मुख्यमंत्री अखिलेश यादव ने लांच किया 108 एंबुलेंस एप

  • अब कॉलर स्मार्ट फोन के जरिए खुद रख सकेंगे एंबुलेंस की जानकारी

 4पीएम न्यूज़ नेटवर्क
captureलखनऊ। मुख्यमंत्री अखिलेश यादव ने आज 108 एंबुलेंस सेवा का मोबाइल एप लांच कर प्रदेश की जनता को दीपावली का तोहफा दिया। इस मोबाइल एप के लांच होने के बाद अब कॉलर 108 समाजवादी एंबुलेंस सेवा पर खुद ही आनलाइन निगरानी रख सकते हैं। अब कॉलर जीपीएस के माध्मय से एक क्लिक में एंबुलेंस की न सिर्फ लोकेशन पता कर सकते हैं बल्कि एंबुलेंस किस रास्ते से आ रही है, इसकी जानकारी भी पता कर सकते हैं। इसके लिए प्रदेश सरकार ने एक एंबुलेंस ट्रैकर सिस्टम व वेबपोर्टल तैयार किया है।
मुख्यमंत्री ने आज सुबह अपने सरकारी आवास 5 कालिदास से 108 एंबुलेंस एप का शुभारम्भ किया। उन्होंने कहा कि 108 और 102 एंबुलेंस प्रदेश सरकार की महत्वाकांक्षी योजनाओं में शामिल है। एप की लांचिंग के बाद 108 और 102 के प्रति लोगों का विश्वास और अधिक बढ़ेगा। इस सुविधा का लाभ आम जनता को मिलेगा। आंकड़ों के मुताबिक 108 समाजवादी एंबुलेंस सेवा से अब तक 69 लाख से अधिक लोगों को आपातकालीन सुविधाओं में मदद मिल चुकी है। जबकि डेढ़ करोड़ से अधिक गर्भवती महिलाओं और एक साल तक के बीमार बच्चों को अब तक 102 राष्ट्रीय एंबुलेंस सेवा से नि:शुल्क लाभ मिल चुका है, जो कि अपने आप में एक रिकार्ड है।
सरकार ने मोबाइल एप की ऑन लाइन निगरानी का प्लान बनाया है। इसके लिए वेबपोर्टल भी शुरू किया जा रहा है। प्रदेश में कितनी एंबुलेंस तैयार खड़ी हैं, कितनी मरीजों की सेवा में लगी हुई हैं, की जानकारी मिल सकेगी। स्वास्थ्य विभाग के अफसरों के फोन नंबर और एंबुलेंस के ड्राइवर का मोबाइल नंबर भी दिखाई देगा। इन नंबरों पर फोन करके एंबुलेंस सेवा की हकीकत मालूम की जा सकती है। यानी एंबुलेंस ट्रैकर के जरिए कॉलर पता कर सकता है कि जो एंबुलेंस बुलाई है, उसकी लोकेशन क्या है।

गूगल से भी मिलेगी मदद

108 नंबर एंबुलेंस मोबाइल एप में गूगल मैप भी डाला गया है। स्मार्ट फोन में एप इंस्टॉल करने पर बिना कॉल किए एंबुलेंस बुला सकते हैं। स्मार्ट फोन पर एंबुलेंस किस-किस रास्ते से होकर आपके पास आ रही है। इसका भी पता लग जायेगा। इसके लिए मोबाइल फोन में जीपीएस व लोकेशन को ऑन रखना होगा।

Pin It