भी उसे फसल बीमा की रकम मिलेगी। मैंने जानबूझकर 14 नवंबर का दिन चुना। देश के पहले प्रधानमंत्री पंडित जवाहर लाल नेहरू का नाम लेते हुए मोदी ने कहा कि पंडित जी मैं आपके जन्मदिन पर आपका अधूरा काम पूरा करूंगा। लोग आए गए लेकिन मां गंगा की सफाई नहीं हो सकी। उन्होंने कहा कि यूपी ने देश को कई प्रधानमंत्री दिए। नेहरू के दल के नेता मेरे ऊपर आरोप लगाते हैं। हिंदुस्तान में बेईमानों के लिए कोई कोना नहीं बचा है।

शब्दभेदी एक्सप्रेस को दिखाई हरी झंडी

पीएम नरेंद्र मोदी ने सोमवार को यहां गाजीपुर से कोलकाता जाने वाली शब्दभेदी एक्सप्रेस को हरी झंडी दिखाकर रवाना किया। इसके अलावा उन्होंने यहां 17 प्रोजेक्ट्स का लोकार्पण और शिलान्यास किया। इस मौके पर केंद्रीय रेल राज्य मंत्री मनोज सिन्हा, वित्त राज्य मंत्री संतोष गंगवार, मानव संसाधन राज्य मंत्री डॉ. महेंद्र नाथ पांडेय और गवर्नर राम नाईक मौजूद रहे। यूपी सरकार की ओर से उनकी अगुवाई पंचायत राज मंत्री रामगोविंद चौधरी ने की। गौरतलब है कि यह 3 जून को कैबिनेट से पास हो चुकी 1745 करोड़ रुपए की रेल लाइन प्रोजेक्ट है। यह ताड़ीघाट, गाजीपुर और मऊ को जोड़ेगी।

यह है चाचा नेहरू का बाल दिवस

देश के पहले प्रधानमंत्री पंडित जवाहर लाल नेहरू का आज जन्मदिन है। उनका जन्म दिन बाल दिवस के रूप में मनाया जाता है। बच्चों के बीच वे चाचा नेहरू के नाम से लोकप्रिय थे। लेकिन आजादी के कई दशक बीत जाने के बाद भी गरीब बच्चों की स्थिति में आज तक कोई सुधार नहीं हो सका। आज भी ये बच्चे अपने पेट की भूख शांत करने के लिए मजदूरी करने से लेकर कूड़ा बीनने तक का काम कर रहे हैं। हालांकि इस दौरान कई सरकारें आई और गईं लेकिन इनकी सुध किसी ने नहीं ली। वे जरूरी सुविधाओं तक से वंचित हैं। इसी हकीकत को बयां कर रही हैं तस्वीरें।

Pin It